Thursday, May 23, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

रोहित शेखर हत्याकांड में पत्नी अपूर्वा गिरफ्तार , पूछताछ में गला दबाकर हत्या की बात कबूली

अंग्वाल संवाददाता
रोहित शेखर हत्याकांड में पत्नी अपूर्वा गिरफ्तार , पूछताछ में गला दबाकर हत्या की बात कबूली

नई दिल्ली । उत्तर प्रदेश के चार बार के मुख्यमंत्री और कांग्रेस के दिग्गज नेता स्वर्गीय नारायण दत्त तिवारी के बेटे रोहित शेखर तिवारी हत्याकांड को आखिरकार पुलिस ने सुलझा लिया है । इस हत्याकांड को किसी ओर नहीं बल्कि उनकी पत्नी ने ही अंजाम दिया था, जिसके चलते पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया है । दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने ये गिरफ्तारी अपूर्वा के खिलाफ ठोस सबूत मिलने के बाद की है। इस हत्याकांड की जांच में शुरू से ही शक की सुईं रोहित शेखर की पत्नी अपूर्वा के ऊपर टिकी हुई थी । पूछताछ में उन्होंने वारदात वाली रात को लेकर तीन अलग अलग बयान दिए थे, जिसके बाद उनसे और कड़ी पूछताछ करने पर वह टूट गई और उसने अपना गुनाह कबूल कर लिया । अपूर्वा के बयानों के अनुसार उसके और रोहित के बीच में हाथापाई के दौरान दोनों ही एक दूसरे को मारने की कोशिश कर रहे थे, जिसमें अपूर्वा कामयाब हो गई ।

हत्या वाली रात हुआ था झगड़ा

रोहित शेखर तिवारी की मौत के बाद जब उनकी पोस्टमार्टम रिपोर्ट आई तो सामने आया कि उनकी मौत मुंह दबाने के चलते हुई है । इसके बाद शक की सुईं परिवार वालों पर ही टिक गई थी , क्योंकि पोर्टमार्टम रिपोर्ट में मौत देर रात हुई थी, जबकि उसे कई घंटे बाद अस्पताल में लाया गया था, जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया था । इस मामले में दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने परिवार के 6 लोगों से पूछताछ की थी, जिसमें शक की सुईं रोहित की पत्नी अपूर्वा पर टिक गई थी । बाद में पूछताछ में खुलासा हुआ है कि हत्या वाली रात अपूर्वा और रोहित में झगड़ा भी हुआ था , जिसके बाद अपूर्वा ने वारदात को अंजाम दिया ।

महिला मित्र के साथ शराब पीने पर झगड़ा

खुलासा हुआ है कि वारदात वाली रात रोहित अपनी महिला मित्र के साथ शराब पी रहा था, जिसे अपूर्वा ने देख लिया था। इतना ही नहीं अपूर्वा और रोहित के बीच एक मकान बनाने को लेकर भी झगड़ा चल रहा था, जिसे अपूर्वा अपने मायके वालों को देना चाहती थी । इस मुद्दे को लेकर ही दोनों में वारदात वाली रात झगड़ा हुआ, जिसके बाद दोनों में हाथापाई हुई थी । उसी दौरान रोहित का गला दबाकर उसे मार दिया गया ।

सबूत मिटाने से खुला राज

पुलिस ने अपूर्वा का ब्लड सेंपल और घटनास्थल पर पाए गए खून के नमूने भी लिए थे , जिसे जांच के लिए भेजा गया है । वहीं अपूर्वा ने वारदात से जुड़े सबूत मिटाने की कोशिश करते हुए अपना मोबाइल तक फार्मेट कर दिया था । इतना ही नहीं जिस कमरे में रोहित की हत्या हुई वहां के सीसीटीवी कैमरे खराब होना भी इस बात की तस्दीक करता था कि हत्या में कोई बाहरी व्यक्ति नहीं, घर का ही कोई शख्स शामिल था ।


यूं हुआ पुलिस को शक

असल में पुलिस की पूछताछ में कुछ ऐसे तथ्य आए, जिसमें अपूर्वा के ऊपर शक गहरा गया । जांच में जुड़े अधिकारियों के मुताबिक , वारदात के वक्त घर में 6 लोग थे । इसमें रोहित , उसकी पत्नी अपूर्वा , मां उज्जवला , भाई सिद्धार्थ , घर का एक नौकर और ड्राइवर । इसके अलावा न कोई घर में आया और न कोई बाहर गया। इससे पुलिस को साफ हो गया कि वारदात को घर के किसी शख्स ने ही अंजाम दिया है । इसके बाद रोहित की मां ने बयान दिया कि रात में जब उसने अपूर्वा से रोहित के बारे में पूछा तो उसने कहा कि वह सो गया है, जबकि उसी समय रोहित आया और उसने अपनी मां के साथ खाना खाया , फिर अपूर्वा ने झूठ क्यों बोला ।

पोर्टमार्टम रिपोर्ट में खुलासा हुआ कि रोहित की हत्या 15-16 अप्रैल की रात एक से डेढ़ बजे के करीब हुई । अगर उसकी मौत 2 बजे तक हो गई थी तो उसके मोबाइल से किसने 2 बजे से 4 बजे के बीच कॉल करने की कोशिश की , लेकिन कॉल लगी नहीं ।

इतना ही नहीं घर के अंदर और बाहर कुल सात सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। एक कैमरा घर के अंदर और बाहर की सारी तस्वीरें दिखा रहा है, मगर 7 में से दो कैमरे खराब हैं । ये वो दो कैमरे थे, जो रोहित शेखर के बेडरूम के दरवाजे की ओर झांकते थे । इससे भी शक की सुईं घर के किसी परिजन पर ही टिकी। अगर रोहित रात 1 बजे के करीब सो गया था और वह दोपहर 4 बजे तक नहीं उठा तो किसी परिजन को यह सब अजीब क्यों नहीं लगा ।

पेशे से वकील अपूर्वा की शादी साल भर पहले ही रोहित के साथ हुई थी। लेकिन साल भर के भीतर ही दोनों में संबंध कुछ इस कदर बिगड़े की अपूर्वा ने रोहित शेखर की हत्या कर दी ।

 

Todays Beets: