Wednesday, August 15, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

दिल्ली वालों को करना पड़ सकता है पानी की किल्लत का सामना, जलस्तर गिरा नीचे 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दिल्ली वालों को करना पड़ सकता है पानी की किल्लत का सामना, जलस्तर गिरा नीचे 

नई दिल्ली। गर्मी बढ़ने के साथ ही दिल्ली में पानी की समस्या भी शुरू हो गई है। बताया जा रहा है कि हरियाणा की तरफ से पानी कम छोड़ा जा रहा है। ऐसे में पानी का स्तर काफी नीचे चला गया है। दिल्ली जल बोर्ड की तरफ से कहा गया है कि पानी के स्तर के नीचे जाने से शोधक यंत्र भी ठीक से काम नहीं कर पा रहे हैं।  संभावना जताई जा रही है कि आने वाले दिनों में दिल्लीवासियों को पानी की किल्लत का सामना करना पड़ सकता है।  

गौरतलब है कि हरियाणा के द्वारा कम पानी छोड़े जाने से दिल्ली जल बोर्ड के वजीराबाद बैराज में पानी का स्तर कम हो गया है और कई जल शोधक संयंत्रों के तालाबों में भी पानी के स्तर में कमी आ गई है। इसका असर संयंत्रों में पानी के उत्पादन पर पड़ने लगा है। बैराज में पानी का स्तर 671.9 फुट है जबकि बैराज में पानी का सामान्य स्तर 674.5 फुट है। इसी तरह पश्चिमी यमुना नहर से जुड़े हैदरपुर, बवाना, नांगलोई, द्वारका, ओखला संयंत्र के तालाबों में भी पानी का स्तर कम होने लगा है।

ये भी पढ़ें - अपने ही देश के खिलाफ बयान देकर फंसे पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ, चलेगा देशद्रोह का केस!  

इन इलाकों में हो सकती हैं दिक्कतें 


जल बोर्ड के मुताबिक, हरियाणा से पानी कम आने के कारण हैदरपुर, बवाना, नांगलोई, द्वारका, ओखला संयंत्र में पानी का उत्पादन प्रभावित हो रहा है। अभी करीब 15 प्रतिशत पानी का उत्पादन कम हो रहा है। हरियाणा से पर्याप्त पानी न आने की स्थिति में आगे आने वाले दिनों में संयंत्रों में पानी का उत्पादन और भी गिरने की संभावना बन गई है। इस संबंध में जल बोर्ड ने हरियाणा के सिंचाई विभाग को भी अवगत करा दिया है।

ये क्षेत्र हों रहे हैं ज्यादा प्रभावित-

दिल्ली जल बोर्ड के संयंत्रों में पानी का उत्पादन कम होने के चलते नई दिल्ली के तमाम इलाकों के साथ-साथ दक्षिण दिल्ली के कैलाश कालोनी, ईस्ट ऑफ कैलाश, मूलचंद, साउथ एक्स, ग्रेटर कैलाश, लोधी रोड, निजामुद्दीन आदि क्षेत्र, पश्चिम दिल्ली में उत्तम नगर, विकासपुरी, द्वारका, जनकपुरी, पंजाबी बाग, मोतीनगर आदि कालोनी, उत्तर दिल्ली में मुखर्जी नगर, मॉडल टाउन, सिविल लाइंस, जीटीबी नगर, अशोक विहार, शालीमार बाग आदि कालोनी व मध्य दिल्ली में दरियागंज, चांदनी चैक, फतेहपुरी, जामा मस्जिद आदि इलाकों में पेयजल आपूर्ति प्रभावित होनी शुरू हो गई है। 

Todays Beets: