Monday, March 18, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

माॅब लिंचिंग पर 'सुप्रीम फैसला', नया कानून बनाए संसद

अंग्वाल न्यूज डेस्क
माॅब लिंचिंग पर

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को कहा कि माॅब लिंचिंग की घटनाएं लोकतंत्र के लिए अच्छी नहीं है। ऐसी घटनाओं से लोकतंत्र को धक्का लगता है। सुप्रीम कोर्ट ने माॅब लिंचिंग की घटनाओं की निंदा करते हुए इसको रोकने के लिए गाइड लाइन जारी किए हैं। कोर्ट ने कहा कि माॅब लिंचिंग पर संसद में कानून बानने की जरूरत है। जब तक इस पर कानून नहीं बन जाता है तब तक सुप्रीम कोर्ट के गाइड लाइन को केंद्र और राज्य सरकार लागू करें। सुप्रीम कोर्ट ने 4 हफ्तों में गाइड लाइन लागू करने का आदेश दिया है। इससे पहले 3 जुलाई को कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई के बाद फैसला सुरक्षित रख लिया था। 

ताजा मामले में सोमवार को कर्नाटक में कुछ लोग बच्चों को चाॅकलेट बांट रहे थे। उनको बच्चा चोर समझकर भीड़ जमा हो गई। भीड़ ने लोगों को खदेड़ना शुरू कर दिया। इसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई। जानकार बताते हैं कि सोशल मीडिया के साथ ही ऐसी अफवाह को फैलाने में स्थानीय न्यूज पेपर और चैनल भी भूमिका निभा रहे हैं। जल्दी और सनसनीखेज न्यूज बनाने के चक्कर में कई अफवाह भी फैल रही है।    बता दें कि पिछले दिनों देश के विभिन्न हिस्सों से माॅब लिंचिंग की घटनाअें की खबरे सामने आ रही थीं। देश के अलग-अलग हिस्सों में भीड़ ने 30 से ज्यादा लोगों की जान ले ली। बहुत से लोगों ने इसके लिए सोशल मीडिया खासकर वाॅट्स एप को जिम्मेदार ठहराया। इस पर सरकार ने सख्ती दिखाते हुए वाॅट्स एप से अपने प्लेटफाॅर्म को सुधारने के लिए कहा। इस पर वाॅट्स एप ने समय मांगा और कुछ दिनों के बाद एप में कुछ नए फीचर्स को शामिल किए।    


 

Todays Beets: