Monday, August 20, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

भारी हंगामें की भेंट चढ़ा मानसून सत्र का आखिरी दिन, नहीं पेश हो सका तीन तलाक बिल

अंग्वाल न्यूज डेस्क
भारी हंगामें की भेंट चढ़ा मानसून सत्र का आखिरी दिन, नहीं पेश हो सका तीन तलाक बिल

नई दिल्ली। मानसून सत्र के आखिरी दिन भी संसद में तीन तलाक बिल पास नहीं हो पाया। अब इसे शीतकालीन सत्र में पेश किया जाएगा। बता दें कि विपक्ष द्वारा राफेल सौदे की जांच संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) से कराने की मांग और तीन तलाक बिल पर आम सहमति न बन पाने की वजह से राज्यसभा मंे इसे पेश नहीं किया जा सका। विपक्ष के भारी हंगामे के चलते 2 बार सदन की कार्यवाही स्थगित करनी पड़ी। 

गौरतलब है कि संसद सत्र के आखिरी दिन सरकार की तरफ से कोशिश की जा रही थी कि शुक्रवार को हर हाल में तीन तलाक बिल को राज्यसभा में पेश किया जाए लेकिन विपक्ष भी पूरी तरह से उसका विरोध करने पर अड़ा हुआ था। सरकार द्वारा बिल पेश करने से पहले ही विपक्ष ने राफेल डील को लेकर जोरदार हंगामा कर दिया। 

ये भी पढ़ें - केरल में भारी बारिश से 26 लोगों  की मौत, केंद्र ने दिया हर संभव मदद का भरोसा


यहां बता दें कि बिल को पेश करने के लिए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने गृह मंत्री राजनाथ सिंह और कई अन्य मंत्रियों के साथ मिलकर रणनीति तैयार की थी। बैठक की जानकारी अभी नहीं मिल पाई है।

गौर करने वाली बात है कि नवनिर्वाचित उपसभापति हरिवंश ने सत्र का संचालन किया। राज्यसभा के सदस्यों ने उनके आसन पर बैठने का स्वागत भी किया। विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि राफेल सौदा एक बड़ा घोटाला है और इसकी जेपीसी से जांच कराए जाने की मांग की। कांग्रेस नेता आनंद शर्मा के द्वारा नियम 267 के तहत दिए गए नोटिस को सभापति ने स्वीकार नहीं किया। भारी शोरशराबे के बीच कार्यवाही स्थगित करनी पड़ी, अब यह बिल शीतकालीन सत्र में पेश किया जाएगा।

 

Todays Beets: