Saturday, November 25, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

तेल की बढ़ती कीमतों से धर्मेंद्र प्रधान ने पल्ला झाड़ा, कहा-तेल कंपनियों के काम में सरकार दखल नहीं देगी

अंग्वाल संवाददाता
तेल की बढ़ती कीमतों से धर्मेंद्र प्रधान ने पल्ला झाड़ा, कहा-तेल कंपनियों के काम में सरकार दखल नहीं देगी

नई दिल्ली । पेट्रोल की कीमतों में बेतहाशा वृद्धि को लेकर देश में मचे हल्ले के बीच बुधवार को पेट्रोलियम मंत्री धमेंद्र प्रधान ने सरकार का बचाव करते हुए इस मुद्दे से अपना पल्ला झाड़ लिया है। उन्होंने कहा कि सरकार तेल कंपनियों के मामले में हस्तक्षेप नहीं करेगी। हालांकि उन्होंने कहा कि कच्चे तेल के दामों में इन दिनों गिरावट आई है लेकिन हार्बी  और इरमा तूफान के चलते पेट्रोलियम पदार्थों के दाम बढ़े हुए हैं। ऐसे में आने वाले कुछ दिनों में तेल की कीमतों में गिरावट आएगी। उन्होंने कीमतों को काबू में लाने का रास्ता जीएसटी को बताया। 

इन दिनों सोशल मीडिया से लेकर आम मंचों पर पेट्रोल के बढ़ते दामों को लेकर सरकार की जमकर किरकिरी हो रही है। पेट्रोल के दामों की तुलना एक बार फिर पूर्व की यूपीए सरकार के समय से की जा रही है, जिसमें दरें आज की तुलना में कम थीं। सरकार को लेकर उठते सवालों के बीच पेट्रोलियम मंत्री धमेंद्र प्रधान का बयान आया है। उन्होंने कहा- हम चाहते हैं कि पेट्रोलियम को जीएसटी के अंतर्गत लाया जाए। वित्त मंत्री इस बारे में राज्य सरकारों से कह चुके हैं। यदि इसे जीएसटी के तहत लाया जाता है तो कीमतों का पूर्वानुमान हो सकेगा। अभी टैक्सेस के कारण मुंबई और दिल्ली में पेट्रोल की कीमतों में बड़ा अंतर होता है। हमने जीएसटी काउंसिल से मांग की है कि पेट्रोलियम को भी जीएसटी के तहत लाया जाए। यदि ऐसा होता है तो आम जनता तो सहूलियत होगी।


हालांकि उन्होंने साफ कर दिया कि सरकार तेल कंपनियों के मामले में दखल नहीं देगी। इन दिनों रिफाइनरी और ट्रांसपोटेशन की लागत काफी बढ़ गई है। बावजूद इसके सरकार अपने स्तर पर लोगों को राहत देने के लिए प्रयासरत है। उन्होंने कहा कि सरकार ने एक्साइड ड्यूटी घटाने का फैसला लिया है, जिसकी मदद से आने वाले दिनों में लोगों को राहत महसूस होगी। 

Todays Beets: