Monday, September 24, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

हैदराबाद विस्फोट मामले में मेट्रोपोलिटन सेशन न्यायालय ने सुनाया फैसला, 2 को सजा ए मौत और 1 को आजीवन कारावास

अंग्वाल न्यूज डेस्क
हैदराबाद विस्फोट मामले में मेट्रोपोलिटन सेशन न्यायालय ने सुनाया फैसला, 2 को सजा ए मौत और 1 को आजीवन कारावास

नई दिल्ली। हैदराबाद में हुए दोहरे बम विस्फोट मामले में मेट्रोपोलिटन सेशन न्यायालय ने तीनों दोषियों को सजा सुना दी है। अदालत ने 2 दोषियों को मौत की सजा और तीसरे दोषी को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। बताया जा रहा है कि विस्फोट करने वाले इंडियन मुजाहिदीन के आतंकी तारिक अंजुम को दोषी करार देते हुए उसे आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। इसके अलावा 2 अन्य आरोपियों अनीक शफीक सैयद और अकबर इस्माइल चौधरी को सजा-ए-मौत दी गई है।

गौरतलब है कि तारिक अंजुम पर विस्फोट में शामिल आतंकियों को प्रश्रय देने का आरोप लगा था और अदालत ने उसे पिछले सप्ताह दोषी करार दिया है। गौर करने वाली बात है कि 2007 में हुए इस विस्फोटों मंे 42 लोगों की जान चली गई थी। 

यहां बता दें कि 25 अगस्त 2007 को हैदराबाद के गोकुल चाट नाम के दुकान के पास हुए धमाके में 32 लोगों की जानें गईं थीं जबकि लुंबिनी पार्क में हुए विस्फोट में 10 लोगों ने जान गंवाई थी। दोनों बम विस्फोट में 50 से ज्यादा लोग घायल हो गए थे। अनीक पर ही लुंबिनी पार्क में बम रखने का आरोप है। इन लोगों को अक्टूबर 2008 में महाराष्ट्र आतंकवाद निरोधी दस्ते ने इन्हें गिरफ्तार किया था।


ये भी पढ़ें - हंदवाड़ा में सुरक्षाबलों ने लश्कर के 2 आतंकी को उतारा मौत के घाट, हथियार भी बरामद

गौर करने वाली बात है कि अदालत ने 2 आरोपियों फारूक और सादिक को सबूतों के अभाव में बरी कर दिया था। इस मामले में 3 अन्य आरोपी में इंडियन मुजाहिद्दीन का सरगना रियाज भटकल और उसका भाई इकबाल भटकल अभी भी फरार हैं।

Todays Beets: