Sunday, January 20, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

एससी, एसटी एक्ट उल्लंघन मामले पर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, लोकसेवकों की गिरफ्तारी से पहले जांच जरूरी 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
एससी, एसटी एक्ट उल्लंघन मामले पर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, लोकसेवकों की गिरफ्तारी से पहले जांच जरूरी 

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने एससी/एसटी अधिनियम 1989 के मामले में मंगलवार को नया दिशा निर्देश जारी किया है।  कोर्ट ने कहा कि ऐसे मामलों में किसी भी लोकसेवक की फौरन गिरफ्तारी नहीं होनी चाहिए। इसके लिए पहले वरिष्ठ पुलिस अधिकारी की निगरानी में इसकी जांच होनी चाहिए।  गौरतलब है कि एससी/एसटी एक्ट का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ दर्ज मामलों में किसी भी लोकसेवक की गिरफ्तारी से पहले न्यूनतम पुलिस उपाधीक्षक रैंक के अधिकारी द्वारा प्राथमिक जांच जरूर कराई जानी चाहिए। इस मामले की सुनवाई करते हुए न्यायमूर्ति आदर्श गोयल और न्यायमूर्ति यू. यू. ललित की पीठ ने कहा कि लोक सेवकों के खिलाफ एससी/एसटी कानून के तहत दर्ज मामलों में अग्रिम जमानत देने पर पूर्ण प्रतिबंध नहीं है।  पीठ ने यह भी कहा कि एससी/एसटी कानून के तहत दर्ज मामलों में सक्षम प्राधिकार की अनुमति के बाद ही किसी लोक सेवक को गिरफ्तार किया जा सकता है।

 

ये भी पढ़ें - हवाई यात्रियों की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, इंडिगो के बाद अब एयर इंडिया और जेट एयरवेज के विमानों...


 

बता दें कि महाराष्ट्र की एक याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने ये अहम फैसला सुनाया है। हालांकि सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने इस दौरान कुछ सवाल भी उठाए। गौरतलब है कि एससी/एसटी एक्ट के तहत कई मामले फर्जी भी सामने आ चुके हैं। लोगों का आरोप है कि कुछ लोग अपने फायदे और दूसरों को नुकसान पहुंचाने के लिए इस कानून का दुरुपयोग कर रहे हैं जिसको लेकर सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया गया था।

 

Todays Beets: