Wednesday, May 22, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

ईएमआई चुकाने वालों को बड़ी राहत, आरबीआई ने रेपो और रिवर्स रेपो रेट में नहीं किया बदलाव

अंग्वाल न्यूज डेस्क
ईएमआई चुकाने वालों को बड़ी राहत, आरबीआई ने रेपो और रिवर्स रेपो रेट में नहीं किया बदलाव

नई दिल्ली।  भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने अपने द्विमासिक समीक्षा कमेटी की बैठक बुधवार को समाप्त हो गई। इस बैठक में कमेटी ने रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट में किसी तरह का बदलाव न करने का फैसला लिया है। कमेटी ने रेपो रेट पहले की ही तरह 6.5 और रिवर्स रेपो रेट 6.25 फीसदी ही रखने का फैसला लिया है। बताया जा रहा है कि महंगाई दर के कम होने की वजह से आरबीआई ने यह कदम उठाया है। गौर करने वाली बात है कि 20 नवंबर को आरबीआई बोर्ड की लंबी बैठक के बाद भी बैंकों की स्वायत्ता देने के मसले पर कोई फैसला नहीं हो पाया था। 

गौरतलब है कि आरबीआई के द्वारा रेपो और रिवर्स रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं होने से लोन की ईएमआई चुकाने वालों को भी ज्यादा फर्क नहीं पड़ेगा। बता दें कि पिछले दिनों सरकार और आरबीआई के बीच बैंकों की स्वायत्ता को लेकर टकराव हो गया था। हालांकि बाद में सरकार की ओर से कहा गया था कि एक सीमा के अंदर बैंकों की स्वायत्ता को मंजूरी दी जा सकती है। 


ये भी पढ़ें - राजनीति से प्रेरित है मेरे खिलाफ जारी समन , पिछले साढ़े चार साल से जांच में सहयोग कर रहा हूं ...

यहां बता दें कि पिछले 3 दिनों से आरबीआई के अधिकारियों के बीच रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट को लेकर बैठक की जा रही थी। आज समीक्षा कमेटी ने महंगाई दर के कम होने की वजह से रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट में किसी तरह का बदलाव नहीं करने का फैसला लिया है। आरबीआई के इस फैसले से उद्योग जगत को भी बड़ी राहत मिली है। चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में जीडीपी के कम होकर 7.1 फीसद होने के बाद आर्थिक वृद्धि की रफ्तार को लेकर चिंताजनक स्थिति बनी हुई थी, जिसे आरबीआई ने दूर करने की कोशिश की है।

Todays Beets: