Tuesday, July 17, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

तेल की बढ़ती कीमतों से धर्मेंद्र प्रधान ने पल्ला झाड़ा, कहा-तेल कंपनियों के काम में सरकार दखल नहीं देगी

अंग्वाल संवाददाता
तेल की बढ़ती कीमतों से धर्मेंद्र प्रधान ने पल्ला झाड़ा, कहा-तेल कंपनियों के काम में सरकार दखल नहीं देगी

नई दिल्ली । पेट्रोल की कीमतों में बेतहाशा वृद्धि को लेकर देश में मचे हल्ले के बीच बुधवार को पेट्रोलियम मंत्री धमेंद्र प्रधान ने सरकार का बचाव करते हुए इस मुद्दे से अपना पल्ला झाड़ लिया है। उन्होंने कहा कि सरकार तेल कंपनियों के मामले में हस्तक्षेप नहीं करेगी। हालांकि उन्होंने कहा कि कच्चे तेल के दामों में इन दिनों गिरावट आई है लेकिन हार्बी  और इरमा तूफान के चलते पेट्रोलियम पदार्थों के दाम बढ़े हुए हैं। ऐसे में आने वाले कुछ दिनों में तेल की कीमतों में गिरावट आएगी। उन्होंने कीमतों को काबू में लाने का रास्ता जीएसटी को बताया। 

इन दिनों सोशल मीडिया से लेकर आम मंचों पर पेट्रोल के बढ़ते दामों को लेकर सरकार की जमकर किरकिरी हो रही है। पेट्रोल के दामों की तुलना एक बार फिर पूर्व की यूपीए सरकार के समय से की जा रही है, जिसमें दरें आज की तुलना में कम थीं। सरकार को लेकर उठते सवालों के बीच पेट्रोलियम मंत्री धमेंद्र प्रधान का बयान आया है। उन्होंने कहा- हम चाहते हैं कि पेट्रोलियम को जीएसटी के अंतर्गत लाया जाए। वित्त मंत्री इस बारे में राज्य सरकारों से कह चुके हैं। यदि इसे जीएसटी के तहत लाया जाता है तो कीमतों का पूर्वानुमान हो सकेगा। अभी टैक्सेस के कारण मुंबई और दिल्ली में पेट्रोल की कीमतों में बड़ा अंतर होता है। हमने जीएसटी काउंसिल से मांग की है कि पेट्रोलियम को भी जीएसटी के तहत लाया जाए। यदि ऐसा होता है तो आम जनता तो सहूलियत होगी।


हालांकि उन्होंने साफ कर दिया कि सरकार तेल कंपनियों के मामले में दखल नहीं देगी। इन दिनों रिफाइनरी और ट्रांसपोटेशन की लागत काफी बढ़ गई है। बावजूद इसके सरकार अपने स्तर पर लोगों को राहत देने के लिए प्रयासरत है। उन्होंने कहा कि सरकार ने एक्साइड ड्यूटी घटाने का फैसला लिया है, जिसकी मदद से आने वाले दिनों में लोगों को राहत महसूस होगी। 

Todays Beets: