Friday, December 14, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

कांग्रेस नेताओं को सुप्रीम कोर्ट ने दिया झटका, कमलनाथ और सचिन पायलट की अर्जी की खारिज 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कांग्रेस नेताओं को सुप्रीम कोर्ट ने दिया झटका, कमलनाथ और सचिन पायलट की अर्जी की खारिज 

नई दिल्ली। कांग्रेस के नेता कमलनाथ और सचिन पायलट को सुप्रीम कोर्ट ने एक झटका दिया है। दोनों नेताओं ने चुनाव आयोग को मतदाता सूची का मसौदा टेक्स्ट फॉर्मेट में उपलब्ध कराने के निर्देश देने की मांग की थी। इसके साथ ही दोनांे नेताओं ने मध्य प्रदेश और राजस्थान के आगामी विधानसभा चुनावों से पहले वीवीपीएटी मशीनों की औचक जांच करने और टेक्स्ट रूप में मतदाता सूची मुहैया कराने की मांग की थी। गौर करने वाली बात है कि न्यायमूर्ति ए के सीकरी और न्यायमूर्ति अशोक भूषण की पीठ ने इस मामले में 8 अक्टूबर को सुनवाई पूरी की है। 

गौरतलब है कि इस मामले की सुनवाई के लिए कांग्रेस और चुनाव आयोग की ओर से पेश हुए वकीलों ने एक दूसरे पर आरोप लगाए।  कांग्रेस नेता कमलनाथ की ओर से दाखिल की गई अर्जी में कहा गया था कि पीडीएफ रूप की बजाय नियमों के मुताबिक टेक्स्ट रूप में मतदाता सूची प्रकाशित करने के निर्देश जारी किए जाने चाहिए और उन्हें अंतिम रूप से प्रकाशित करने से पहले सभी शिकायतों पर तेजी से फैसले लिए जाने चाहिए।


ये भी पढ़ें - पराली जलाने के ‘साइड इफैक्ट’, 15 अक्टूबर से दिल्ली में बढ़ेगी पार्किंग फीस

यहां बता दें कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने यह भी कहा था कि चुनाव आयोग को निर्देश दिया जाना चाहिए कि वह हर चुनाव क्षेत्र में 10 फीसदी मतदान केंद्रों में ईवीएम में डाले गए वोटों का मिलान वीवीपीएटी पर्चियों से औचक तौर पर किया जाना चाहिए।

Todays Beets: