Thursday, November 22, 2018

Breaking News

   ऑस्ट्रेलिया के PM मॉरिशन बोले- भारत दुनिया की सबसे तेजी से आगे बढ़ती अर्थव्यवस्था     ||   पश्चिम बंगालः सिलीगुड़ी की तीस्ता नहर में 4 जिंदा मोर्टार सेल बरामद     ||   मुजफ्फरपुर बालिका गृहकांडः कोर्ट ने मंजू वर्मा को 1 दिन की पुलिस हिरासत में भेजा     ||   करतारपुर साहिब कॉरिडोर को मंजूरी देने पर CM अमरिंदर ने PM मोदी को कहा- शुक्रिया     ||   करतारपुर कॉरिडोर पर मोदी सरकार की मंजूरी के बाद बोला PAK- जल्द देंगे गुड न्यूज     ||   चौदह दिनों की न्यायिक हिरासत में बिहार की पूर्व मंत्री मंजू वर्मा, कोर्ट में किया था सरेंडर     ||   MP में चुनाव प्रचार के दौरान शख्स ने BJP कैंडिडेट को पहनाई जूतों की माला     ||   बेंगलुरु: गन्ना किसानों के साथ सीएम कुमारस्वामी की बैठक     ||   US में ट्रंप को कोर्ट से झटका, अवैध प्रवासियों को शरण देने से नहीं कर सकते इनकार    ||   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||

लाल किले पर हमले का आरोपी 17 सालों बाद चढ़ा पुलिस के हत्थे, स्पेशल सेल और गुजरात एटीएस ने एयरपोर्ट से पकड़ा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
लाल किले पर हमले का आरोपी 17 सालों बाद चढ़ा पुलिस के हत्थे, स्पेशल सेल और गुजरात एटीएस ने एयरपोर्ट से पकड़ा

नई दिल्ली। नई दिल्ली के लाल किले पर साल 2000 में हुए आतंकी हमले के फरार चल रहे मुख्य आरोपी बिलाल अहमद काहवा को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने गुजरात पुलिस की एटीएस के साथ मिलकर दिल्ली हवाई अड्डे से पकड़ा है। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल पकड़े गए आतंकी से पूछताछ कर रही है। इस संदिग्ध आतंकी के पकड़े जाने के बाद दिल्ली में हाईअलर्ट घोषित कर दिया गया है।

लाल किले पर हमला

गौरतलब है कि बिलाल अहमद काहवा को उस समय पकड़ा गया जब वह दिल्ली से जम्मूकश्मीर जाने के लिए हवाई जहाज का इंतजार कर रहा था। बताया जा रहा है कि इसे साल 2000 में लाल किले पर हुए हमले के आरोप में गिरफ्तार किया है। बता दें कि साल 2000 में 22 दिसंबर को लश्कर ए तैयबा के आतंकियों ने लाल किले पर हमला कर दिया था जिसमें सेना के तीन जवानों की मौत हो गई थी। इसमें ट्रायल कोर्ट में मामला चला जिसमें 11 लोगों को दोषी ठहराया गया था। 

ये भी पढ़ें - सेना दिवस के परेड से पहले बड़ा हादसा, रिहर्सल के दौरान हेलीकाॅप्टर से गिरा जवान, बाल-बाल बची जान


हवाला के जरिए मिले पैसे

यहां बता दें कि जांच में इस बात का भी पता चला था कि हमले को अंजाम देने के लिए कई बैंकों में हवाला के जरिए करीब 29 लाख 50 हजार रुपये जमा कराए गए थे और ये सभी खाते बिलाल अहमद काहवा के ही थे। ऐसा बताया जा रहा है कि इस हमले के दूसरे आरोपी मो. आरिफ उर्फ अशफाक ने सारी रकम खातों में जमा कराई थी।

 

Todays Beets: