Saturday, February 16, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

सुकमा के जंगल में सुरक्षाबलों ने 14 नक्सलियों को उतारा मौत के घाट, भारी मात्रा में हथियार भी बरामद

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सुकमा के जंगल में सुरक्षाबलों ने 14 नक्सलियों को उतारा मौत के घाट, भारी मात्रा में हथियार भी बरामद

नई दिल्ली। नक्सल प्रभावित राज्य छत्तीसगढ़ में सोमवार को सुरक्षाकर्मियों ने 14 नक्सलियों को मार गिराया है। बताया जा रहा है कि सुकमा जिले के गोलापल्ली इलाके में सोमवार की सुबह गश्त पर निकले सुरक्षाबलों पर नक्सलियों ने ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। जवाबी कार्रवाई में सुरक्षाबलों ने भारी बारिश के बीच 14 नक्सलियों को मौत के घाट उतार दिया है। सुरक्षाबलों ने उनके कब्जे से भारी मात्रा में हथियार बरामद किया है। फिलहाल गोलीबारी बंद होने के बाद सुरक्षाबलों ने इलाके की घेराबंदी कर सर्च आॅपरेशन तेज कर दिया है। 

गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ का सुकमा इलाके बुरी तरह से नक्सलियों से प्रभावित रहा है। सोमवार को सुरक्षाबलों के साथ हुए एनकाउंटर में 14 नक्सलियों को मौत के घाट उतार दिया गया है। सुरक्षाबलों के गश्तीदल पर हमला करने के बाद जवाबी कार्रवाई में ये सभी मारे गए हैं। स्थानीय खबरों के अनुसार करीब 200 नक्सलियों ने भारी हथियार के साथ सुरक्षाबलों पर हमला बोल दिया। 

ये भी पढ़ें - जम्मू पुलिस ने दिल्ली को दहलाने की साजिश को किया नाकाम, आतंकी को 8 ग्रेनेड के साथ किया गिरफ्तार 


यहां बता दें कि सुरक्षाबलों को खुद पर भारी पड़ता हुआ देखकर नक्सली वहां से भाग खड़े हुए। गौर करने वाली बात है कि छत्तीसगढ़ में इन दिनों भारी बारिश हो रही है। भारी बारिश के दौरान ही सुरक्षाबलों ने इस कार्रवाई को अंजाम दिया है। गौर करने वाली बात है कि प्रदेश के मुख्यमंत्री डाॅक्टर रमन सिंह 2022 तक राज्य को पूरी तरह से नक्सल मुक्त करने की बात कह चुके हैं। 

नक्सलियों की कम होती तादाद का कारण बड़ी संख्या में उनका आत्मसमर्पण करना भी है। बस्तर के कई इलाके में इनामी नक्सलियों ने आत्मसमर्पण किया है। बता दें कि एंटी नक्सल आॅपरेशन के मुखिया ने बताया कि बस्तर जिले में पिछले कुछ समय में भारी तादाद में जानोमाल का नुकसान हुआ है। 

इसके पहले सरकार लगातार यह कहती रही है कि नक्सली हथियार छोड़कर यदि मुख्यधारा में शामिल होना चाह रहे हों तो सरकार बातचीत के लिए तैयार है। हालांकि अब छत्तीसगढ़ सरकार ने अपनी नीति बदल दी है। 

Todays Beets: