Wednesday, December 13, 2017

Breaking News

   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद     ||   अश्विन ने लगाया विकेटों का सबसे तेज 'तिहरा शतक', लिली को छोड़ा पीछे     ||   पूरा हुआ सपना चौधरी का 'सपना', बेघर होने के साथ बॉलीवुड से मिला बड़ा ऑफर    ||   PAK सरकार ने शर्तें मानीं, प्रदर्शन खत्म करने कानून मंत्री को देना पड़ा इस्तीफा    ||   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||

मगध महिला काॅलेज में छात्राएं नहीं पहन सकेंगी जींस, काॅलेज प्रशासन ने लिया फैसला

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मगध महिला काॅलेज में छात्राएं नहीं पहन सकेंगी जींस, काॅलेज प्रशासन ने लिया फैसला

पटना। पटना के मगध महिला काॅलेज में छात्रों के जींस पहनने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। यही नहीं, जीन्स के अलावा लड़कियां अब पटियाला सूट पहनकर भी कॉलेज नहीं आ सकती हैं। काॅलेज प्रशासन का कहना है कि ऐसा फैसला छात्रों में ड्रेसकोड को लेकर समानता का भाव लाने के मकसद से लिया गया है। बता दें कि काॅलेज प्रशासन की ओर से जनवरी 2018 से नया ड्रेस कोड लागू किया है, जिसके तहत जीन्स और पटियाला सूट यहां तक की क्लास रूम के अन्दर मोबाइल फोन के इस्तेमाल पर भी बैन लगाया गया है।

छात्राओं की सहमति से लिया फैसला


आपको बता दें कि काॅलेज प्रशासन के फैसले के बारे में मगध महिला महाविद्यालय के प्रिंसीपल प्रोफेसर शशि शर्मा का कहना है कि हमने यह फैसला सामाजिक रूप से ड्रेस को लेकर असमानता को देखते हुए लिया है और यह 12 दिसंबर से लागू हो जाएगा। उन्होंने कहा कि यह फैसला छात्रों से बात करने के बाद ही लिया गया है। उनका मानना है कि इस नए फैसले से छात्रों में समानता आएगी और जहां तक मोबाइल का सवाल है तो उसके लिए फ्री जोन बना हुआ है, लड़कियां वहां जाकर मोबाइल पर बात कर सकती हैं। गौरतलब है कि मगध महिला महाविद्यालय की छात्राओं का कहना है कि उनकी राय लेकर ही यह फैसला लिया गया है ऐसे में उन्हें इस पर कोई ऐतराज नहीं है। 

ये भी पढ़ें - दिल्ली हाईकोर्ट ने जदयू के पार्टी निशान को लेकर चुनाव आयोग और नीतीश कुमार को नोटिस भेजा

Todays Beets: