Saturday, October 20, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

केरल में हुए जिशा रेप-हत्याकांड के दोषी को मिली सजा ए मौत, एर्नाकुलम सेशन कोर्ट ने सुनाया फैसला

अंग्वाल न्यूज डेस्क
केरल में हुए जिशा रेप-हत्याकांड के दोषी को मिली सजा ए मौत, एर्नाकुलम सेशन कोर्ट ने सुनाया फैसला

नई दिल्ली। केरल में हुई बहुचर्चित जिशा रेप-हत्याकांड के आरोपी को अदालत ने फांसी की सजा सुनाई है। बता दें कि कल ही कोर्ट ने आरोपी अमीरुल इस्लाम को दोषी करार दिया था और गुरुवार को एर्नाकुलम सेशन कोर्ट ने यह फैसला सुनाया है। गौर करने वाली बात है कि पिछले साल अप्रैल के महीने में इस दर्दनाक हादसे को नशे की हालत में उसके घर में जबर्दस्ती घुसकर उसके साथ बलात्कार किया और बाद में उसकी हत्या कर दी थी।    

जबरन बलात्कार

गौरतलब है कि 28 अप्रैल 2016 को 30 साल की लाॅ स्टूडेंट जिशा की पेरंबवूर में उनके घर पर रेप कर हत्या कर दी गई थी। बता दें कि जिसने छात्रा के साथ बलात्कार किया वह असम से केरल आया मजदूर था और वह नशे की हालत में था। वह जिशा के घर में जबरन घुस गया था और घटना को अंजाम देने के बाद वह वहां से फरार हो गया।

ये भी पढ़ें - अमरनाथ यात्रा पर आदेश को लेकर NGT ने दी सफाई, कहा-मंत्रोच्चारण और आरती पर किसी तरह की रोक नहीं 


सेशन कोर्ट ने सुनाई फांसी

आपको बता दें कि केरल में हुई इस घटना ने पूरे देश को झकझोर दिया था। जिशा की मां ने इस घटना को रेयरेस्ट आॅफ रेयर मानते हुए कोर्ट से दोषी के लिए मौत की सजा मांगी थी। बता दें कि मामले की सुनवाई करीब 80 दिनों तक चली और आरोपी के खिलाफ 1500 पन्नों से अधिक का आरोपपत्र दायर किया गया। पुलिस ने मामले का खुलासा डीएनए परीक्षण के बाद किया। पूरे मामले की सुनवाई बंद कमरे में हुई। एर्नाकुलम के सेशन कोर्ट ने अमीरुल को दोषी करार देते हुए सजा ए मौत सुना दी है।  

 

Todays Beets: