Thursday, April 19, 2018

Breaking News

   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||   बिहार: शराब और मुर्गे के साथ गश्त करने वाली पुलिस टीम निलंबित     ||   रेलवे की 90 हजार नौकरियों के आवेदन की आज लास्ट डेट, दो करोड़ 80 लाख कर चुके हैं अप्लाई     ||   कांग्रेस में बड़ा बदलाव: जनार्दन द्विवेदी की छुट्टी, गहलोत बने नए AICC महासचिव     ||   भारत ने चीन की तिब्बत सीमा पर भेजे और सैनिक, गश्त भी बढ़ाई     ||   अब कॉल सेंटर की नौकरियों पर नजर, अमेरिकी सांसद ने पेश किया बिल     ||   ब्लूमबर्ग मीडिया का दावा, 2019 छोड़िए 2029 तक पीएम रहेंगे नरेंद्र मोदी     ||   फेसबुक को डेटा लीक मामले से लगा तगड़ा झटका, 35 अरब डॉलर का नुकसान     ||

सहवाग ने बाल दिवस पर भारत के 12 वर्षीय सबसे छोटे शहीद बाजी राउत की कहानी देशवासियों के सामने रखी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सहवाग ने बाल दिवस पर भारत के 12 वर्षीय सबसे छोटे शहीद बाजी राउत की कहानी देशवासियों के सामने रखी

नई दिल्ली । अमूमन अपने व्यंग से बड़ी बड़ी बातें बड़े ही सहज भाव से कह देने वाले और चुटीली बातों से अपने प्रशंसकों का दिल जीतने वाले मुलतान के सुलतान यानी वीरेंद्र सहवाग ने मंगलवार को बाल दिवस के मौके पर सहवाग के ट्वीट देख कई लोग सोच में पड़ गए। असल में वीरू ने बाल दिवस के मौके पर एक ऐसे बच्चे का जिक्र किया, जो भारत का सबसे छोटा शहीद है। हालांकि दुखद बात ये कि उसके बारे में अधिकांश भारतीयों को पता ही नहीं था। 

 

 

 


बता दें कि सहवाग ने बाल दिवस के मौके पर ट्वीट कर शहीद बाजी राऊत का जिक्र किया। सहवाग ने अपने टि्वटर पर एक के बाद एक चार ट्वीट किए हैं। इन ट्वीट्स के जरिए वीरूप ने देश के सबसे छोटे शहीद की कहानी बयां की और साथ ही यह संदेश भी दिया है कि हमें इनकी कुर्बानी को कभी नहीं भूलना चाहिए।  

 

 

बता दें कि बाजी राउत ओडिशा के ढंकेनाल जिले के नीलकंठपुर गांव का रहने वाला था। उसने मात्र 12 साल की उम्र में ही अदम्य साहस और शौर्य का परिचय दिया और देश के लिए शहीद हो गया। असल में अंग्रेजों की गुलामी के दौर में जब लोग उनके सामने सिर उठाने में डरते थे। उस दौरान बाजी राउत के मन में देशभक्ति कूट-कूटकर भरी हुई थी। मात्र 12 साल की उम्र में ही बाजी के मन में अपनी मातृभूमि और देशप्रेम की ललक जाग चुकी थी। उसके मन में अंग्रेजों के प्रति काफी गुस्सा था। 

अमूमन बाजी अग्रेंजों का कहना नहीं मानता था। वह उनके आदेश की नाफरमानी करते हुए भारत माता की जय के नारे लगाता। ऐसे ही 11 नवंबर 1938 के दिन जब अंग्रेजों के कहे को बाजी ने मानने से इनकार कर दिया और भारत माता की जय के नारे लगाने लगा तो अग्रेजों ने उनपर गोली चला दी। गोली बाजी का सीना चीरते हुए निकल गई और बाजी अपने देश के लिए शहीद हो गया।

Todays Beets: