Friday, April 26, 2019

Breaking News

   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||

एनआरसी को लेकर भाजपा महासचिव का बड़ा बयान, कहा-अवैध लोगों को देश से निर्वासित किया जाएगा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
एनआरसी को लेकर भाजपा महासचिव का बड़ा बयान, कहा-अवैध लोगों को देश से निर्वासित किया जाएगा

नई दिल्ली। उत्तरपूर्वी राज्य असम में चल रहे नेशनल रजिस्टर सिटीजंस (एनआरसी) पर हो रही बहस के बीच भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव ने एक बड़ा बयान दिया है। ‘‘एनआरसी- डिफेंडिंग द बॉर्डर्स, सिक्योरिंग द कल्चर’’ विषय पर आयोजित एक सेमिनार में राम माधव ने कहा कि एनआरसी की अंतिम सूची में जिनका नाम शामिल नहीं है उनके मताधिकार को छीन लिया जाएगा। इस सेमिनार में असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल भी मौजूद थे। असम के मुख्यमंत्री ने एनआरसी को पूरे देश में लागू करने का सुझाव दिया है।

गौरतलब है कि असम में चल रहे एनआरसी को लेकर पूरे देश में एक बहस छिड़ी हुई है। आपको बता दें कि पिछले दिनों एनआरसी के दूसरे ड्राफ्ट में करीब 40 लाख लोगों के नाम शामिल नहीं हो पाए थे। इस बात को लेकर राजनीतिक हमला करते हुए तृणमूल कांग्रेस की नेता ममता बनर्जी ने भारतीय जनता पार्टी पर देश को बांटने का आरोप लगाया था और कहा था कि ऐसा होने से देश में गृहयुद्ध हो सकता है।

ये भी पढ़ें - हैदराबाद विस्फोट मामले में मेट्रोपोलिटन सेशन न्यायालय ने सुनाया फैसला, 2 को सजा ए मौत और 1 को...


यहां बता दें कि सेमिनार को संबोधित करते हुए राम माधव ने कहा कि 1985 में हुए ‘‘असम समझौते’’ के तहत एनआरसी को अपडेट किया जा रहा है, जिसके तहत सरकार ने राज्य के सभी अवैध प्रवासियों का पता लगाने और उन्हें देश से बाहर निकालने की प्रतिबद्धता जाहिर की थी। सेमिनार को संबोधित करते हुए असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने कहा कि भारत के वास्तविक नागरिकों को अपनी नागरिकता साबित करने के लिए पर्याप्त अवसर मिलेगा और एनआरसी की अंतिम सूची में उनके नाम शामिल होंगे। सोनोवाल ने पूरे देश में एनआरसी को लागू करने का सुझाव दिया है।

 

Todays Beets: