Friday, October 20, 2017

Breaking News

   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||

जीएसटी के दायरे में आएंगे रियल इस्टेट कारोबारी, अब नहीं कर पाएंगे टैक्स की चोरी 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
जीएसटी के दायरे में आएंगे रियल इस्टेट कारोबारी, अब नहीं कर पाएंगे टैक्स की चोरी 

नई दिल्ली। रियल इस्टेट में कारोबार करने वालों के लिए टैक्स की चोरी करना अब आसान नहीं होगी। भारत सरकार जल्द ही इस कारोबार को जीएसटी के दायरे में लाने जा रही है। अगर ऐसा होता है तो घरों की खरीद-बिक्री करने वालों के लिए थोड़ी मुश्किलें पैदा हो सकती हैं। बोस्टन के हार्वर्ड यूनीवर्सिटी में ‘भारत में कर सुधार’ विषय पर व्याख्यान देते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि अभी फिलहाल बिल्डर बेचे गए घर पर जीएसटी देते हैं, जिस पर उन्हें इनपुट टैक्स क्रेडिट का लाभ मिलता है लेकिन दो व्यक्ति मिलकर अगर यह काम कर रहे हैं तो वे फिलहाल जीएसटी के दायरे में नहीं है। अब सरकार इस पर गंभीरता से विचार कर रही है।

टैक्स की चोरी पर लगाम

गौरतलब है कि रियल इस्टेट का कारोबार एक ऐसा कारोबार है जहां ज्यादातर काम नकद में होता है। ऐसे में कारोबारी टैक्स की चोरी कर लेते हैं अगर इसे जीएसटी के दायरे में ला दिया जाए तो वे टैक्स की चोरी नहीं कर पाएंगे। जेटली ने हार्वर्ड विश्वविद्यालय में व्याख्यान देते हुए कहा कि इस मामले पर गुवाहाटी में 9 नवंबर को होने वाली जीएसटी की अगली बैठक में चर्चा की जाएगी। 


ये भी पढ़ें - जियो का दिवाली धमाका, 399 रुपये का रिचार्ज कराएं और पाएं 100 फीसदी कैशबैक

बैंकिंग क्षमता का पुनर्निर्माण

यहां बता दें कि व्याख्यान के दौरान जेटली ने कहा कि विश्व की बैंकिंग व्यवस्था काफी तेजी से बदल रही है और ऐसे में हम भारत में बैंकिंग से जुडी समस्या के समाधान के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे हैं। हमें (बैंकिंग क्षेत्र) क्षमता का पुनर्निर्माण करना होगा। निजी क्षेत्र के विस्तार वाले सवाल को जेटली ने सिरे से इंकार कर दिया।

Todays Beets: