Wednesday, August 15, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

अपने ही विश्वविद्यालय में मुख्य अतिथि बनकर पहुंचे राष्ट्रपति, दीक्षांत समारोह में की शिकरत

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अपने ही विश्वविद्यालय में मुख्य अतिथि बनकर पहुंचे राष्ट्रपति, दीक्षांत समारोह में की शिकरत

नई दिल्ली। उत्तरप्रदेश के डाॅक्टर भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय का 83वां दीक्षांत समारोह एक यादगार क्षण बन गया। इस विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह को अविस्मरणीय राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द की मौजूदगी ने बनाया। बता दें कि महामहिम भी एक जमाने में इसी विश्वविद्यालय के छात्र रहे हैं। यह बात उत्तरप्रदेश के राज्यपाल रामनाईक ने अपने संबोधन में कही है।

राष्ट्रपति ने की पढ़ाई

गौरतलब है कि रामनाईक ने कहा कि राज्य के लिए बड़ी बात यह है कि राष्ट्रपति बनने के बाद वे पहली बार दीक्षांत समारोह में भाग लेने प्रदेश में आए हैं। उन्होंने छात्रों को संबोधित करते हुए इस बात की जानकारी दी कि रामनाथ कोविंद कभी इसी अंबेडकर विश्वविद्यालय के छात्र रहे हैं। ऐसे में राष्ट्रपति के तौर पर उनका इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि बनकर आना अपने आप में बड़ी बात है। 


ये भी पढ़ें - 

डीएवी काॅलेज से की पढ़ाई      

बता दें कि कानपुर देहात के गांव में जन्मे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अपनी उच्च शिक्षा कानपुर के डीएवी काॅलेज से पूरी की थी। उस समय डीएवी काॅलेज आगरा विश्वविद्यालय (वर्तमान में डा. भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय) से ही संबद्ध था। वर्तमान में यह कानपुर विश्वविद्यालय (छत्रपति शाहूजी महाराज विश्वविद्यालय) का काॅलेज है। छात्रों और प्राध्यापकों को संबोधित करते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि अंबेडकर विश्वविद्यालय एक मात्र ऐसा विश्वविद्यालय है जिसने देश को 2 राष्ट्रपति के साथ कई राज्यपाल भी दिए हैं।  

Todays Beets: