Thursday, October 19, 2017

Breaking News

   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||

सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली-एनसीआर में पटाखे की बिक्री पर लगी रोक को रखा बरकरार, कहा-रात 11 बजे तक चला सकेंगे पटाखे

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली-एनसीआर में पटाखे की बिक्री पर लगी रोक को रखा बरकरार, कहा-रात 11 बजे तक चला सकेंगे पटाखे

नई दिल्ली। दिल्ली-एनसीआर में पटाखे चलाने पर रोक लगाने के खिलाफ याचिका दायर करने वालों को सुप्रीम कोर्ट ने एक बड़ा झटका दिया है। कोर्ट ने पटाखों की बिक्री पर रोक को बरकरार रखते हुए कहा कि जिसके पास भी पटाखा है वे रात को 11 बजे तक पटाखे छोड़ सकते हैं। अदालत के फैसले से पटाखा व्यापारियों में काफी नाराजगी है। 

11 बजे रात तक चलाएं पटाखे

आपको बता दें कि पटाखों के निकलने वाले धुएं से होने वाले प्रदूषण को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने पटाखों की बिक्री पर रोक लगा दी थी। जस्टिस एके सीकरी की अध्यक्षता वाली पीठ ने पटाखों की बिक्री से रोक हटाने वाली याचिका पर सुनवाई करते हुए पिछला आदेश बदलने से इनकार कर दिया है। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर व्यापारियों ने 9 अक्टूबर के आदेश में संशोधन की मांग की थी। व्यापारियों का कहना था कि वे पटाखे खरीदने में काफी पूंजी लगा चुके हैं और यदि प्रतिबंध जारी रहा, तो उनको भारी नुकसान उठाना पड़ेगा।


ये भी पढ़ें - एयरटेल ने टाटा टेलिसर्विसेस का किया अधिग्रहण, कर्मचारियों की नहीं जाएगी नौकरी

अस्थाई बिक्रेताओं को नुकसान

आपको बता दें कि अस्थाई पटाखा व्यापारियों का कहना है कि उन्हें ए नवंबर तक ही पटाखा बेचने का लाईसेंस मिला है ऐसे में अगी अनुमति नहीं दी जाती है तो उन्हंे भारी नुकसान उठाना पड़ेगा। 

Todays Beets: