Wednesday, January 23, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

लाल किले पर हमले का आरोपी 17 सालों बाद चढ़ा पुलिस के हत्थे, स्पेशल सेल और गुजरात एटीएस ने एयरपोर्ट से पकड़ा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
लाल किले पर हमले का आरोपी 17 सालों बाद चढ़ा पुलिस के हत्थे, स्पेशल सेल और गुजरात एटीएस ने एयरपोर्ट से पकड़ा

नई दिल्ली। नई दिल्ली के लाल किले पर साल 2000 में हुए आतंकी हमले के फरार चल रहे मुख्य आरोपी बिलाल अहमद काहवा को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने गुजरात पुलिस की एटीएस के साथ मिलकर दिल्ली हवाई अड्डे से पकड़ा है। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल पकड़े गए आतंकी से पूछताछ कर रही है। इस संदिग्ध आतंकी के पकड़े जाने के बाद दिल्ली में हाईअलर्ट घोषित कर दिया गया है।

लाल किले पर हमला

गौरतलब है कि बिलाल अहमद काहवा को उस समय पकड़ा गया जब वह दिल्ली से जम्मूकश्मीर जाने के लिए हवाई जहाज का इंतजार कर रहा था। बताया जा रहा है कि इसे साल 2000 में लाल किले पर हुए हमले के आरोप में गिरफ्तार किया है। बता दें कि साल 2000 में 22 दिसंबर को लश्कर ए तैयबा के आतंकियों ने लाल किले पर हमला कर दिया था जिसमें सेना के तीन जवानों की मौत हो गई थी। इसमें ट्रायल कोर्ट में मामला चला जिसमें 11 लोगों को दोषी ठहराया गया था। 

ये भी पढ़ें - सेना दिवस के परेड से पहले बड़ा हादसा, रिहर्सल के दौरान हेलीकाॅप्टर से गिरा जवान, बाल-बाल बची जान


हवाला के जरिए मिले पैसे

यहां बता दें कि जांच में इस बात का भी पता चला था कि हमले को अंजाम देने के लिए कई बैंकों में हवाला के जरिए करीब 29 लाख 50 हजार रुपये जमा कराए गए थे और ये सभी खाते बिलाल अहमद काहवा के ही थे। ऐसा बताया जा रहा है कि इस हमले के दूसरे आरोपी मो. आरिफ उर्फ अशफाक ने सारी रकम खातों में जमा कराई थी।

 

Todays Beets: