Wednesday, November 21, 2018

Breaking News

   चौदह दिनों की न्यायिक हिरासत में बिहार की पूर्व मंत्री मंजू वर्मा, कोर्ट में किया था सरेंडर     ||   MP में चुनाव प्रचार के दौरान शख्स ने BJP कैंडिडेट को पहनाई जूतों की माला     ||   बेंगलुरु: गन्ना किसानों के साथ सीएम कुमारस्वामी की बैठक     ||   US में ट्रंप को कोर्ट से झटका, अवैध प्रवासियों को शरण देने से नहीं कर सकते इनकार    ||   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||

जम्मू कश्मीर में सरकार गिरते ही आतंकियों और अलगाववादियों पर कसा शिकंजा, यासीन मलिक लिए गए हिरासत में

अंग्वाल न्यूज डेस्क
जम्मू कश्मीर में सरकार गिरते ही आतंकियों और अलगाववादियों पर कसा शिकंजा, यासीन मलिक लिए गए हिरासत में

नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर में भाजपा-पीडीपी गठबंधन वाली सरकार के गिरने के बाद आतंकियों के साथ अलगाववादी नेताओं पर सुरक्षाबलों ने शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। घाटी में हाल के दिनों में हुई हत्याओं के विरोध में गुरुवार को जम्मू कश्मीर बंद का आह्वान करने वाले अलगाववादी नेता यासीन मलिक को पुलिस से सुरक्षा व्यवस्था बिगड़ने के आसार को देखते हुए उन्हें हिरासत में ले लिया है। इसके बाद ऐसे संकेत मिल रहे हैं कि आने वाले समय में अन्य अलगाववादी नेताओं पर भी पुलिस अपना शिकंजा कस सकती है। 

गौरतलब है कि राज्य में सरकार के गिरने के बाद वहां राज्यपाल शासन लगा दिया गया है। राज्यपाल शासन के लागू होते ही, राज्यपाल एनएन वोहरा एक्शन में आ गए हैं। उन्होंने सेना और पुलिस अधिकारियों के साथ राज्य के बड़े अधिकारियों के साथ बैठक की है। गुरुवार को अलगाववादी नेताओं के द्वारा बुलाए गए बंद के मद्देनजर सुरक्षा व्यवस्था में कोई खलल न पैदा हो इसके लिए एहतियात के तौर पर अलगाववादी नेता यासीन मलिक को हिरासत में ले लिया है। 

ये भी पढ़ें - पाम्पोर में पुलिस टीम पर हमला, 1 जवान शहीद 2 घायल, यासीन मलिक हिरासत में


बता दें कि राज्यपाल एनएन वोहरा का कार्यकाल जल्द ही खत्म होने वाला है। ऐसे में वहां आतंकियों के प्रति तल्ख तेवर रखने वाले सेना के सेवानिवृत्त मेजर जनरल जीडी बख्शी को राज्यपाल बनाए जाने की खबरें भी सामने आई है। वहीं लेफ्टिनेंट जनरल दीपेंद्र सिंह हुड्डा का नाम भी सामने आया है। गौर करने वाली बात है कि जनरल बख्शी और दीपेंद्र हुड्डा दोनों को ही जम्मू कश्मीर का विशेषज्ञ माना जाता है। ऐसे में अगर उनकी राज्यपाल के तौर पर नियुक्ति होती है तो आतंकियों की खैर नहीं होगी।   

 

 

Todays Beets: