Saturday, January 20, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

तेल की बढ़ती कीमतों से धर्मेंद्र प्रधान ने पल्ला झाड़ा, कहा-तेल कंपनियों के काम में सरकार दखल नहीं देगी

अंग्वाल संवाददाता
तेल की बढ़ती कीमतों से धर्मेंद्र प्रधान ने पल्ला झाड़ा, कहा-तेल कंपनियों के काम में सरकार दखल नहीं देगी

नई दिल्ली । पेट्रोल की कीमतों में बेतहाशा वृद्धि को लेकर देश में मचे हल्ले के बीच बुधवार को पेट्रोलियम मंत्री धमेंद्र प्रधान ने सरकार का बचाव करते हुए इस मुद्दे से अपना पल्ला झाड़ लिया है। उन्होंने कहा कि सरकार तेल कंपनियों के मामले में हस्तक्षेप नहीं करेगी। हालांकि उन्होंने कहा कि कच्चे तेल के दामों में इन दिनों गिरावट आई है लेकिन हार्बी  और इरमा तूफान के चलते पेट्रोलियम पदार्थों के दाम बढ़े हुए हैं। ऐसे में आने वाले कुछ दिनों में तेल की कीमतों में गिरावट आएगी। उन्होंने कीमतों को काबू में लाने का रास्ता जीएसटी को बताया। 

इन दिनों सोशल मीडिया से लेकर आम मंचों पर पेट्रोल के बढ़ते दामों को लेकर सरकार की जमकर किरकिरी हो रही है। पेट्रोल के दामों की तुलना एक बार फिर पूर्व की यूपीए सरकार के समय से की जा रही है, जिसमें दरें आज की तुलना में कम थीं। सरकार को लेकर उठते सवालों के बीच पेट्रोलियम मंत्री धमेंद्र प्रधान का बयान आया है। उन्होंने कहा- हम चाहते हैं कि पेट्रोलियम को जीएसटी के अंतर्गत लाया जाए। वित्त मंत्री इस बारे में राज्य सरकारों से कह चुके हैं। यदि इसे जीएसटी के तहत लाया जाता है तो कीमतों का पूर्वानुमान हो सकेगा। अभी टैक्सेस के कारण मुंबई और दिल्ली में पेट्रोल की कीमतों में बड़ा अंतर होता है। हमने जीएसटी काउंसिल से मांग की है कि पेट्रोलियम को भी जीएसटी के तहत लाया जाए। यदि ऐसा होता है तो आम जनता तो सहूलियत होगी।


हालांकि उन्होंने साफ कर दिया कि सरकार तेल कंपनियों के मामले में दखल नहीं देगी। इन दिनों रिफाइनरी और ट्रांसपोटेशन की लागत काफी बढ़ गई है। बावजूद इसके सरकार अपने स्तर पर लोगों को राहत देने के लिए प्रयासरत है। उन्होंने कहा कि सरकार ने एक्साइड ड्यूटी घटाने का फैसला लिया है, जिसकी मदद से आने वाले दिनों में लोगों को राहत महसूस होगी। 

Todays Beets: