Monday, May 21, 2018

Breaking News

   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||   बिहार: शराब और मुर्गे के साथ गश्त करने वाली पुलिस टीम निलंबित     ||

सुन्नी वक्फ बोर्ड बिफरा, कहा- कपिल सिब्बल ने हमारा वकील बनकर गलत बात कही, अयोध्या मामले में जल्द सुनवाई हो

अंग्वाल संवाददाता
सुन्नी वक्फ बोर्ड बिफरा, कहा- कपिल सिब्बल ने हमारा वकील बनकर गलत बात कही, अयोध्या मामले में जल्द सुनवाई हो

नई दिल्ली । कांग्रेसी नेता और सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील कपिल सिब्बल अयोध्या मामले की सुनवाई को लेकर अपनी मांग पर घिर गए हैं। भाजपा ने कपिल सिब्बल की मांग पर जहां कांग्रेस और सुन्नी वक्फ बोर्ड को घेरा है, वहीं सुन्नी वक्फ बोर्ड ने अपने वकील कपिल सिब्बल की सुप्रीम कोर्ट में दी दलीलों पर असहमति जताई है। सुन्नी वक्फ बोर्ड के हाजी महबूब ने कहा कि भले ही सिब्बल हमारे वकील हैं, लेकिन वह एक पार्टी के नेता भी हैं। सुनवाई टलवाने के लिए सुप्रीम कोर्ट में उन्होंने कल जो दलील दी, वह गलत थी। हम चाहते हैं कि राम मंदिर-बाबरी मस्जिद विवाद का समाधान जल्द से जल्द हो। इस बीच पीएम मोदी समेत भाजपा के फायर ब्रांड नेताओं ने कांग्रेस पर अयोध्या मामला टालने का आरोप लगाते हुए कटाक्ष किए। 

ये भी पढ़ें- समुदाय विशेष में शादी करों और सरकार से पाओ 2.5 लाख रुपये, सरकार ने पुराने नियमों में किया बदलाव

जानिए क्या कहा था सिब्बल ने

बता दें कि अयोध्या मामले की सुनवाई शुरू हो गई है। मामले के एक एक पक्षकार सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील कपिल सिब्बल ने सुप्रीम कोर्ट से मामले की सुनवाई को 2019 के आम चुनावों के बाद करने की मांग की थी। सिब्बल ने अपनी दलील में कहा कि मौजूदा माहौल सुनवाई के लिहाज से ठीक नहीं है। इसका राजनीतिक फायदा उठाया जा सकता है। देश के धर्मनिरपेक्ष ढांचे के लिहाज से यह एक संवेदनशील मामला है और अदालत के बाहर इसका असर पड़ सकता है।

ये भी पढ़ें- फारूख अब्दुल्ला की चुनौती स्वीकार कर लाल चौक पर तिरंगा लहराने पहुंचे शिवसैनिक, 8 को पुलिस ने लिया हिरासत में 

बोर्ड ने सिब्बल की बातों को खारिज किया

सिब्बल के इस बयान के बाद जहां कांग्रेस पर अयोध्या मामले की सुनवाई टालने के आरोप लगे वहीं सुन्नी वक्फ बोर्ड ने भी अपने वकील की बातों पर असमति जताई। बोर्ड बोर्ड के हाजी महबूब ने कहा कि भले ही कपिल सिब्बल कोर्ट में हमारे वकील के तौर पर गए थे लेकिन वह एक राजनीतिक पार्टी के नेता भी है। हम उनकी कोर्ट में दी गई दलीलों से इत्तेफाक नहीं रखते। उन्होंने कोर्ट में सुनवाई टालने के लिए जो दलीलें दीं, वह गलत थी। हम चाहते हैं कि राम मंदिर-बाबरी मस्जिद विवाद का समाधान जल्द से जल्द हो।


ये भी पढ़ें- आतंकी साजिश रचने वाले 8 आतंकियों को मिली उम्रकैद, दो-दो लाख का जुर्माना भी लगाया गया 

भाजपा ने खोला कांग्रेस के खिलाफ मोर्चा

सुन्नी वक्फ बोर्ड के हाजी महबूब के बयान के बाद भाजपा ने कांग्रेस पर जमकर हल्ला बोल दिया है। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने  कहा कि कांग्रेस को इस पर अपनी स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए। वह अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के पक्ष में है या नहीं। वहीं भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने सिब्बल पर कटाक्ष मारते हुए कहा कि कोर्ट में सिब्बल बनकर तो सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील गए थे लेकिन वहां जाकर बोली कांग्रेसियों की बोलने लगे। राहुल गांधी को राम मंदिर पर कांग्रेस पार्टी का रुख स्पष्ट करना चाहिए।

ये भी पढ़ें- निर्दलीय चुनाव लड़ने वाले दलित नेता जिग्नेश के काफिले पर हुआ हमला, जान को खतरा बताते हुए सुरक्षा की मांग

इसी क्रम में कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने भी कहा कि सिब्बल को यह नहीं भूलना चाहिए कि वह कानून मंत्री रहे हैं। इस बात से उनका क्या मतलब है कि 2019 तक अयोध्या मामले की सुनवाई नहीं होनी चाहिए क्योंकि अदालत के बाहर इसका असर पड़ सकता है? उनका यह बयान सरासर अनुचित और गैर-जिम्मेदाराना है।

Todays Beets: