Wednesday, December 19, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

मदरसों की मान्यता खत्म करने वाले रिजवी के बयान पर ओवैसी का वार, कहा- रिजवी ने आत्मा आरएसएस को बेच दी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मदरसों की मान्यता खत्म करने वाले रिजवी के बयान पर ओवैसी का वार, कहा- रिजवी ने आत्मा आरएसएस को बेच दी

नई दिल्ली। शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी के बयान पर एएमआईएम के अध्यक्ष असदउद्दीन ओवैसी ने जमकर हमला बोला है। बता दें कि वसीम रिजवी ने पीएम मोदी को पत्र लिखकर मदरसों की मान्यता खत्म करने की मांग की थी और यह भी कहा था कि इसे शिक्षा की मुख्यधारा से जोड़ा जाए। असदउद्दीन ओवैसी ने वसीम रिजवी को सबसे बड़ा जोकर और अवसरवादी इंसान तक बता दिया है। उन्होंने कहा कि रिजवी ने अपनी आत्मा आरएसएस को बेच दी है।

असदउद्दीन की चुनौती

गौरतलब है कि शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष के बयान पर कटाक्ष करते हुए ओवैसी ने कहा कि ‘‘मैं इस शख्स को एक शिया या सुन्नी या मदरसा को ऐसा साबित करने के लिए चुनौती देता हूं जहां कट्टरपंथी शिक्षाएं दी जाती हैं। अगर उनके पास कोई सबूत है तो उन्हें जाकर गृह मंत्री को सौंपना चाहिए।’’ 


ये भी पढ़ें - खान मार्केट में चला एनडीएमसी का डंडा, कई दुकानों को किया गया सील

सामान्य शिक्षा नीति की वकालत

बता दें कि शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी ने मदरसों की मान्यता खत्म करने की मांग करते हुए पीएम को पत्र लिखा है। अपने पत्र में रिजवी ने कहा है कि मदरसे में बच्चों को जो शिक्षा दी जा रही है उसका स्तर काफी नीचे है। उन्होंन कहा कि यही वजह है कि ज्यादातर बच्चे कट्टरपंथ की तरफ बढ़ रहे हैं। ऐसे में जरूरत इस बात की है कि मदरसों को खत्म कर एक सामान्य शिक्षा नीति बनाई जानी चाहिए। 

Todays Beets: