Tuesday, February 20, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

बंगाल का हुआ ‘रसगुल्ला,’ ओडिशा को पछाड़कर लिया जी आई स्टेट्स

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बंगाल का हुआ ‘रसगुल्ला,’ ओडिशा को पछाड़कर लिया जी आई स्टेट्स

कोलकाता। बंगाल के नाम का जिक्र होते ही रसगुल्ला का ध्यान आता है। क्या आपको पता है कि इसी रसगुल्ले की आधिकारिक मान्यता के लिए ओडिशा से इसकी लड़ाई चल रही थी। 2 सालों तक चली लड़ाई को आखिरकार पश्चिम बंगाल ने जीत लिया और उसे जी आई स्टेटस मिल गया। दरअसल रसगुल्ले की शुरुआत को लेकर दोनों राज्यों में वर्चस्व की लड़ाई चल रही थी। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने ट्विट कर इस पर खुशी जाहिर की है।

बंगाल की दलील

गौरतलब है कि ओडिशा का कहना है कि रथ यात्रा के दौरान भगवान जगन्नाथ देवी लक्ष्मी को छोड़कर अकेले ही चले गए थे इस पर वे नाराज हो गईं। इस पर जगन्नाथ ने उन्हें रसगुल्ला खिलाकर उनकी नाराजगी दूर की थी। वहीं दूसरी तरफ पश्चिम बंगाल का कहना है कि रसगुल्ला तो फटे हुए दूध से बनाया जाता है जिसे अपवित्र माना जाता है। ऐसे में यह भगवान द्वारा देवी को कैसे दिया जा सकता है। 


ये भी पढ़ें - नए साल पर एचडीएफसी बैंक देगा ग्राहकों को बड़ा तोहफा, मोबाइल वाॅलेट के जरिए भी खोल सकेंगे बचत खाता

सीएम ने भी जताई खुशी

आपको बता दें कि रसगुल्ले की इस लड़ाई में आखिरकार बंगाल को जीत हासिल हुई और उसे जी आई (ज्योग्राफिकल इंडीकेशन) स्टेटस मिल गया। इसका मतलब यह हुआ कि अब रसगुल्ला आधिकारिक तौर पर बंगाली डिश हो गई है, राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने ट्विट कर इस पर खुशी जाहिर की है। यहां बता दें कि जीआई टैग का मतलब होता है कि पंजीकृत और अधिकृत लोग ही प्रोडक्ट का नाम इस्तेमाल कर सकते हैं। दोनों राज्यों के बीच यह जंग सितंबर 2015 में शुरू हुई थी। तब ओडिशा सरकार ने ‘उल्टो रथ’ त्योहार पर ‘रसगुल्ला दिवस’ या मनाना शुरू कर दिया था।

Todays Beets: