Saturday, January 20, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

जेल हम जाएं, लाठियां हम खाएं फिर अचानक से श्री श्री रविशंकर कौन होते हैं मध्यस्ता करने वाले - वेदांती

अंग्वाल न्यूज डेस्क
जेल हम जाएं, लाठियां हम खाएं फिर अचानक से श्री श्री रविशंकर कौन होते हैं मध्यस्ता करने वाले - वेदांती

नई दिल्ली । राम मंदिर निर्माण मामले में मध्यस्ता के लिए आगे आए आध्यात्मिक गुरु श्रीश्री रविशंकर बुधवार को यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ इस मामले के कुछ अन्य पक्षकारों से मिले। हालांकि उनकी मध्यस्ता पर जहां कुछ मुस्लिम संगठनों ने सवाल उठाए हैं वहीं कुछ हिंदू संगठनों ने भी उनकी मध्यस्ता को लेकर अपना पक्ष रखा। इस सब के बीच अयोध्या आंदोलन से जुड़े रहे भाजपा के पूर्व सांसद रामविलास वेदांती ने श्रीश्री की इस मध्यस्ता पर सवाल उठा दिए हैं। उन्होंने कहा कि रविशंकर कौन होते हैं, फैसला करने वाले। जेल गए हम, लाठियां खाई हमने और अचानक से श्रीश्री रविशंकर आ गए। रविशंकर तब कहां थे जब हम संघर्ष कर रहे थे। 

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने राम मंदिर मामले में दो पक्षों से इस मामले को सुलझाने के लिए कहा है। इसके बाद से हिंदू और मुस्लिम दोनों की समुदाय के लोग अपना पक्ष रखते हुए राम मंदिर निर्माण को लेकर अपनी बातें कह रहे हैं, लेकिन अभी तक किसी निर्णय पर नहीं पहुंचे हैं। इस दौरान आध्यात्मिक गुरु श्रीश्री रविशंकर के इस मामले में मध्यस्ता करने की बात उठी, और श्री श्री अपनी इस मुहिम में जुट भी गए। बुधवार को वह लखनऊ में सूबे के सीएम योगी आदित्यनाथ से मिले। दोनों के बीच करीब 30 मिनट तक इस मुद्दे पर बात हुई। इसी क्रम में उनका दिगंबर अखाड़ा, निर्मोही अखाड़ा, राष्ट्रीय मुस्लिम मंच, शिव सेना, हिंदू महासभा के अलावा विनय कटियार से भी मुलाकात का भी कार्यक्रम रहा। 


इस सब पर भाजपा के पूर्व सांसद रामविलास वेदांती ने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर बनेगा तो ठीक है, वरना किसी भी कीमत पर मस्जिद नहीं बनने देंगे। राम मंदिर के लिए चाहे जितना बालिदान देना पड़े, हम पीछे नहीं हटेंगे। चाहे इसकी कीमत जान देकर ही क्यों न चुकानी पड़े।  

Todays Beets: