Sunday, February 24, 2019

Breaking News

   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||

जम्मू कश्मीर में सरकार गिरते ही आतंकियों और अलगाववादियों पर कसा शिकंजा, यासीन मलिक लिए गए हिरासत में

अंग्वाल न्यूज डेस्क
जम्मू कश्मीर में सरकार गिरते ही आतंकियों और अलगाववादियों पर कसा शिकंजा, यासीन मलिक लिए गए हिरासत में

नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर में भाजपा-पीडीपी गठबंधन वाली सरकार के गिरने के बाद आतंकियों के साथ अलगाववादी नेताओं पर सुरक्षाबलों ने शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। घाटी में हाल के दिनों में हुई हत्याओं के विरोध में गुरुवार को जम्मू कश्मीर बंद का आह्वान करने वाले अलगाववादी नेता यासीन मलिक को पुलिस से सुरक्षा व्यवस्था बिगड़ने के आसार को देखते हुए उन्हें हिरासत में ले लिया है। इसके बाद ऐसे संकेत मिल रहे हैं कि आने वाले समय में अन्य अलगाववादी नेताओं पर भी पुलिस अपना शिकंजा कस सकती है। 

गौरतलब है कि राज्य में सरकार के गिरने के बाद वहां राज्यपाल शासन लगा दिया गया है। राज्यपाल शासन के लागू होते ही, राज्यपाल एनएन वोहरा एक्शन में आ गए हैं। उन्होंने सेना और पुलिस अधिकारियों के साथ राज्य के बड़े अधिकारियों के साथ बैठक की है। गुरुवार को अलगाववादी नेताओं के द्वारा बुलाए गए बंद के मद्देनजर सुरक्षा व्यवस्था में कोई खलल न पैदा हो इसके लिए एहतियात के तौर पर अलगाववादी नेता यासीन मलिक को हिरासत में ले लिया है। 

ये भी पढ़ें - पाम्पोर में पुलिस टीम पर हमला, 1 जवान शहीद 2 घायल, यासीन मलिक हिरासत में


बता दें कि राज्यपाल एनएन वोहरा का कार्यकाल जल्द ही खत्म होने वाला है। ऐसे में वहां आतंकियों के प्रति तल्ख तेवर रखने वाले सेना के सेवानिवृत्त मेजर जनरल जीडी बख्शी को राज्यपाल बनाए जाने की खबरें भी सामने आई है। वहीं लेफ्टिनेंट जनरल दीपेंद्र सिंह हुड्डा का नाम भी सामने आया है। गौर करने वाली बात है कि जनरल बख्शी और दीपेंद्र हुड्डा दोनों को ही जम्मू कश्मीर का विशेषज्ञ माना जाता है। ऐसे में अगर उनकी राज्यपाल के तौर पर नियुक्ति होती है तो आतंकियों की खैर नहीं होगी।   

 

 

Todays Beets: