Friday, April 26, 2019

Breaking News

   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||

लाल किले पर हमले का आरोपी 17 सालों बाद चढ़ा पुलिस के हत्थे, स्पेशल सेल और गुजरात एटीएस ने एयरपोर्ट से पकड़ा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
लाल किले पर हमले का आरोपी 17 सालों बाद चढ़ा पुलिस के हत्थे, स्पेशल सेल और गुजरात एटीएस ने एयरपोर्ट से पकड़ा

नई दिल्ली। नई दिल्ली के लाल किले पर साल 2000 में हुए आतंकी हमले के फरार चल रहे मुख्य आरोपी बिलाल अहमद काहवा को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने गुजरात पुलिस की एटीएस के साथ मिलकर दिल्ली हवाई अड्डे से पकड़ा है। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल पकड़े गए आतंकी से पूछताछ कर रही है। इस संदिग्ध आतंकी के पकड़े जाने के बाद दिल्ली में हाईअलर्ट घोषित कर दिया गया है।

लाल किले पर हमला

गौरतलब है कि बिलाल अहमद काहवा को उस समय पकड़ा गया जब वह दिल्ली से जम्मूकश्मीर जाने के लिए हवाई जहाज का इंतजार कर रहा था। बताया जा रहा है कि इसे साल 2000 में लाल किले पर हुए हमले के आरोप में गिरफ्तार किया है। बता दें कि साल 2000 में 22 दिसंबर को लश्कर ए तैयबा के आतंकियों ने लाल किले पर हमला कर दिया था जिसमें सेना के तीन जवानों की मौत हो गई थी। इसमें ट्रायल कोर्ट में मामला चला जिसमें 11 लोगों को दोषी ठहराया गया था। 

ये भी पढ़ें - सेना दिवस के परेड से पहले बड़ा हादसा, रिहर्सल के दौरान हेलीकाॅप्टर से गिरा जवान, बाल-बाल बची जान


हवाला के जरिए मिले पैसे

यहां बता दें कि जांच में इस बात का भी पता चला था कि हमले को अंजाम देने के लिए कई बैंकों में हवाला के जरिए करीब 29 लाख 50 हजार रुपये जमा कराए गए थे और ये सभी खाते बिलाल अहमद काहवा के ही थे। ऐसा बताया जा रहा है कि इस हमले के दूसरे आरोपी मो. आरिफ उर्फ अशफाक ने सारी रकम खातों में जमा कराई थी।

 

Todays Beets: