Monday, April 23, 2018

Breaking News

   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||   बिहार: शराब और मुर्गे के साथ गश्त करने वाली पुलिस टीम निलंबित     ||   रेलवे की 90 हजार नौकरियों के आवेदन की आज लास्ट डेट, दो करोड़ 80 लाख कर चुके हैं अप्लाई     ||   कांग्रेस में बड़ा बदलाव: जनार्दन द्विवेदी की छुट्टी, गहलोत बने नए AICC महासचिव     ||   भारत ने चीन की तिब्बत सीमा पर भेजे और सैनिक, गश्त भी बढ़ाई     ||   अब कॉल सेंटर की नौकरियों पर नजर, अमेरिकी सांसद ने पेश किया बिल     ||   ब्लूमबर्ग मीडिया का दावा, 2019 छोड़िए 2029 तक पीएम रहेंगे नरेंद्र मोदी     ||   फेसबुक को डेटा लीक मामले से लगा तगड़ा झटका, 35 अरब डॉलर का नुकसान     ||

सुप्रीम कोर्ट ने 84 दंगों की जांच के लिए गठित की नई SIT, जस्टिस ढींगरा को बनाया प्रमुख

अंग्वाल न्यूज डेस्क

सुप्रीम कोर्ट ने 84 दंगों की जांच के लिए गठित की नई SIT, जस्टिस ढींगरा को बनाया प्रमुख

नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को 84 के सिख विरोधी दंगों के मामलों में बड़ा फैसला लेते हुए एक बार फिर से 186 मामलों की जांच के लिए नई तीन सदस्यीय विशेष जांच दल (SIT) का गठन कर दिया। इस एसआईटी का प्रमुख जस्टिस (रिटायर्ड) एसएन ढींगरा को बनाया गया है। सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली बेंच ने SIT को अपनी जांच पूरी करने के लिए दो महीनों का समय दिया है। SIT को दो महीनों के भीतर अपनी रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट को देनी होगी। यह SIT सिख विरोधी दंगों के 186 मामलों की फिर से जांच पड़ताल करेगी। जस्टिस ढींगरा के अलावा इस एसआईटी में दो आईपीएस अधिकारी राजदीप सिंह (रिटायर्ड) और अभिषेक दुलार होंगे। सुप्रीम कोर्ट अब इस मामले में 19 मार्च को अगली सुनवाई करेगी। 


इससे पहले, सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को सिख विरोधी दंगों के मामले में नए सिरे से SIT गठित करने के आदेश दिए थे। न्यायमूर्ति केपीएस राधाशरण और न्यायमूर्ति जेएम पांचाल की पर्यवेक्षी समिति ने पहली SIT द्वारा की गई जांच पर सुप्रीम कोर्ट को अपनी रिपोर्ट दी थी। कोर्ट के आदेश के बाद SIT के लिए केंद्र सरकार ने बुधवार को कई नाम सुझाए थे, लेकिन कोर्ट ने उन नामों पर सहमति देने से इनकार कर दिया था। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में एक पर्यवेक्षक समिति का गठन किया था, जिसने पहली SIT द्वारा की गई जांच का अवलोकन किया था। पुरानी SIT ने 84 में हुए सिख विरोधी दंगे मामले में दर्ज 294 केस में से 186 को बिना किसी जांच के बंद कर दिया था, जिस पर आपत्ति जाहिर की गई थी। 

Todays Beets: