Friday, December 14, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

इसरो मानव अंतरिक्ष मिशन के लिए तैयार, अब केवल राजनीतिक मंजूरी की जरूरत 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
इसरो मानव अंतरिक्ष मिशन के लिए तैयार, अब केवल राजनीतिक मंजूरी की जरूरत 

नई दिल्ली । भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने मानव अंतरिक्ष मिशन के लिए आवश्यक सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं। इसरो के एक वरिष्ठ प्रोफेसर के मुताबिक उनकी ओर से मानव मिशन की तैयारियां पूरी कर ली गई हैं अब इसके लिए केवल राजनीतिक मंजूरी की जरूरत है। शुक्रवार को चौथे ओआरएफ-कल्पना चावला स्पेस डायलॉग पर प्रकाश डालने के लिए दिल्ली में मौजूद प्रोफेसर बी एन सुरेश ने इस दौरान कहा कि इसरो की टीम मानव मिशन के लिए तैयार है। प्रो. सुरेश ने कहा कि इसरो अब भारी लिफ्ट लॉन्च वाहन बनाने पर काम कर रहा है, जो पांच से आठ टन लोड उठा सकता है। इन वाहनों का समर्थन बेहद शक्तिशाली क्रायो इंजन क्लस्टर द्वारा किया जाएगा। वहीं छोटे उपग्रहों के बढ़ते उपयोग को देखते हुए, भारत भी एक छोटे उपग्रह प्रक्षेपण वाहन पर भी काम कर रहा है। 

बता दें कि इस साल इस वार्ता को गुरुवार रात लेफ्टिनेंट जनरल अमित शर्मा, पूर्व कमांडर-इन-चीफ, स्ट्रैटेजिक फोर्स कमांड और भारत के दूरसंचार नियामक प्राधिकरण के सचिव सुनील गुप्ता के विशेष उद्घाटन संबोधन के साथ शुरू किया था। इस दौरन ओआरएफ के अध्यक्ष सुन्जय जोशी ने स्वागत भाषण दिया। वहीं प्रोफेसर बी एन सुरेश ने इस दौरान कहा कि इसरो अब भारी लिफ्ट लॉन्च वाहन बनाने पर काम कर रहा है। भारी लिफ्ट लॉन्च वाहनों की भविष्य की योजनाएं भारत को भारी प्लेटफार्मों और मानव अंतरिक्ष मिशनों को लॉन्च करने की अनुमति देने के लिए बनाई गई हैं। 


इसी क्रम में प्रो, सुरेश ने कहा कि इसरो अंतरिक्ष कैप्सूल की वसूली करने और दोबारा से उपयोग में लाए जाने वाले लॉन्च वाहन विकसित करने के लिए भी काम कर रहा है। इसकी मदद से लागत को कम करने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि भारत की सभी लांच क्षमताओं को नागरिक कार्यक्रम के साथ जोड़ रहे हैं।

Todays Beets: