Sunday, March 24, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

भारत में नहीं लागू होगी ‘चीनी नीति’, सुप्रीम कोर्ट में दो बच्चे की नीति वाली याचिका खारिज

अंग्वाल न्यूज डेस्क
भारत में नहीं लागू होगी ‘चीनी नीति’, सुप्रीम कोर्ट में दो बच्चे की नीति वाली याचिका खारिज

नई दिल्ली। देश की सर्वोच्च अदालत ने भारत में 2 बच्चों वाली नीति लागू करने वाली याचिका को शुक्रवार को खारिज कर दिया। बता दें कि वकील शिव कुमार त्रिपाठी के माध्यम से सामाजिक कार्यकर्ता अनुपमा वाजपेयी ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी। इस याचिका में कहा गया था कि भारत में भी चीन की तरह दो बच्चों की नीति लागू करनी चाहिए। दो बच्चों वाले दंपत्ति को पुरस्कार दिया जाना चाहिए एवं इसका उल्लंघन करने वालों को सरकारी सुविधाओं से वंचित कर देना चाहिए।

 

ये भी पढ़ें - उत्तरप्रदेश के उपचुनाव में पीएम मोदी और विराट कोहली बने मतदाता, सहजनवां की वोटर लिस्ट में नाम...


गौरतलब है कि अनुपमा वाजपेयी द्वारा दायर याचिका में कहा गया था कि देश में खेती वाली भूमि, पानी और अन्य संसाधनों की कमी हो रही है जिसके लिए बढ़ती हुई जनसंख्या सीधे तौर पर जिम्मेदार है। ऐसे में भारत में भी चीन की तर्ज पर दो बच्चों की नीति लागू की जानी चाहिए। याचिका में यह भी कहा गया था कि सरकार को इस बात के भी निर्देश दिए जाने चाहिए कि वह लोगों में दो से ज्यादा बच्चे पैदा करने पर होने वाले नुकसान के बारे में जागरूकता फैलाए।  याचिका में यह भी कहा गया था कि यदि मौजूदा पीढ़ी की मानसिकता में बदलाव नहीं किया गया तो इसका असर भविष्य की पीढ़ियों पर पड़ेगा।

 

Todays Beets: