Sunday, February 17, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

दहेज प्रताड़ना को लेकर सुप्रीम कोर्ट का अहम फैसला, कहा- गिरफ्तारी का अधिकार पुलिस के पास ही रहेगा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दहेज प्रताड़ना को लेकर सुप्रीम कोर्ट का अहम फैसला, कहा- गिरफ्तारी का अधिकार पुलिस के पास ही रहेगा

नई दिल्ली। दहेज प्रताड़ना को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को एक अहम फैसला सुनाया है। कोर्ट की 3 सदस्यीय बेंच ने कहा कि इस मामले में गिरफ्तारी का अधिकार पुलिस के पास ही होना चाहिए। कोर्ट ने दहेज प्रताड़ना की शिकायत के निपटारे के लिए वेलफेयर कमेटी बनाने से भी इंकार कर दिया है। यहां बता दें कि सर्वोच्च अदालत ने सभी राज्यों के डीजीपी को दहेज प्रताड़ना के खिलाफ जागरूकता अभियान चलाएं।

गौरतलब है कि इससे पहले सुप्रीम कोर्ट की 2 सदस्यीय बेंच ने दहेज प्रताड़ना के खिलाफ गिरफ्तारी का आदेश दिया था और समस्या के समाधान के लिए सिविल सोसाइटी की एक कमेटी बनाने का आदेश दिया था। इस आदेश के खिलाफ अदालत में चुनौती दी गई थी। यहां बता दें कि शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने 2 सदस्यीय बेंच के आदेश को संशोधित करते हुए दहेज प्रताड़ना के मामले में गिरफ्तारी का अधिकार पुलिस को दे दिया है और सिविल सोसाइटी की कमेटी बनाने के आदेश को हटा दिया है।


ये भी पढ़ें - वायरल वीडियो - युवती को बेरहमी से पीटने वाले दरोगा के बेटे पर होगी कार्रवाई , उदासीन पुलिस को...

यहां बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि कोर्ट इस तरह आपराधिक मामले की जांच के लिए सिविल कमेटी नियुक्त नहीं कर सकता, इसकी इजाजत नहीं दी जा सकती। कोर्ट ने कहा कि दहेज प्रताड़ना के खिलाफ दोनों पक्षों में संतुलन होने बेहद जरूरी है। इसके साथ ही कोर्ट ने कहा कि अगर इस मामले में पति के पक्ष से अगर अग्रिम जमानत की अर्जी दी जाती है तो उसकी सुनवाई उसी दिन हो सकती है। बड़ी बात यह है कि अदालत में दायर चुनौती याचिका में कहा गया था कि कोर्ट को कानून बनाने का कोई अधिकार नहीं है। कानून बनाने का मकसद महिलाओं को न्याय दिलाना है लेकिन सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद इहेज प्रताड़ना के खिलाफ गिरफ्तारी बंद हो गई थी। 

Todays Beets: