Sunday, March 24, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

पीएनबी महाघोटाले के बाद आरबीआई का बड़ा फैसला, सभी बैंकों के लेटर आॅफ क्रेडिट और अंडरटेकिंग जारी करने पर लगाया प्रतिबंध

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पीएनबी महाघोटाले के बाद आरबीआई का बड़ा फैसला, सभी बैंकों के लेटर आॅफ क्रेडिट और अंडरटेकिंग जारी करने पर लगाया प्रतिबंध

नई दिल्ली। पंजाब नेशनल बैंक में हुए महाघोटाले से सीख लेते हुए भारतीय रिजर्व बैंक ने एक बड़ा फैसला लिया है। आरबीआई ने देश के सभी बैंकों के लेटर आॅफ क्रेडिट (एलओसी) और लेटर आॅफ अंडरटेकिंग(एलओयू) जारी करने पर रोक लगा दी है। आरबीआई द्वारा जारी अधिसूचना में कहा गया कि आयात के लिए ट्रेड क्रेडिट के तौर पर कोई भी वाणिज्यिक बैंक एलओयू और एलओसी जारी नहीं कर पाएगा। इस सुविधा को तत्काल प्रभाव से बंद कर दिया गया है। माना जा रहा है कि पीएनबी को नीरव मोदी और मेहुल चोकसी द्वारा एलओयू के नाम पर चूना लगाने की घटना से सबक लेते हुए रिजर्व बैंक ने यह फैसला किया है।

गौरतलब है कि पंजाब नेशनल बैंक से धोखाधड़ी के जरिए हीरा कारोबारी नीरव मोदी और मेहुल चोकसी करीब साढ़े 11 हजार करोड़ रुपये का घोटाला कर चुका है। आरबीआई के इस कदम से कारोबारियों को नुकसान हो सकता है। पीएनबी घोटाले में नीरव मोदी और मेहुल चोकसी के खिलाफ जांच सीबीआई, ईडी और एसएफआईओ कर रहे हैं। दोनों ही देश छोड़कर भाग चुके हैं। 

ये भी पढ़ें - उत्तरप्रदेश के उपचुनाव के मतों की गिनती शुरू, गोरखपुर और फूलपुर में दोनों जगहों पर भाजपा आगे


ये है एलओयू

लेटर ऑफ अंडरटेकिंग एक तरह की बैंक गारंटी होती है जो विदेशों से होने वाले निर्यात के भुगतान के लिए जारी की जाती है। साधारण शब्दों में कहें तो एलओयू का अर्थ होता है कि अगर लोन लेने वाला इस लोन को नहीं चुकाता है, तो बैंक पूरी रकम ब्याज समेत बिना शर्त चुकाता है। एलओयू को बैंक एक निश्चित समय के लिए जारी करता है। बाद में जिसे एलओयू जारी किया गया, उससे पूरा पैसा वसूला जाता है। यहां बता दें कि एलओयू के जरिए ही नीरव मोदी ने पीएनबी के विदेशी ब्रांच से पैसे लिए थे। पीएनबी के अधिकारियों का कहना है कि ये लेटर फर्जी तौर पर जारी किए गए क्योंकि कोर बैंकिंग सिस्टम में कहीं भी इंट्री दर्ज नहीं है। 

Todays Beets: