Tuesday, August 14, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

माॅब लिंचिंग पर 'सुप्रीम फैसला', नया कानून बनाए संसद

अंग्वाल न्यूज डेस्क
माॅब लिंचिंग पर

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को कहा कि माॅब लिंचिंग की घटनाएं लोकतंत्र के लिए अच्छी नहीं है। ऐसी घटनाओं से लोकतंत्र को धक्का लगता है। सुप्रीम कोर्ट ने माॅब लिंचिंग की घटनाओं की निंदा करते हुए इसको रोकने के लिए गाइड लाइन जारी किए हैं। कोर्ट ने कहा कि माॅब लिंचिंग पर संसद में कानून बानने की जरूरत है। जब तक इस पर कानून नहीं बन जाता है तब तक सुप्रीम कोर्ट के गाइड लाइन को केंद्र और राज्य सरकार लागू करें। सुप्रीम कोर्ट ने 4 हफ्तों में गाइड लाइन लागू करने का आदेश दिया है। इससे पहले 3 जुलाई को कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई के बाद फैसला सुरक्षित रख लिया था। 

ताजा मामले में सोमवार को कर्नाटक में कुछ लोग बच्चों को चाॅकलेट बांट रहे थे। उनको बच्चा चोर समझकर भीड़ जमा हो गई। भीड़ ने लोगों को खदेड़ना शुरू कर दिया। इसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई। जानकार बताते हैं कि सोशल मीडिया के साथ ही ऐसी अफवाह को फैलाने में स्थानीय न्यूज पेपर और चैनल भी भूमिका निभा रहे हैं। जल्दी और सनसनीखेज न्यूज बनाने के चक्कर में कई अफवाह भी फैल रही है।    बता दें कि पिछले दिनों देश के विभिन्न हिस्सों से माॅब लिंचिंग की घटनाअें की खबरे सामने आ रही थीं। देश के अलग-अलग हिस्सों में भीड़ ने 30 से ज्यादा लोगों की जान ले ली। बहुत से लोगों ने इसके लिए सोशल मीडिया खासकर वाॅट्स एप को जिम्मेदार ठहराया। इस पर सरकार ने सख्ती दिखाते हुए वाॅट्स एप से अपने प्लेटफाॅर्म को सुधारने के लिए कहा। इस पर वाॅट्स एप ने समय मांगा और कुछ दिनों के बाद एप में कुछ नए फीचर्स को शामिल किए।    


 

Todays Beets: