Tuesday, February 19, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

शशांक मनोहर निर्विरोध चुने गए आईसीसी के चेयरमैन, अगले 2 सालों तक संभालेंगे जिम्मेदारी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
शशांक मनोहर निर्विरोध चुने गए आईसीसी के चेयरमैन, अगले 2 सालों तक संभालेंगे जिम्मेदारी

नई दिल्ली। बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष शशांक मनोहर एक बार फिर से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) के चेयरमैन बन गए हैं। उन्हें दूसरे कार्यकाल के लिए निर्विरोध चुना गया है। बता दें कि शशांक मनोहर को साल 2016 में पहली बार आईसीसी का स्वतंत्र चेयरमैन चुना गया था और अब निर्विरोध निर्वाचित होने के बाद वह अगले 2 सालों तक इस पद की जिम्मेदारी संभालना जारी रखेंगे।

गौरतलब है कि आईसीसी के अध्यक्ष की चुनावी प्रक्रिया के अनुसार, आईसीसी निदेशकों में से प्रत्येक को एक उम्मीदवार को नामित करने की अनुमति होती है। उम्मीदवार वर्तमान या पूर्व आईसीसी निदेशक होना चाहिए। जिस नामित को 2 या इससे अधिक निदेशकों का समर्थन मिलता है वह चुनाव लड़ने के योग्य माना जाता है।

ये भी पढ़ें - निशानेबाज हिना सिद्धू ने एक फिर दिखाया अपना दम, अंतरराष्ट्रीय मुकाबले में जीता गोल्ड


यहां गौर करने वाली बात है कि शशांक मनोहर के मामले में यह स्थिति बिल्कुल अलग बनी और नामित किए जाने वाले वह अकेले उम्मीदवार बने। चुनाव प्रक्रिया को देख रहे ऑडिट कमेटी के चेयरमैन एडवर्ड क्विनलैन ने प्रक्रिया पूर्ण होने और मनोहर के सफल उम्मीदवार होने की घोषणा की। बताया जा रहा है कि मनोहर का आईसीसी अध्यक्ष बनना कोलकाता बैठक में ही तय हो गया था क्योंकि किसी ने उनका विरोध नहीं किया था। 

बता दें कि शशांक मनोहर ने अपने कार्यकाल के दौरान कई महत्वपूर्ण सुधार किए थे, उन्होंने 2014 के प्रस्ताव को पलट दिया था। संशोधित शासन ढांचा लागू किया, जिसमें आईसीसी की पहली स्वतंत्र महिला निदेशक की नियुक्ति भी शामिल है। दोबारा अध्यक्ष बनाए जाने पर शशांक मनोहर ने आईसीसी के सभी निदेशकों का आभार जताया है। 

 

Todays Beets: