Friday, September 21, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

दहेज प्रताड़ना को लेकर सुप्रीम कोर्ट का अहम फैसला, कहा- गिरफ्तारी का अधिकार पुलिस के पास ही रहेगा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दहेज प्रताड़ना को लेकर सुप्रीम कोर्ट का अहम फैसला, कहा- गिरफ्तारी का अधिकार पुलिस के पास ही रहेगा

नई दिल्ली। दहेज प्रताड़ना को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को एक अहम फैसला सुनाया है। कोर्ट की 3 सदस्यीय बेंच ने कहा कि इस मामले में गिरफ्तारी का अधिकार पुलिस के पास ही होना चाहिए। कोर्ट ने दहेज प्रताड़ना की शिकायत के निपटारे के लिए वेलफेयर कमेटी बनाने से भी इंकार कर दिया है। यहां बता दें कि सर्वोच्च अदालत ने सभी राज्यों के डीजीपी को दहेज प्रताड़ना के खिलाफ जागरूकता अभियान चलाएं।

गौरतलब है कि इससे पहले सुप्रीम कोर्ट की 2 सदस्यीय बेंच ने दहेज प्रताड़ना के खिलाफ गिरफ्तारी का आदेश दिया था और समस्या के समाधान के लिए सिविल सोसाइटी की एक कमेटी बनाने का आदेश दिया था। इस आदेश के खिलाफ अदालत में चुनौती दी गई थी। यहां बता दें कि शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने 2 सदस्यीय बेंच के आदेश को संशोधित करते हुए दहेज प्रताड़ना के मामले में गिरफ्तारी का अधिकार पुलिस को दे दिया है और सिविल सोसाइटी की कमेटी बनाने के आदेश को हटा दिया है।


ये भी पढ़ें - वायरल वीडियो - युवती को बेरहमी से पीटने वाले दरोगा के बेटे पर होगी कार्रवाई , उदासीन पुलिस को...

यहां बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि कोर्ट इस तरह आपराधिक मामले की जांच के लिए सिविल कमेटी नियुक्त नहीं कर सकता, इसकी इजाजत नहीं दी जा सकती। कोर्ट ने कहा कि दहेज प्रताड़ना के खिलाफ दोनों पक्षों में संतुलन होने बेहद जरूरी है। इसके साथ ही कोर्ट ने कहा कि अगर इस मामले में पति के पक्ष से अगर अग्रिम जमानत की अर्जी दी जाती है तो उसकी सुनवाई उसी दिन हो सकती है। बड़ी बात यह है कि अदालत में दायर चुनौती याचिका में कहा गया था कि कोर्ट को कानून बनाने का कोई अधिकार नहीं है। कानून बनाने का मकसद महिलाओं को न्याय दिलाना है लेकिन सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद इहेज प्रताड़ना के खिलाफ गिरफ्तारी बंद हो गई थी। 

Todays Beets: