Wednesday, January 24, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

सहवाग ने बाल दिवस पर भारत के 12 वर्षीय सबसे छोटे शहीद बाजी राउत की कहानी देशवासियों के सामने रखी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सहवाग ने बाल दिवस पर भारत के 12 वर्षीय सबसे छोटे शहीद बाजी राउत की कहानी देशवासियों के सामने रखी

नई दिल्ली । अमूमन अपने व्यंग से बड़ी बड़ी बातें बड़े ही सहज भाव से कह देने वाले और चुटीली बातों से अपने प्रशंसकों का दिल जीतने वाले मुलतान के सुलतान यानी वीरेंद्र सहवाग ने मंगलवार को बाल दिवस के मौके पर सहवाग के ट्वीट देख कई लोग सोच में पड़ गए। असल में वीरू ने बाल दिवस के मौके पर एक ऐसे बच्चे का जिक्र किया, जो भारत का सबसे छोटा शहीद है। हालांकि दुखद बात ये कि उसके बारे में अधिकांश भारतीयों को पता ही नहीं था। 

 

 

 


बता दें कि सहवाग ने बाल दिवस के मौके पर ट्वीट कर शहीद बाजी राऊत का जिक्र किया। सहवाग ने अपने टि्वटर पर एक के बाद एक चार ट्वीट किए हैं। इन ट्वीट्स के जरिए वीरूप ने देश के सबसे छोटे शहीद की कहानी बयां की और साथ ही यह संदेश भी दिया है कि हमें इनकी कुर्बानी को कभी नहीं भूलना चाहिए।  

 

 

बता दें कि बाजी राउत ओडिशा के ढंकेनाल जिले के नीलकंठपुर गांव का रहने वाला था। उसने मात्र 12 साल की उम्र में ही अदम्य साहस और शौर्य का परिचय दिया और देश के लिए शहीद हो गया। असल में अंग्रेजों की गुलामी के दौर में जब लोग उनके सामने सिर उठाने में डरते थे। उस दौरान बाजी राउत के मन में देशभक्ति कूट-कूटकर भरी हुई थी। मात्र 12 साल की उम्र में ही बाजी के मन में अपनी मातृभूमि और देशप्रेम की ललक जाग चुकी थी। उसके मन में अंग्रेजों के प्रति काफी गुस्सा था। 

अमूमन बाजी अग्रेंजों का कहना नहीं मानता था। वह उनके आदेश की नाफरमानी करते हुए भारत माता की जय के नारे लगाता। ऐसे ही 11 नवंबर 1938 के दिन जब अंग्रेजों के कहे को बाजी ने मानने से इनकार कर दिया और भारत माता की जय के नारे लगाने लगा तो अग्रेजों ने उनपर गोली चला दी। गोली बाजी का सीना चीरते हुए निकल गई और बाजी अपने देश के लिए शहीद हो गया।

Todays Beets: