Saturday, December 16, 2017

Breaking News

   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद     ||   अश्विन ने लगाया विकेटों का सबसे तेज 'तिहरा शतक', लिली को छोड़ा पीछे     ||   पूरा हुआ सपना चौधरी का 'सपना', बेघर होने के साथ बॉलीवुड से मिला बड़ा ऑफर    ||   PAK सरकार ने शर्तें मानीं, प्रदर्शन खत्म करने कानून मंत्री को देना पड़ा इस्तीफा    ||   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||

अयोध्या में 'नव्य योजना' के ऐलान के साथ ही विरोध शुरू, विपक्षी बोले-चुनाव आते ही श्रीराम की फिर याद

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अयोध्या में

लखनऊ । यूपी में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए योगी सरकार की 'नव्य अयोध्या' योजना का ऐलान करने के साथ ही इसे लेकर विरोध भी शुरू हो गया है। योगी सरकार अयोध्या में धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए नए अयोध्या प्रोजेक्ट को विकसित करने जा रही है, जिसके तहत अयोध्या में भगवान श्रीराम की मूर्ति लगाने की भी बात है। हालांकि योगी सरकार के इस फैसले को विपक्षी दलों ने टेढ़ी नजर से देखना शुरू कर दिया है। सपा ने भाजपा पर आरोप लगाया है कि एक बार फिर चुनावों के नजदीक आते ही भाजपा को श्रीराम याद आ गए हैं। वहीं बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी के कन्वेनर जफरयाब जिलानी ने कहा कि सरकार किसी धर्म विशेष के लिए काम नहीं कर सकती। 

ये भी पढ़ें- आनंदी बेन ने सोनिया-प्रियंका से पूछा- कैसा लगा राहुल का 'संघ में महिलाओं को कच्छा पहने नहीं देखा' वाला बयान

असल में योगी सरकार ने राज्य में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए 'नव्य अयोध्या' का ऐलान किया है। बताया जा रहा है कि इस योजना के तहत अयोध्या में श्रीराम की एक बहुत ऊंची प्रतिमा लगाई जाएगी। अयोध्या को पर्यटन के लिहाज से एक बड़ा केंद्र बनाया जाएगा। अयोध्या भगवान श्रीराम की जन्मभूमि है। इसलिए अयोध्या का पूरे विश्व में एक धार्मिक महत्व है।  अयोध्या में धार्मिक पर्यटन की अपार संभावनाएं देखते हुए ही नव्य अयोध्या को लागू किए जाने की योजना है। हालांकि सरकार की इस योजा का ऐलान होने के साथ ही इसका विरोध भी शुरू हो गया है। 

ये भी पढ़ें- पंचकुला कोर्ट ने हनीप्रीत को फिर से 3 दिन की पुलिस रिमांड पर भेजा, जांच में नहीं कर रही सहयोग


ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य और बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी के कन्वेनर जफरयाब जिलानी ने कहा कि सरकार किसी धर्म विशेष के लिए काम नहीं कर सकती, लेकिन योगी सरकार की 'नव्य अयोध्या' योजना सरकार पर्यटन के मद्देनजर ला रही है तो हमें कोई दिक्कत नहीं। अयोध्या ऐतिहासिक नगरी है, वहां रोजगार का अन्य साधन भी मौजूद नहीं है, इसलिए पर्यटन के बढ़ावे के लिए सरकार कोई काम कर रही है तो ठीक है. जफरयाब ने कहा कि लेकिन सरकार को यह ध्यान रखना होगा कि वह किसी धर्म विशेष के लिए काम नहीं कर सकती है। 

ये भी पढ़ें- राहुल गांधी की फिर फिसली जुबान, कटाक्ष करते हुए मोदी की जगह मुुंह से निकला मनमोहन का नाम

हालांकि सपा प्रवक्ता सुनील सिंह साजन ने कहा कि भाजपा श्रीराम के नाम पर अभी भी राजनीति करना चाह रही है। उन्होंने कहा, भाजपा चुनाव नजदीक आने पर ही अयोध्या की क्यों याद आती है। भाजपा के मुख्यमंत्रियों ने अगर सूबे में काम किया होता तो उन्हें आज राम के नाम की राजनीति नहीं करनी पड़ती। वहीं भाजपा प्रदेश प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी ने कहा- इस देश में नेता जीवित रहकर अपनी मूर्ति बनाते रहे हैं। उस पर आपत्ति नहीं हैं, तो भगवान श्रीराम की मूर्ति पर आपत्ति क्यों है।

ये भी पढ़ें- येचुरी ने मोदी पर हमला करते हुए कहा- योजना की घोषणा करो, चारों ओर अपनी तस्वीर लगाओ, भाषण दो फिर भूल जाओ

Todays Beets: