Monday, October 22, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

राफेल डील पर फ्रांसीसी कंपनी की सफाई, कहा-दसाॅल्ट ने खुद रिलायंस को चुना

अंग्वाल न्यूज डेस्क
राफेल डील पर फ्रांसीसी कंपनी की सफाई, कहा-दसाॅल्ट ने खुद रिलायंस को चुना

नई दिल्ली। राफेल विमान डील पर फ्रांसीसी मीडिया के नए खुलासे से भारत में राजनीति तेज हो गई है। कांग्रेस इसके बाद केंद्र सरकार पर एक बार फिर से हमलावर हो गई है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस बार प्रधानमंत्री मोदी पर सीधा हमला बोलते हुए उन्हें भ्रष्ट बताया है। राहुल के आरोपों के बीच राफेल विमान बनाने वाली कंपनी दसॉल्ट ने नए खुलासे पर सफाई पेश की है। दसाॅल्ट ने कहा कि रिलायंस के साथ करार भारतीय कानून के तहत ही हुआ और यह फैसला पूरी तरह से कंपनी की ओर से लिया गया था। 

गौरतलब है कि फ्रांसीसी कंपनी दसॉल्ट के सीईओ एरिक ट्रैपियर ने स्पष्ट कहा है कि कानून के हिसाब से ही दसॉल्ट ने रिलायंस के साथ मिलकर नागपुर में प्लांट लगाने का फैसला किया है। उन्होंने कहा कि रिलायंस के साथ दसॉल्ट एविएशन का संयुक्त उपक्रम, विमान करार के तहत करीब 10 फीसदी आॅफसेट का प्रतिनिधित्व करता है। 

ये भी पढ़ें - अब आधार में बदलाव कराना नहीं होगा आसान, 1 जनवरी 2019 से लागू होंगे नए नियम

यहां बता दें कि दसाॅल्ट कंपनी ने कहा कि ‘वह करीब 100 भारतीय कंपनियों से इसके बारे में बात कर रहे हैं जिसमें से करीब 30 कंपनियों के साथ साझेदारी हो चुकी है। दसाॅल्ट के सीईओ एरिक ट्रैपियर ने हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) की जगह रिलायंस को चुनने पर सफाई देते हुए कहा कि कंपनी भारत में लंबी साझेदारी करना चाहता है इसी वजह से यह फैसला लिया गया है। 


 

गौर करने वाली बात है कि फ्रांसीसी वेबसाइट मीडियापार्ट ने डील का खुलासा करते हुए कहा कि रिलायंस के साथ करार को अनिवार्य बताया था। बता दें कि पूर्व फ्रांसीसी राष्ट्रपति ओलांद ने कहा था कि दसॉल्ट के लिए भारत से रिलायंस को ऑफसेट पार्टनर चुनने के अलावा उनके पास कोई दूसरा विकल्प नहीं था।

 

Todays Beets: