Tuesday, February 20, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

राष्ट्रपति भवन से प्रणब दा की विदाई के समय पीएम मोदी ने प्रणब दा को लिखा खत, पूर्व राष्ट्रपति ने कहा खत ने छू लिया उनका दिल

अंग्वाल न्यूज डेस्क
राष्ट्रपति भवन से प्रणब दा की विदाई के समय पीएम मोदी ने प्रणब दा को लिखा खत, पूर्व राष्ट्रपति ने कहा खत ने छू लिया उनका दिल

नई दिल्ली।

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के पद से मुक्त होने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रणब दा को एक पत्र लिखा था। इस पत्र में पीएम मोदी ने पूर्व राष्ट्रपति की सराहना की है। गुरुवार को पूर्व राष्ट्रपति ने इस पत्र को ​अपने ट्विटर अकाउंट पर शेयर किया। पत्र शेयर करते हुए पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने लिखा कि इस खत ने मेरे दिल को छू लिया है।

इस खत में पीएम मोदी ने लिखा कि किस तरह जब वह दिल्ली में नए थे, तब राष्ट्रपति के रूप में उन्होंने उन्हें गाइड किया था। प्रणब मुखर्जी के ट्वीट के बाद पीएम मोदी ने भी इसका रिप्लाई किया और लिखा कि आपके साथ काम करने में हमेशा ही मज़ा आएगा।


पत्र में मोदी ने प्रणब दा को संबोधित करते हुए लिखा कि आपने हमेशा एक पिता और गुरु की तरह  मेरा साथ दिया। इसके लिए आपका बहुत—बहुत धन्यवाद। आगे उन्होंने लिखा, आप अब एक नई पारी की शुरुआत कर रहे हैं, आपने राष्ट्रपति के तौर पर इस देश को काफी प्रेरित किया है। मोदी ने लिखा कि मैं तीन साल पहले नई दिल्ली में नया था, एक बाहरी था। मेरे लिए यहां पर काम करना एक तरह की चुनौती थी। लेकिन आपने इस दौरान एक पिता की तरह मुझे गाइड किया और मदद की।

पीएम मोदी ने आगे लिखा है, जब मैं लंबी यात्रा कर वापस लौटता था, आप मुझे फोन करके मेरे स्वास्थ्य के बारे में जानकारी लेते थे। तब मेरे अंदर एक नई ऊर्जा भर जाती थी। मोदी ने लिखा कि आपके पास एक लंबा राजनीतिक, आर्थिक, वैश्विक अनुभव है जिसका फायदा मुझे और मेरी सरकार को समय-समय पर मिला। मोदी ने कहा कि हम लोग अलग पार्टी से थे, अलग विचारधाराएं थी, लेकिन फिर भी आपने हमेशा मेरा साथ दिया। उन्होंने लिखा, आपके सहयोग, मार्गदर्शन और प्रेरणा के लिए आपका बहुत धन्यवाद। संसद भवन में आपके विदाई भाषण के दौरान आपके द्वारा मेरे लिए कहे गए शब्दों के लिए आपका एक बार फिर बहुत-बहुत धन्यवाद।

बता दें राष्ट्रपति के रूप में प्रणब मुखर्जी का कार्यक्रम 24 जुलाई को खत्म हो गया है। एनडीए की ओर से उम्मीदवार बनाए गए रामनाथ कोविंद ने 25 जुलाई को देश के नए राष्ट्पति के रूप में शपथ ली थी। इससे पहले भी पीएम ने प्रणब मुखर्जी के सम्मान में डिनर पार्टी दी थी।

Todays Beets: