Monday, October 23, 2017

Breaking News

   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||

राष्ट्रपति भवन से प्रणब दा की विदाई के समय पीएम मोदी ने प्रणब दा को लिखा खत, पूर्व राष्ट्रपति ने कहा खत ने छू लिया उनका दिल

अंग्वाल न्यूज डेस्क
राष्ट्रपति भवन से प्रणब दा की विदाई के समय पीएम मोदी ने प्रणब दा को लिखा खत, पूर्व राष्ट्रपति ने कहा खत ने छू लिया उनका दिल

नई दिल्ली।

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के पद से मुक्त होने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रणब दा को एक पत्र लिखा था। इस पत्र में पीएम मोदी ने पूर्व राष्ट्रपति की सराहना की है। गुरुवार को पूर्व राष्ट्रपति ने इस पत्र को ​अपने ट्विटर अकाउंट पर शेयर किया। पत्र शेयर करते हुए पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने लिखा कि इस खत ने मेरे दिल को छू लिया है।

इस खत में पीएम मोदी ने लिखा कि किस तरह जब वह दिल्ली में नए थे, तब राष्ट्रपति के रूप में उन्होंने उन्हें गाइड किया था। प्रणब मुखर्जी के ट्वीट के बाद पीएम मोदी ने भी इसका रिप्लाई किया और लिखा कि आपके साथ काम करने में हमेशा ही मज़ा आएगा।


पत्र में मोदी ने प्रणब दा को संबोधित करते हुए लिखा कि आपने हमेशा एक पिता और गुरु की तरह  मेरा साथ दिया। इसके लिए आपका बहुत—बहुत धन्यवाद। आगे उन्होंने लिखा, आप अब एक नई पारी की शुरुआत कर रहे हैं, आपने राष्ट्रपति के तौर पर इस देश को काफी प्रेरित किया है। मोदी ने लिखा कि मैं तीन साल पहले नई दिल्ली में नया था, एक बाहरी था। मेरे लिए यहां पर काम करना एक तरह की चुनौती थी। लेकिन आपने इस दौरान एक पिता की तरह मुझे गाइड किया और मदद की।

पीएम मोदी ने आगे लिखा है, जब मैं लंबी यात्रा कर वापस लौटता था, आप मुझे फोन करके मेरे स्वास्थ्य के बारे में जानकारी लेते थे। तब मेरे अंदर एक नई ऊर्जा भर जाती थी। मोदी ने लिखा कि आपके पास एक लंबा राजनीतिक, आर्थिक, वैश्विक अनुभव है जिसका फायदा मुझे और मेरी सरकार को समय-समय पर मिला। मोदी ने कहा कि हम लोग अलग पार्टी से थे, अलग विचारधाराएं थी, लेकिन फिर भी आपने हमेशा मेरा साथ दिया। उन्होंने लिखा, आपके सहयोग, मार्गदर्शन और प्रेरणा के लिए आपका बहुत धन्यवाद। संसद भवन में आपके विदाई भाषण के दौरान आपके द्वारा मेरे लिए कहे गए शब्दों के लिए आपका एक बार फिर बहुत-बहुत धन्यवाद।

बता दें राष्ट्रपति के रूप में प्रणब मुखर्जी का कार्यक्रम 24 जुलाई को खत्म हो गया है। एनडीए की ओर से उम्मीदवार बनाए गए रामनाथ कोविंद ने 25 जुलाई को देश के नए राष्ट्पति के रूप में शपथ ली थी। इससे पहले भी पीएम ने प्रणब मुखर्जी के सम्मान में डिनर पार्टी दी थी।

Todays Beets: