Monday, December 17, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

भारत में नहीं लागू होगी ‘चीनी नीति’, सुप्रीम कोर्ट में दो बच्चे की नीति वाली याचिका खारिज

अंग्वाल न्यूज डेस्क
भारत में नहीं लागू होगी ‘चीनी नीति’, सुप्रीम कोर्ट में दो बच्चे की नीति वाली याचिका खारिज

नई दिल्ली। देश की सर्वोच्च अदालत ने भारत में 2 बच्चों वाली नीति लागू करने वाली याचिका को शुक्रवार को खारिज कर दिया। बता दें कि वकील शिव कुमार त्रिपाठी के माध्यम से सामाजिक कार्यकर्ता अनुपमा वाजपेयी ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी। इस याचिका में कहा गया था कि भारत में भी चीन की तरह दो बच्चों की नीति लागू करनी चाहिए। दो बच्चों वाले दंपत्ति को पुरस्कार दिया जाना चाहिए एवं इसका उल्लंघन करने वालों को सरकारी सुविधाओं से वंचित कर देना चाहिए।

 

ये भी पढ़ें - उत्तरप्रदेश के उपचुनाव में पीएम मोदी और विराट कोहली बने मतदाता, सहजनवां की वोटर लिस्ट में नाम...


गौरतलब है कि अनुपमा वाजपेयी द्वारा दायर याचिका में कहा गया था कि देश में खेती वाली भूमि, पानी और अन्य संसाधनों की कमी हो रही है जिसके लिए बढ़ती हुई जनसंख्या सीधे तौर पर जिम्मेदार है। ऐसे में भारत में भी चीन की तर्ज पर दो बच्चों की नीति लागू की जानी चाहिए। याचिका में यह भी कहा गया था कि सरकार को इस बात के भी निर्देश दिए जाने चाहिए कि वह लोगों में दो से ज्यादा बच्चे पैदा करने पर होने वाले नुकसान के बारे में जागरूकता फैलाए।  याचिका में यह भी कहा गया था कि यदि मौजूदा पीढ़ी की मानसिकता में बदलाव नहीं किया गया तो इसका असर भविष्य की पीढ़ियों पर पड़ेगा।

 

Todays Beets: