Wednesday, June 20, 2018

Breaking News

   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||   टेस्ट में भारत की सबसे बड़ी जीत: अफगानिस्तान को एक दिन में 2 बार ऑलआउट किया, डेब्यू टेस्ट 2 दिन में खत्म     ||   पेशावर स्कूल हमले का मास्टरमाइंड और मलाला पर गोली चलवाने वाला आतंकी फजलुल्लाह मारा गया: रिपोर्ट     ||   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||

वेंकैया नायडू बने देश के 13वें उपराष्ट्रपति, क्रॉस वोटिंग का मिला जबरदस्त फायदा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
वेंकैया नायडू बने देश के 13वें उपराष्ट्रपति, क्रॉस वोटिंग का मिला जबरदस्त फायदा

नई दिल्ली।

उपराष्ट्रपति के लिए हुए चुनाव में एनडीए के उम्मीदवार वेंकैया नायडू को देश का 13वां उपराष्ट्रपति चुन लिया गया है। शनिवार को हुए चुनाव में नायडू को 516 सांसदों ने अपना समर्थन दिया वहीं​ विपक्ष के उम्मीदवार गोपालकृष्ण गांधी को 244 वोट मिले। नायडू को क्रॉस वोटिंग का जबरदस्त फायदा मिला। उन्हें एनडीए के अलावा विपक्षी दलों के सांसदों ने भी अपना समर्थन दिया। जानकारी के अनसुार, विपक्षी पार्टियों के करीब 24 सांसदों ने उप राष्ट्रपति चुनाव में अपने नेतृत्व का निर्देश नहीं माना और नायडू के पक्ष में मतदान किया।

ये भी पढ़ें— उपराष्ट्रपति चुनाव में गोपालकृष्ण गांधी का समर्थन करेगी आम आदमी पार्टी

शनिवार सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे तक उपराष्ट्रपति पद के लिए सांसदों ने मतदान किया। मतदान के दौरान 785 वोट में से 771 वोट पड़े। वोटिंग 98.21 फीसदी रही। इस चुनाव में 11 वोट अमान्य करार दिए गए। जबकि 14 सांसदों ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल नहीं किया। नायडू 11 अगस्त को उपराष्ट्रपति पद की शपथ लेंगे।


ये भी पढ़ें— राहुल गांधी पर अमित शाह ने कसा तंज, कहा बापू के सपने को पूरा कर रहे हैं कांग्रेस उपाध्यक्ष

सदन की गरिमा को बनाए रखूंगा : नायडू

चुनाव जीतने के बाद नायडू ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उन्हें वोट देने वाले सांसदों का आभार व्यक्त किया और संविधान एवं संसद के उच्च सदन की गरिमा को बनाए रखने का वादा किया। नायडू ने कहा कि राष्ट्रपति के हाथों को मजबूत करने और उच्च सदन की गरिमा को बनाए रखने के लिए मैं उप राष्ट्रपति की संस्था का उपयोग करना चाहता हूं। उप राष्ट्रपति राज्यसभा के सभापति भी होते हैं। उन्होंने कहा, एक साधारण किसान के परिवार से उप-राष्ट्रपति बनना मेरे लिए सम्मान की बात है। यह हमारे लोकतंत्र की खूबसूरती और मजबूती है।

Todays Beets: