Thursday, July 19, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

ताजमहल के संरक्षण को लेकर सुप्रीम कोर्ट सख्त, कहा-नहीं संभल रहा तो ढहा दो 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
ताजमहल के संरक्षण को लेकर सुप्रीम कोर्ट सख्त, कहा-नहीं संभल रहा तो ढहा दो 

नई दिल्ली। सफेद संगमरमर से बनी मोहब्बत की अद्भुत निशानी ताजमहल के संरक्षण को लेकर बुधवार को सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार और राज्य सरकार को फटकार लगाई है। सुप्रीम कोर्ट ने इस धरोहर के रखरखाव पर उदासीनता को लेकर सख्त रुख अख्तियार किया है। शीर्ष अदालत ने कहा कि अगर इसका रखरखाव नहीं कर सकते तो इसे ढहा दीजिए। पिछले कुछ समय से ताजमहल की चमक लगातार फीकी हो रही है। केंद्र सरकार के अंतर्गत आने वाली एएसआई के कामकाज से सुप्रीम कोर्ट नाखुश है। 

सुप्रीम कोर्ट ने टिप्पणी में कहा कि फ्रांस की एफिल टावर को देखने के लिए 80 मिलियन लोग आते हैं जबकि भारत के ताजमहल को देखने के लिए 5 मिलियन लोग आते हैं। इस आंकड़े से भारत सरकार की ताज के प्रति उदासीनता का पता चलता है। आखिर क्या कारण है कि दुनिया के सात अजूबों में शामिल ताज के प्रति आकर्षण बढ़ नहीं रहा है। पर्यटकों को लेकर सरकार गंभीर नहीं है। सुप्रीम कोर्ट ने टीटीजेड में दी जा रही उद्योग लगाने की अर्जियों और उसपर हो रहे विचार पर सवाल उठाया है। कोर्ट ने पीएचडी चेंबर्स से कहा कि वहां चल रहे उद्योगों को क्यों नहीं स्वयं बंद देते। टीटीजेड की ओर कहा गया कोई नई फैक्ट्री के आवेदन पर विचार नहीं हो रहा। टीटीजेड के चेयरमैन को सुप्रीम कोर्ट ने नोटिस जारी करके बुलाया था।


हालांकि पिछले साल हलफनामा में केंद्र सरकार ने कहा था कि ताजमहल और आगरा के लिए सरकार ने कई योजनाएं बनाई हैं। इसमें आगरा में डीजल जेनरेटर पर पाबंदी, पाॅलीथीन पर पाबंदी और सीएनजी वाहनों को बढ़ावा देने बात शामिल है। आगरा महायोजना 2021 के तहत डबल रिंग रोड के साथ नेशनल हाईवे को चो चौडा़ किया जा रहा है। इसके अलावा आसपास के क्षेत्र में पौधे लगाने की बात भी कही गई थी। 

Todays Beets: