Sunday, September 23, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

आईसीआईसीआई बैंक की पूर्व सीईओ चंदा कोचर से सेबी करेगा पूछताछ, दोषी साबित होने पर 35 करोड़ रुपये का जुर्माना

अंग्वाल न्यूज डेस्क
आईसीआईसीआई बैंक की पूर्व सीईओ चंदा कोचर से सेबी करेगा पूछताछ, दोषी साबित होने पर 35 करोड़ रुपये का जुर्माना

नई दिल्ली। आईसीआईसीआई बैंक और वीडियोकाॅन की धोखाधड़ी मामले में बैंक की पूर्व सीईओ चंदा कोचर की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। बाजार नियामक भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) उन्हें पूछताछ के लिए तलब कर सकता है। अगर उप पर दोष साबित होता है तो बैंक पर 25 करोड़ और चंदा कोचर पर 10 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया जा सकता है। दोषी पाए जाने पर सेबी चंदा कोचर के एक बार फिर से बैंक की सीईओ बनने पर भी रोक लगा सकता है। 

गौरतलब है कि चंदा कोचर के पति दीपक कोचर की कंपनी में वीडियोकाॅन के मालिक वेणुगोपाल धूत ने निवेश किया था जिसके बाद आईसीआईसीआई बैंक ने उन्हें 3250 करोड़ का लोन दिया था। चंदा कोचर पर इस बात का आरोप है कि इस डील में उन्हें नियामकीय उल्लंघन किया है। चंदा कोचर के साथ सेबी बैंक के उन अधिकारियों को भी पूछताछ के लिए तलब कर सकता है जिन्होंने दीपक कोचर के नजदीकी होने का फायदा उठाया है। 

यहां बता दें कि आईसीआईसीआई बैंक का बोर्ड शुरू से ही इस बात से इंकार कर रहा है कि वीडियोकॉन को कर्ज देने में किसी तरह की गलती हुई है। बैंक अपनी तरफ से भी जस्टिस बी.एन. श्रीकृष्ण समिति से जांच करवा रहा है। गौर करने वाली बात है कि जांच पूरी होने तक बैंक ने चंदा कोचर को छुट्टी पर भेज दिया है। सेबी के अलावा रिजर्व बैंक, कंपनी मामलों के मंत्रालय और सीबीआई भी मामले की जांच कर रहे हैं। जांच में सेबी को कुछ भी गलत लगता है तो बैंक के ऊपर 25 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया जा सकता है। 


ये भी पढ़ें - LIVE - सफल हुआ कांग्रेस का भारत बंद! भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से मिलने पहुंचे पेट्रोलिमय मंत्री...

चंदा कोचर के फंसने की बड़ी वजह यह है कि सेबी के द्वारा पूछताछ में उन्होंने इस बात को स्वीकार किया है कि उनके पति और वीडियोकाॅन के मालिक वेणुगोपाल धूत के बीच कारोबारी रिश्ते थे। उन्होंने यह भी माना कि वे दोनों न्यूपावर के सह-संस्थापक और प्रवर्तक थे। इस खुलासे के बाद सेबी ने यह माना कि दोनों मंे हितों का टकराव हुआ है। 

Todays Beets: