Sunday, February 25, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

जीएसटी के दायरे में आएंगे रियल इस्टेट कारोबारी, अब नहीं कर पाएंगे टैक्स की चोरी 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
जीएसटी के दायरे में आएंगे रियल इस्टेट कारोबारी, अब नहीं कर पाएंगे टैक्स की चोरी 

नई दिल्ली। रियल इस्टेट में कारोबार करने वालों के लिए टैक्स की चोरी करना अब आसान नहीं होगी। भारत सरकार जल्द ही इस कारोबार को जीएसटी के दायरे में लाने जा रही है। अगर ऐसा होता है तो घरों की खरीद-बिक्री करने वालों के लिए थोड़ी मुश्किलें पैदा हो सकती हैं। बोस्टन के हार्वर्ड यूनीवर्सिटी में ‘भारत में कर सुधार’ विषय पर व्याख्यान देते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि अभी फिलहाल बिल्डर बेचे गए घर पर जीएसटी देते हैं, जिस पर उन्हें इनपुट टैक्स क्रेडिट का लाभ मिलता है लेकिन दो व्यक्ति मिलकर अगर यह काम कर रहे हैं तो वे फिलहाल जीएसटी के दायरे में नहीं है। अब सरकार इस पर गंभीरता से विचार कर रही है।

टैक्स की चोरी पर लगाम

गौरतलब है कि रियल इस्टेट का कारोबार एक ऐसा कारोबार है जहां ज्यादातर काम नकद में होता है। ऐसे में कारोबारी टैक्स की चोरी कर लेते हैं अगर इसे जीएसटी के दायरे में ला दिया जाए तो वे टैक्स की चोरी नहीं कर पाएंगे। जेटली ने हार्वर्ड विश्वविद्यालय में व्याख्यान देते हुए कहा कि इस मामले पर गुवाहाटी में 9 नवंबर को होने वाली जीएसटी की अगली बैठक में चर्चा की जाएगी। 


ये भी पढ़ें - जियो का दिवाली धमाका, 399 रुपये का रिचार्ज कराएं और पाएं 100 फीसदी कैशबैक

बैंकिंग क्षमता का पुनर्निर्माण

यहां बता दें कि व्याख्यान के दौरान जेटली ने कहा कि विश्व की बैंकिंग व्यवस्था काफी तेजी से बदल रही है और ऐसे में हम भारत में बैंकिंग से जुडी समस्या के समाधान के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे हैं। हमें (बैंकिंग क्षेत्र) क्षमता का पुनर्निर्माण करना होगा। निजी क्षेत्र के विस्तार वाले सवाल को जेटली ने सिरे से इंकार कर दिया।

Todays Beets: