Wednesday, August 23, 2017

Breaking News

   मच्छल में घुसपैठ नाकाम, पांच आतंकी ढेर, भारी मात्रा में गोलाबारूद बरामद    ||   जापान के बाद अब अमेरिका के साथ युद्धाभ्यास की तैयारी में भारत    ||   SC में आर्टिकल 370 को हटाने के लिए याचिका दायर, कोर्ट ने दिया केंद्र को नोटिस    ||   राज्यसभा में सिब्बल बोले- छप रहे 1 नंबर के दो नोट, सदी का सबसे बड़ा घोटाला    ||   नीतीश सरकार के मंत्रिमंडल का आज होगा विस्तार, शपथ ले सकते हैं 16 मंत्री    ||   सपा को तगड़ा झटका, बुक्कल नवाब समेत 2 MLC का इस्तीफा, की मोदी-योगी की तारीफ    ||   नगालैंड: शुरहोजेली ने विश्वासमत से पहले ही मानी हार, ज़ेलियांग ने ली CM पद की शपथ    ||   बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा- पार्टी कहेगी तो दे दूंगा इस्तीफा    ||   डोकलाम विवाद: भारतीय सीमा के पास खूब हथियार जमा कर रहा है चीन!    ||   रवि शास्त्री की चाहत- सचिन को मिले भारतीय बल्लेबाजी का जिम्मा    ||

राष्ट्रपति भवन से प्रणब दा की विदाई के समय पीएम मोदी ने प्रणब दा को लिखा खत, पूर्व राष्ट्रपति ने कहा खत ने छू लिया उनका दिल

अंग्वाल न्यूज डेस्क
राष्ट्रपति भवन से प्रणब दा की विदाई के समय पीएम मोदी ने प्रणब दा को लिखा खत, पूर्व राष्ट्रपति ने कहा खत ने छू लिया उनका दिल

नई दिल्ली।

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के पद से मुक्त होने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रणब दा को एक पत्र लिखा था। इस पत्र में पीएम मोदी ने पूर्व राष्ट्रपति की सराहना की है। गुरुवार को पूर्व राष्ट्रपति ने इस पत्र को ​अपने ट्विटर अकाउंट पर शेयर किया। पत्र शेयर करते हुए पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने लिखा कि इस खत ने मेरे दिल को छू लिया है।

इस खत में पीएम मोदी ने लिखा कि किस तरह जब वह दिल्ली में नए थे, तब राष्ट्रपति के रूप में उन्होंने उन्हें गाइड किया था। प्रणब मुखर्जी के ट्वीट के बाद पीएम मोदी ने भी इसका रिप्लाई किया और लिखा कि आपके साथ काम करने में हमेशा ही मज़ा आएगा।


पत्र में मोदी ने प्रणब दा को संबोधित करते हुए लिखा कि आपने हमेशा एक पिता और गुरु की तरह  मेरा साथ दिया। इसके लिए आपका बहुत—बहुत धन्यवाद। आगे उन्होंने लिखा, आप अब एक नई पारी की शुरुआत कर रहे हैं, आपने राष्ट्रपति के तौर पर इस देश को काफी प्रेरित किया है। मोदी ने लिखा कि मैं तीन साल पहले नई दिल्ली में नया था, एक बाहरी था। मेरे लिए यहां पर काम करना एक तरह की चुनौती थी। लेकिन आपने इस दौरान एक पिता की तरह मुझे गाइड किया और मदद की।

पीएम मोदी ने आगे लिखा है, जब मैं लंबी यात्रा कर वापस लौटता था, आप मुझे फोन करके मेरे स्वास्थ्य के बारे में जानकारी लेते थे। तब मेरे अंदर एक नई ऊर्जा भर जाती थी। मोदी ने लिखा कि आपके पास एक लंबा राजनीतिक, आर्थिक, वैश्विक अनुभव है जिसका फायदा मुझे और मेरी सरकार को समय-समय पर मिला। मोदी ने कहा कि हम लोग अलग पार्टी से थे, अलग विचारधाराएं थी, लेकिन फिर भी आपने हमेशा मेरा साथ दिया। उन्होंने लिखा, आपके सहयोग, मार्गदर्शन और प्रेरणा के लिए आपका बहुत धन्यवाद। संसद भवन में आपके विदाई भाषण के दौरान आपके द्वारा मेरे लिए कहे गए शब्दों के लिए आपका एक बार फिर बहुत-बहुत धन्यवाद।

बता दें राष्ट्रपति के रूप में प्रणब मुखर्जी का कार्यक्रम 24 जुलाई को खत्म हो गया है। एनडीए की ओर से उम्मीदवार बनाए गए रामनाथ कोविंद ने 25 जुलाई को देश के नए राष्ट्पति के रूप में शपथ ली थी। इससे पहले भी पीएम ने प्रणब मुखर्जी के सम्मान में डिनर पार्टी दी थी।

Todays Beets: