Saturday, February 23, 2019

Breaking News

   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||

भारी हंगामें की भेंट चढ़ा मानसून सत्र का आखिरी दिन, नहीं पेश हो सका तीन तलाक बिल

अंग्वाल न्यूज डेस्क
भारी हंगामें की भेंट चढ़ा मानसून सत्र का आखिरी दिन, नहीं पेश हो सका तीन तलाक बिल

नई दिल्ली। मानसून सत्र के आखिरी दिन भी संसद में तीन तलाक बिल पास नहीं हो पाया। अब इसे शीतकालीन सत्र में पेश किया जाएगा। बता दें कि विपक्ष द्वारा राफेल सौदे की जांच संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) से कराने की मांग और तीन तलाक बिल पर आम सहमति न बन पाने की वजह से राज्यसभा मंे इसे पेश नहीं किया जा सका। विपक्ष के भारी हंगामे के चलते 2 बार सदन की कार्यवाही स्थगित करनी पड़ी। 

गौरतलब है कि संसद सत्र के आखिरी दिन सरकार की तरफ से कोशिश की जा रही थी कि शुक्रवार को हर हाल में तीन तलाक बिल को राज्यसभा में पेश किया जाए लेकिन विपक्ष भी पूरी तरह से उसका विरोध करने पर अड़ा हुआ था। सरकार द्वारा बिल पेश करने से पहले ही विपक्ष ने राफेल डील को लेकर जोरदार हंगामा कर दिया। 

ये भी पढ़ें - केरल में भारी बारिश से 26 लोगों  की मौत, केंद्र ने दिया हर संभव मदद का भरोसा


यहां बता दें कि बिल को पेश करने के लिए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने गृह मंत्री राजनाथ सिंह और कई अन्य मंत्रियों के साथ मिलकर रणनीति तैयार की थी। बैठक की जानकारी अभी नहीं मिल पाई है।

गौर करने वाली बात है कि नवनिर्वाचित उपसभापति हरिवंश ने सत्र का संचालन किया। राज्यसभा के सदस्यों ने उनके आसन पर बैठने का स्वागत भी किया। विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि राफेल सौदा एक बड़ा घोटाला है और इसकी जेपीसी से जांच कराए जाने की मांग की। कांग्रेस नेता आनंद शर्मा के द्वारा नियम 267 के तहत दिए गए नोटिस को सभापति ने स्वीकार नहीं किया। भारी शोरशराबे के बीच कार्यवाही स्थगित करनी पड़ी, अब यह बिल शीतकालीन सत्र में पेश किया जाएगा।

 

Todays Beets: