Monday, December 17, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

बैंकों की खस्ताहाली और कर्ज लेकर देश से भागने वालों के लिए यूपीए जिम्मेदार- निर्मला सीतारमण

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बैंकों की खस्ताहाली और कर्ज लेकर देश से भागने वालों के लिए यूपीए जिम्मेदार- निर्मला सीतारमण

नई दिल्ली। रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने बैंकों की खराब स्थिति और कर्ज लेकर देश से भाग चुके कारोबारियों के लिए कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए को जिम्मेदार ठहराया है। बुधवार को रक्षामंत्री ने चेन्नई में भाजपा के व्यापारी प्रकोष्ठ को संबोधित करते हुए कहा कि यूपीए के समय में बिना किसी कागजी कार्रवाई के कारोबारियों को लोन दिया गया। आज नतीजा यह है कि बैंकों के पास इतने पैसे नहीं हैं कि वह नया कारोबार शुरू करने वालों को लोन दिया जा सके। 

गौरतलब है कि रक्षामंत्री ने इस स्थिति के लिए कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार को जिम्मेदार ठहराया है। बिना किसी दस्तावेज और कागजी कार्रवाई के लोगों को लोन दिए गए जिसकी रिकवरी आज तक नहीं हो पाई है। इसका नतीजा यह हुआ कि बैकों की हालत खस्ता हो गई है। रक्षामंत्री ने बैंकों की खस्ताहाली के बावजूद विकास दर के 8 के करीब बने रहने के लिए पीएम मोदी के द्वारा उठाए गए कदमों को माना है। 

ये भी पढ़ें - त्योहार से पहले रेलवे कर्मचारियों को सरकार की सौगात, मिलेगा 78 दिनों का बोनस


यहां बता दें कि धोखाधड़ी बैंकों के बाद देश से भागने वाले डिफॉल्टर्स के मुद्दे से निपटने के लिए, एक सक्षम कानून - दिवालियापन और दिवालियापन संहिता, 2016 - पारित किया गया जिसमें धोखाधड़ी करने वाले पूरी तरह से घिर गए हैं और उन्हें कैसे घेरकर वापस देश में लाया जाए अब इस पर विचार किया जा रहा है। यूपीए पर हमला करते हुए निर्मला सीतारमण ने कहा कि यूपीए के 10 सालों के शासन में डिफाॅल्टर्स पर शिकंजा कसने के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया।  

 

Todays Beets: