Sunday, February 24, 2019

Breaking News

   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||

राफेल डील पर फ्रांसीसी कंपनी की सफाई, कहा-दसाॅल्ट ने खुद रिलायंस को चुना

अंग्वाल न्यूज डेस्क
राफेल डील पर फ्रांसीसी कंपनी की सफाई, कहा-दसाॅल्ट ने खुद रिलायंस को चुना

नई दिल्ली। राफेल विमान डील पर फ्रांसीसी मीडिया के नए खुलासे से भारत में राजनीति तेज हो गई है। कांग्रेस इसके बाद केंद्र सरकार पर एक बार फिर से हमलावर हो गई है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस बार प्रधानमंत्री मोदी पर सीधा हमला बोलते हुए उन्हें भ्रष्ट बताया है। राहुल के आरोपों के बीच राफेल विमान बनाने वाली कंपनी दसॉल्ट ने नए खुलासे पर सफाई पेश की है। दसाॅल्ट ने कहा कि रिलायंस के साथ करार भारतीय कानून के तहत ही हुआ और यह फैसला पूरी तरह से कंपनी की ओर से लिया गया था। 

गौरतलब है कि फ्रांसीसी कंपनी दसॉल्ट के सीईओ एरिक ट्रैपियर ने स्पष्ट कहा है कि कानून के हिसाब से ही दसॉल्ट ने रिलायंस के साथ मिलकर नागपुर में प्लांट लगाने का फैसला किया है। उन्होंने कहा कि रिलायंस के साथ दसॉल्ट एविएशन का संयुक्त उपक्रम, विमान करार के तहत करीब 10 फीसदी आॅफसेट का प्रतिनिधित्व करता है। 

ये भी पढ़ें - अब आधार में बदलाव कराना नहीं होगा आसान, 1 जनवरी 2019 से लागू होंगे नए नियम

यहां बता दें कि दसाॅल्ट कंपनी ने कहा कि ‘वह करीब 100 भारतीय कंपनियों से इसके बारे में बात कर रहे हैं जिसमें से करीब 30 कंपनियों के साथ साझेदारी हो चुकी है। दसाॅल्ट के सीईओ एरिक ट्रैपियर ने हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) की जगह रिलायंस को चुनने पर सफाई देते हुए कहा कि कंपनी भारत में लंबी साझेदारी करना चाहता है इसी वजह से यह फैसला लिया गया है। 


 

गौर करने वाली बात है कि फ्रांसीसी वेबसाइट मीडियापार्ट ने डील का खुलासा करते हुए कहा कि रिलायंस के साथ करार को अनिवार्य बताया था। बता दें कि पूर्व फ्रांसीसी राष्ट्रपति ओलांद ने कहा था कि दसॉल्ट के लिए भारत से रिलायंस को ऑफसेट पार्टनर चुनने के अलावा उनके पास कोई दूसरा विकल्प नहीं था।

 

Todays Beets: