Friday, November 24, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

बंगाल का हुआ ‘रसगुल्ला,’ ओडिशा को पछाड़कर लिया जी आई स्टेट्स

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बंगाल का हुआ ‘रसगुल्ला,’ ओडिशा को पछाड़कर लिया जी आई स्टेट्स

कोलकाता। बंगाल के नाम का जिक्र होते ही रसगुल्ला का ध्यान आता है। क्या आपको पता है कि इसी रसगुल्ले की आधिकारिक मान्यता के लिए ओडिशा से इसकी लड़ाई चल रही थी। 2 सालों तक चली लड़ाई को आखिरकार पश्चिम बंगाल ने जीत लिया और उसे जी आई स्टेटस मिल गया। दरअसल रसगुल्ले की शुरुआत को लेकर दोनों राज्यों में वर्चस्व की लड़ाई चल रही थी। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने ट्विट कर इस पर खुशी जाहिर की है।

बंगाल की दलील

गौरतलब है कि ओडिशा का कहना है कि रथ यात्रा के दौरान भगवान जगन्नाथ देवी लक्ष्मी को छोड़कर अकेले ही चले गए थे इस पर वे नाराज हो गईं। इस पर जगन्नाथ ने उन्हें रसगुल्ला खिलाकर उनकी नाराजगी दूर की थी। वहीं दूसरी तरफ पश्चिम बंगाल का कहना है कि रसगुल्ला तो फटे हुए दूध से बनाया जाता है जिसे अपवित्र माना जाता है। ऐसे में यह भगवान द्वारा देवी को कैसे दिया जा सकता है। 


ये भी पढ़ें - नए साल पर एचडीएफसी बैंक देगा ग्राहकों को बड़ा तोहफा, मोबाइल वाॅलेट के जरिए भी खोल सकेंगे बचत खाता

सीएम ने भी जताई खुशी

आपको बता दें कि रसगुल्ले की इस लड़ाई में आखिरकार बंगाल को जीत हासिल हुई और उसे जी आई (ज्योग्राफिकल इंडीकेशन) स्टेटस मिल गया। इसका मतलब यह हुआ कि अब रसगुल्ला आधिकारिक तौर पर बंगाली डिश हो गई है, राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने ट्विट कर इस पर खुशी जाहिर की है। यहां बता दें कि जीआई टैग का मतलब होता है कि पंजीकृत और अधिकृत लोग ही प्रोडक्ट का नाम इस्तेमाल कर सकते हैं। दोनों राज्यों के बीच यह जंग सितंबर 2015 में शुरू हुई थी। तब ओडिशा सरकार ने ‘उल्टो रथ’ त्योहार पर ‘रसगुल्ला दिवस’ या मनाना शुरू कर दिया था।

Todays Beets: