Wednesday, December 19, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

एक बार फिर से जनता की जेब में लगेगी ‘आग’, पेट्रोल की कीमत में हुआ इजाफा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
एक बार फिर से जनता की जेब में लगेगी ‘आग’, पेट्रोल की कीमत में हुआ इजाफा

नई दिल्ली। अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों का असर एक बार फिर से आम लोगों को परेशान करने लगा है। मंगलवार को पेट्रोल और डीजल की कीमतों में इजाफा हो गया। पेट्रोल की कीमत 77 रुपये प्रतिलीटर हो गया जबकि डीजल की कीमत 68.50 रुपये प्रतिलीटर हो गया। पेट्रोल-डीजल के खुदरा दाम 30 जुलाई से लगातार बढ़ रहे हैं। दिल्ली में पिछले नौ दिन में पेट्रोल 90 पैसे व डीजल 88 पैसे महंगा हो चुका है।

गौरतलब है कि सरकारी क्षेत्र की तेल कंपनियों ने जून 2017 से 15 दिन के बजाय दैनिक आधार पर पेट्रोल-डीजल के दाम तय कर रही हैं। तब से हर दिन कच्चे तेल के हिसाब से अंतरराष्ट्रीय बाजार के दाम में बदलाव किया जाता है। यहां बता दें कि 9 जून के बाद से ही पेट्रोल की कीमत 77 रुपये प्रतिलीटर से कम थी।

ये भी पढ़ें - मरीना बीच पर ही होगा करुणानिधि का अंतिम संस्कार, चेन्नई की सड़कों पर उमड़ा जनसैलाब


यहां बता दें कि इस साल 29 मई को पेट्रोल दिल्ली में 78.43 रुपये प्रति लीटर पर पहुंच गया था जो इसका अब तक का सबसे ऊंचा स्तर है। उस दिन डीजल के दाम भी 69.30 रुपये की रिकार्ड ऊंचाई पर पहुंच गया था।

 

अमेरिका के द्वारा ईरान पर प्रतिबंध लागू किए जाने के बाद से कच्चा तेल फिर 75 डॉलर पहुंच गया है। विश्लेषकों का कहना है कि नवंबर में इन प्रतिबंधों को लागू करने की समयसीमा खत्म होने पर तेल 90 डॉलर प्रति बैरल तक जा सकता है।

Todays Beets: