Monday, September 24, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

जीएसटी के दायरे में आएंगे रियल इस्टेट कारोबारी, अब नहीं कर पाएंगे टैक्स की चोरी 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
जीएसटी के दायरे में आएंगे रियल इस्टेट कारोबारी, अब नहीं कर पाएंगे टैक्स की चोरी 

नई दिल्ली। रियल इस्टेट में कारोबार करने वालों के लिए टैक्स की चोरी करना अब आसान नहीं होगी। भारत सरकार जल्द ही इस कारोबार को जीएसटी के दायरे में लाने जा रही है। अगर ऐसा होता है तो घरों की खरीद-बिक्री करने वालों के लिए थोड़ी मुश्किलें पैदा हो सकती हैं। बोस्टन के हार्वर्ड यूनीवर्सिटी में ‘भारत में कर सुधार’ विषय पर व्याख्यान देते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि अभी फिलहाल बिल्डर बेचे गए घर पर जीएसटी देते हैं, जिस पर उन्हें इनपुट टैक्स क्रेडिट का लाभ मिलता है लेकिन दो व्यक्ति मिलकर अगर यह काम कर रहे हैं तो वे फिलहाल जीएसटी के दायरे में नहीं है। अब सरकार इस पर गंभीरता से विचार कर रही है।

टैक्स की चोरी पर लगाम

गौरतलब है कि रियल इस्टेट का कारोबार एक ऐसा कारोबार है जहां ज्यादातर काम नकद में होता है। ऐसे में कारोबारी टैक्स की चोरी कर लेते हैं अगर इसे जीएसटी के दायरे में ला दिया जाए तो वे टैक्स की चोरी नहीं कर पाएंगे। जेटली ने हार्वर्ड विश्वविद्यालय में व्याख्यान देते हुए कहा कि इस मामले पर गुवाहाटी में 9 नवंबर को होने वाली जीएसटी की अगली बैठक में चर्चा की जाएगी। 


ये भी पढ़ें - जियो का दिवाली धमाका, 399 रुपये का रिचार्ज कराएं और पाएं 100 फीसदी कैशबैक

बैंकिंग क्षमता का पुनर्निर्माण

यहां बता दें कि व्याख्यान के दौरान जेटली ने कहा कि विश्व की बैंकिंग व्यवस्था काफी तेजी से बदल रही है और ऐसे में हम भारत में बैंकिंग से जुडी समस्या के समाधान के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे हैं। हमें (बैंकिंग क्षेत्र) क्षमता का पुनर्निर्माण करना होगा। निजी क्षेत्र के विस्तार वाले सवाल को जेटली ने सिरे से इंकार कर दिया।

Todays Beets: