Sunday, September 23, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

विमानों के दुर्घटनाग्रस्त होने के पीछे सोशल मीडिया का इस्तेमाल जिम्मेदार- वायुसेना प्रमुख

अंग्वाल न्यूज डेस्क
विमानों के दुर्घटनाग्रस्त होने के पीछे सोशल मीडिया का इस्तेमाल जिम्मेदार- वायुसेना प्रमुख

नई दिल्ली। वायुसेना के विमानों के लगातार दुर्घटनाग्रस्त होने को लेकर वायुसेना प्रमुख ने एक बड़ा बयान दिया है। एयर चीफ मार्शल बीएस धनोआ ने बंगलुरु इंडियन सोसायटी ऑफ एयरोस्पेस मेडिसिन के 57वें सम्मेलन में कहा कि पायलटों के सोशल मीडिया की लत की वजह से विमान दुर्घटना का शिकार हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि देर रात तक सोशल मीडिया का इस्तेमाल करने की वजह से उनकी नींद पूरी नहीं हो पाती है ऐसे में विमान उड़ाने पर उसके दुर्घटनाग्रस्त होने की संभावना ज्याद बढ़ जाती है। 

गौरतलब है कि एयर चीफ मार्शल धनोआ ने यहां इंडियन सोसायटी ऑफ एयरोस्पेस मेडिसिन के 57वें सम्मेलन में उपस्थित लोगों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सभी देर रात तक कई घंटे सोशल मीडिया पर बिताते दिखते हैं। कई बार उड़ान से पहले की ब्रीफिंग सुबह 6 बजे होती है और तब तक पायलट ठीक से नींद नहीं ले पाते हैं।


ये भी पढ़ें - तेलंगाना में जमकर ‘केसीआर’ पर बरसे भाजपाध्यक्ष, कहा- जबर्दस्ती चुनाव थोपने वालों की नहीं बनेग...

यहां बता दें कि वायुसेना प्रमुख ने कहा कि एक ऐसे सिस्टम की जरूरत है जिससे इस बात का पता चल पाए कि पायलटों की नींद पूरी हुई है या नहीं। उन्होंने साल 2013 में राजस्थान के बाड़मेड़ में दुर्घटनाग्रस्त हुए मिग 21 का उदाहरण देते हुए कहा कि पायलट के कई दिनों से पूरी नींद नहीं लेने की वजह से यह दुर्घटना हुई थी। 

Todays Beets: