Friday, June 22, 2018

Breaking News

   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||   टेस्ट में भारत की सबसे बड़ी जीत: अफगानिस्तान को एक दिन में 2 बार ऑलआउट किया, डेब्यू टेस्ट 2 दिन में खत्म     ||   पेशावर स्कूल हमले का मास्टरमाइंड और मलाला पर गोली चलवाने वाला आतंकी फजलुल्लाह मारा गया: रिपोर्ट     ||   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||

सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली-एनसीआर में पटाखे की बिक्री पर लगी रोक को रखा बरकरार, कहा-रात 11 बजे तक चला सकेंगे पटाखे

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली-एनसीआर में पटाखे की बिक्री पर लगी रोक को रखा बरकरार, कहा-रात 11 बजे तक चला सकेंगे पटाखे

नई दिल्ली। दिल्ली-एनसीआर में पटाखे चलाने पर रोक लगाने के खिलाफ याचिका दायर करने वालों को सुप्रीम कोर्ट ने एक बड़ा झटका दिया है। कोर्ट ने पटाखों की बिक्री पर रोक को बरकरार रखते हुए कहा कि जिसके पास भी पटाखा है वे रात को 11 बजे तक पटाखे छोड़ सकते हैं। अदालत के फैसले से पटाखा व्यापारियों में काफी नाराजगी है। 

11 बजे रात तक चलाएं पटाखे

आपको बता दें कि पटाखों के निकलने वाले धुएं से होने वाले प्रदूषण को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने पटाखों की बिक्री पर रोक लगा दी थी। जस्टिस एके सीकरी की अध्यक्षता वाली पीठ ने पटाखों की बिक्री से रोक हटाने वाली याचिका पर सुनवाई करते हुए पिछला आदेश बदलने से इनकार कर दिया है। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर व्यापारियों ने 9 अक्टूबर के आदेश में संशोधन की मांग की थी। व्यापारियों का कहना था कि वे पटाखे खरीदने में काफी पूंजी लगा चुके हैं और यदि प्रतिबंध जारी रहा, तो उनको भारी नुकसान उठाना पड़ेगा।


ये भी पढ़ें - एयरटेल ने टाटा टेलिसर्विसेस का किया अधिग्रहण, कर्मचारियों की नहीं जाएगी नौकरी

अस्थाई बिक्रेताओं को नुकसान

आपको बता दें कि अस्थाई पटाखा व्यापारियों का कहना है कि उन्हें ए नवंबर तक ही पटाखा बेचने का लाईसेंस मिला है ऐसे में अगी अनुमति नहीं दी जाती है तो उन्हंे भारी नुकसान उठाना पड़ेगा। 

Todays Beets: