Friday, January 19, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

उपराष्ट्रपति वैंकया नायडू का वंशवाद पर वार, कहा- वंशवाद और लोकतंत्र साथ-साथ नहीं चल सकते

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उपराष्ट्रपति वैंकया नायडू का वंशवाद पर वार, कहा- वंशवाद और लोकतंत्र साथ-साथ नहीं चल सकते

नई दिल्ली । हाल में वंशवाद को लेकर क्या आम और क्या खास हर कोई अपनी राय देता नजर आ रहा है। पिछले दिनों अमेरिका में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के वंशवाद को लेकर दिए गए बयान के बाद अब भारत के नवनियुक्त उप राष्ट्रपति एम वैंकया नायडू ने वंशवाद पर करारी चोट की है। उन्होंने वंशवाद वाली राजनीति पर निशाना साधते हुए शुक्रवार को कहा कि लोकतंत्र में वंशवाद बुरा है। नायडू ने एक किताब लॉन्च के मौके पर कहा - इन दिनों वंशवाद के बारे में चर्चा हो रही है। लेकिन वंशवाद और लोकतंत्र एक साथ नहीं चल सकते। बहुत सरल है कि यह हमारी प्रणाली को कमजोर कर देता है।

ये भी पढ़ें - योगी राज में बदमाशों के साथ 420 एंकाउंटर, 15 कुख्यात ढेर-850 सलाखों के पीछे

एक समारोह में शिकरत करने पहुंच उपराष्ट्रपति ने कहा कि हालांकि वह इस तरह की राजनीति से अब बाहर हैं लेकिन वह पहले इस तरह के विचारों के खिलाफ अपनी आवाज उठाते रहे हैं। हालांकि इस दौरान उन्होंने यह भी साफ कर दिया कि वह किसी विशेष राजनीतिक दल के संदर्भ में नहीं बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि मेरे दिमाग में कोई पार्टी विशेष नहीं है। ना ये पार्टी और न वो पार्टी, जैसा कि किसी ने कहा है कि हर कोई एक दूसरे का अनुसरण कर रहा है। 


ये भी पढ़ें - विधवाओं और दिव्यांगों से शादी करने पर सरकार देगी 2 लाख रुपये की प्रोत्साहन राशि 

हालांकि उनका यह बयान उस समय आया है जब कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने बर्केल स्थित कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय में किए गए अपने संवाद में एक राजनीतिक वंश के रूप में अपनी स्थिति का बचाव किया। उस दौरान राहुल गांधी ने उन लोगों पर कटाक्ष किया था, जो राजवंश की राजनीति के लाभों का फायदा उठाने का आरोप लगाते हैं। उन्होंने अपने संवाद के दौरान कहा था कि भारत देश इसी तरह से चलता है, अखिलेश यादव एक वंश से हैं, स्टालिन एक राजवंश से है, धूमल का बेटा भी एक राजवंश से ही है। इतना ही नहीं उन्होंने कहा था कि फिल्म अभिनेता अभिषेक बच्चन भी एक राजवंश से हैं। 

ये भी पढ़ें - सुप्रीम कोर्ट का फैसला, हिंदू परिवार की संपत्ति पर होगा सभी का बराबर हिस्सा 

Todays Beets: