Monday, December 17, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

पीएनबी महाघोटाले के बाद आरबीआई का बड़ा फैसला, सभी बैंकों के लेटर आॅफ क्रेडिट और अंडरटेकिंग जारी करने पर लगाया प्रतिबंध

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पीएनबी महाघोटाले के बाद आरबीआई का बड़ा फैसला, सभी बैंकों के लेटर आॅफ क्रेडिट और अंडरटेकिंग जारी करने पर लगाया प्रतिबंध

नई दिल्ली। पंजाब नेशनल बैंक में हुए महाघोटाले से सीख लेते हुए भारतीय रिजर्व बैंक ने एक बड़ा फैसला लिया है। आरबीआई ने देश के सभी बैंकों के लेटर आॅफ क्रेडिट (एलओसी) और लेटर आॅफ अंडरटेकिंग(एलओयू) जारी करने पर रोक लगा दी है। आरबीआई द्वारा जारी अधिसूचना में कहा गया कि आयात के लिए ट्रेड क्रेडिट के तौर पर कोई भी वाणिज्यिक बैंक एलओयू और एलओसी जारी नहीं कर पाएगा। इस सुविधा को तत्काल प्रभाव से बंद कर दिया गया है। माना जा रहा है कि पीएनबी को नीरव मोदी और मेहुल चोकसी द्वारा एलओयू के नाम पर चूना लगाने की घटना से सबक लेते हुए रिजर्व बैंक ने यह फैसला किया है।

गौरतलब है कि पंजाब नेशनल बैंक से धोखाधड़ी के जरिए हीरा कारोबारी नीरव मोदी और मेहुल चोकसी करीब साढ़े 11 हजार करोड़ रुपये का घोटाला कर चुका है। आरबीआई के इस कदम से कारोबारियों को नुकसान हो सकता है। पीएनबी घोटाले में नीरव मोदी और मेहुल चोकसी के खिलाफ जांच सीबीआई, ईडी और एसएफआईओ कर रहे हैं। दोनों ही देश छोड़कर भाग चुके हैं। 

ये भी पढ़ें - उत्तरप्रदेश के उपचुनाव के मतों की गिनती शुरू, गोरखपुर और फूलपुर में दोनों जगहों पर भाजपा आगे


ये है एलओयू

लेटर ऑफ अंडरटेकिंग एक तरह की बैंक गारंटी होती है जो विदेशों से होने वाले निर्यात के भुगतान के लिए जारी की जाती है। साधारण शब्दों में कहें तो एलओयू का अर्थ होता है कि अगर लोन लेने वाला इस लोन को नहीं चुकाता है, तो बैंक पूरी रकम ब्याज समेत बिना शर्त चुकाता है। एलओयू को बैंक एक निश्चित समय के लिए जारी करता है। बाद में जिसे एलओयू जारी किया गया, उससे पूरा पैसा वसूला जाता है। यहां बता दें कि एलओयू के जरिए ही नीरव मोदी ने पीएनबी के विदेशी ब्रांच से पैसे लिए थे। पीएनबी के अधिकारियों का कहना है कि ये लेटर फर्जी तौर पर जारी किए गए क्योंकि कोर बैंकिंग सिस्टम में कहीं भी इंट्री दर्ज नहीं है। 

Todays Beets: