Friday, April 20, 2018

Breaking News

   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||   बिहार: शराब और मुर्गे के साथ गश्त करने वाली पुलिस टीम निलंबित     ||   रेलवे की 90 हजार नौकरियों के आवेदन की आज लास्ट डेट, दो करोड़ 80 लाख कर चुके हैं अप्लाई     ||   कांग्रेस में बड़ा बदलाव: जनार्दन द्विवेदी की छुट्टी, गहलोत बने नए AICC महासचिव     ||   भारत ने चीन की तिब्बत सीमा पर भेजे और सैनिक, गश्त भी बढ़ाई     ||   अब कॉल सेंटर की नौकरियों पर नजर, अमेरिकी सांसद ने पेश किया बिल     ||   ब्लूमबर्ग मीडिया का दावा, 2019 छोड़िए 2029 तक पीएम रहेंगे नरेंद्र मोदी     ||   फेसबुक को डेटा लीक मामले से लगा तगड़ा झटका, 35 अरब डॉलर का नुकसान     ||

केरल में हुए जिशा रेप-हत्याकांड के दोषी को मिली सजा ए मौत, एर्नाकुलम सेशन कोर्ट ने सुनाया फैसला

अंग्वाल न्यूज डेस्क
केरल में हुए जिशा रेप-हत्याकांड के दोषी को मिली सजा ए मौत, एर्नाकुलम सेशन कोर्ट ने सुनाया फैसला

नई दिल्ली। केरल में हुई बहुचर्चित जिशा रेप-हत्याकांड के आरोपी को अदालत ने फांसी की सजा सुनाई है। बता दें कि कल ही कोर्ट ने आरोपी अमीरुल इस्लाम को दोषी करार दिया था और गुरुवार को एर्नाकुलम सेशन कोर्ट ने यह फैसला सुनाया है। गौर करने वाली बात है कि पिछले साल अप्रैल के महीने में इस दर्दनाक हादसे को नशे की हालत में उसके घर में जबर्दस्ती घुसकर उसके साथ बलात्कार किया और बाद में उसकी हत्या कर दी थी।    

जबरन बलात्कार

गौरतलब है कि 28 अप्रैल 2016 को 30 साल की लाॅ स्टूडेंट जिशा की पेरंबवूर में उनके घर पर रेप कर हत्या कर दी गई थी। बता दें कि जिसने छात्रा के साथ बलात्कार किया वह असम से केरल आया मजदूर था और वह नशे की हालत में था। वह जिशा के घर में जबरन घुस गया था और घटना को अंजाम देने के बाद वह वहां से फरार हो गया।

ये भी पढ़ें - अमरनाथ यात्रा पर आदेश को लेकर NGT ने दी सफाई, कहा-मंत्रोच्चारण और आरती पर किसी तरह की रोक नहीं 


सेशन कोर्ट ने सुनाई फांसी

आपको बता दें कि केरल में हुई इस घटना ने पूरे देश को झकझोर दिया था। जिशा की मां ने इस घटना को रेयरेस्ट आॅफ रेयर मानते हुए कोर्ट से दोषी के लिए मौत की सजा मांगी थी। बता दें कि मामले की सुनवाई करीब 80 दिनों तक चली और आरोपी के खिलाफ 1500 पन्नों से अधिक का आरोपपत्र दायर किया गया। पुलिस ने मामले का खुलासा डीएनए परीक्षण के बाद किया। पूरे मामले की सुनवाई बंद कमरे में हुई। एर्नाकुलम के सेशन कोर्ट ने अमीरुल को दोषी करार देते हुए सजा ए मौत सुना दी है।  

 

Todays Beets: