Thursday, November 22, 2018

Breaking News

   ऑस्ट्रेलिया के PM मॉरिशन बोले- भारत दुनिया की सबसे तेजी से आगे बढ़ती अर्थव्यवस्था     ||   पश्चिम बंगालः सिलीगुड़ी की तीस्ता नहर में 4 जिंदा मोर्टार सेल बरामद     ||   मुजफ्फरपुर बालिका गृहकांडः कोर्ट ने मंजू वर्मा को 1 दिन की पुलिस हिरासत में भेजा     ||   करतारपुर साहिब कॉरिडोर को मंजूरी देने पर CM अमरिंदर ने PM मोदी को कहा- शुक्रिया     ||   करतारपुर कॉरिडोर पर मोदी सरकार की मंजूरी के बाद बोला PAK- जल्द देंगे गुड न्यूज     ||   चौदह दिनों की न्यायिक हिरासत में बिहार की पूर्व मंत्री मंजू वर्मा, कोर्ट में किया था सरेंडर     ||   MP में चुनाव प्रचार के दौरान शख्स ने BJP कैंडिडेट को पहनाई जूतों की माला     ||   बेंगलुरु: गन्ना किसानों के साथ सीएम कुमारस्वामी की बैठक     ||   US में ट्रंप को कोर्ट से झटका, अवैध प्रवासियों को शरण देने से नहीं कर सकते इनकार    ||   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||

एनआरसी को लेकर भाजपा महासचिव का बड़ा बयान, कहा-अवैध लोगों को देश से निर्वासित किया जाएगा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
एनआरसी को लेकर भाजपा महासचिव का बड़ा बयान, कहा-अवैध लोगों को देश से निर्वासित किया जाएगा

नई दिल्ली। उत्तरपूर्वी राज्य असम में चल रहे नेशनल रजिस्टर सिटीजंस (एनआरसी) पर हो रही बहस के बीच भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव ने एक बड़ा बयान दिया है। ‘‘एनआरसी- डिफेंडिंग द बॉर्डर्स, सिक्योरिंग द कल्चर’’ विषय पर आयोजित एक सेमिनार में राम माधव ने कहा कि एनआरसी की अंतिम सूची में जिनका नाम शामिल नहीं है उनके मताधिकार को छीन लिया जाएगा। इस सेमिनार में असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल भी मौजूद थे। असम के मुख्यमंत्री ने एनआरसी को पूरे देश में लागू करने का सुझाव दिया है।

गौरतलब है कि असम में चल रहे एनआरसी को लेकर पूरे देश में एक बहस छिड़ी हुई है। आपको बता दें कि पिछले दिनों एनआरसी के दूसरे ड्राफ्ट में करीब 40 लाख लोगों के नाम शामिल नहीं हो पाए थे। इस बात को लेकर राजनीतिक हमला करते हुए तृणमूल कांग्रेस की नेता ममता बनर्जी ने भारतीय जनता पार्टी पर देश को बांटने का आरोप लगाया था और कहा था कि ऐसा होने से देश में गृहयुद्ध हो सकता है।

ये भी पढ़ें - हैदराबाद विस्फोट मामले में मेट्रोपोलिटन सेशन न्यायालय ने सुनाया फैसला, 2 को सजा ए मौत और 1 को...


यहां बता दें कि सेमिनार को संबोधित करते हुए राम माधव ने कहा कि 1985 में हुए ‘‘असम समझौते’’ के तहत एनआरसी को अपडेट किया जा रहा है, जिसके तहत सरकार ने राज्य के सभी अवैध प्रवासियों का पता लगाने और उन्हें देश से बाहर निकालने की प्रतिबद्धता जाहिर की थी। सेमिनार को संबोधित करते हुए असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने कहा कि भारत के वास्तविक नागरिकों को अपनी नागरिकता साबित करने के लिए पर्याप्त अवसर मिलेगा और एनआरसी की अंतिम सूची में उनके नाम शामिल होंगे। सोनोवाल ने पूरे देश में एनआरसी को लागू करने का सुझाव दिया है।

 

Todays Beets: