Thursday, December 13, 2018

Breaking News

   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||    दिल्ली: TDP नेता वाईएस चौधरी को HC से राहत, गिरफ्तारी पर रोक     ||    पूर्व क्रिकेटर अजहर तेलंगाना कांग्रेस समिति के कार्यकारी अध्यक्ष बनाए गए     ||   किसानों को कांग्रेस ने मजबूर और बीजेपी ने मजबूत बनाया: PM मोदी     ||

भारी हंगामें की भेंट चढ़ा मानसून सत्र का आखिरी दिन, नहीं पेश हो सका तीन तलाक बिल

अंग्वाल न्यूज डेस्क
भारी हंगामें की भेंट चढ़ा मानसून सत्र का आखिरी दिन, नहीं पेश हो सका तीन तलाक बिल

नई दिल्ली। मानसून सत्र के आखिरी दिन भी संसद में तीन तलाक बिल पास नहीं हो पाया। अब इसे शीतकालीन सत्र में पेश किया जाएगा। बता दें कि विपक्ष द्वारा राफेल सौदे की जांच संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) से कराने की मांग और तीन तलाक बिल पर आम सहमति न बन पाने की वजह से राज्यसभा मंे इसे पेश नहीं किया जा सका। विपक्ष के भारी हंगामे के चलते 2 बार सदन की कार्यवाही स्थगित करनी पड़ी। 

गौरतलब है कि संसद सत्र के आखिरी दिन सरकार की तरफ से कोशिश की जा रही थी कि शुक्रवार को हर हाल में तीन तलाक बिल को राज्यसभा में पेश किया जाए लेकिन विपक्ष भी पूरी तरह से उसका विरोध करने पर अड़ा हुआ था। सरकार द्वारा बिल पेश करने से पहले ही विपक्ष ने राफेल डील को लेकर जोरदार हंगामा कर दिया। 

ये भी पढ़ें - केरल में भारी बारिश से 26 लोगों  की मौत, केंद्र ने दिया हर संभव मदद का भरोसा


यहां बता दें कि बिल को पेश करने के लिए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने गृह मंत्री राजनाथ सिंह और कई अन्य मंत्रियों के साथ मिलकर रणनीति तैयार की थी। बैठक की जानकारी अभी नहीं मिल पाई है।

गौर करने वाली बात है कि नवनिर्वाचित उपसभापति हरिवंश ने सत्र का संचालन किया। राज्यसभा के सदस्यों ने उनके आसन पर बैठने का स्वागत भी किया। विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि राफेल सौदा एक बड़ा घोटाला है और इसकी जेपीसी से जांच कराए जाने की मांग की। कांग्रेस नेता आनंद शर्मा के द्वारा नियम 267 के तहत दिए गए नोटिस को सभापति ने स्वीकार नहीं किया। भारी शोरशराबे के बीच कार्यवाही स्थगित करनी पड़ी, अब यह बिल शीतकालीन सत्र में पेश किया जाएगा।

 

Todays Beets: