Wednesday, November 14, 2018

Breaking News

   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||

श्री श्री रविशंकर के बयान पर एनजीटी बोला- आपको अपनी जिम्मेदारी का एहसास है

अंग्वाल न्यूज डेस्क
श्री श्री रविशंकर के बयान पर एनजीटी बोला- आपको अपनी जिम्मेदारी का एहसास है

नई दिल्ली । यमुना को नुकसान पहुंचाने के लिए केंद्र सरकार और नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) को जिम्मेदार ठहराने वाले श्रीश्री रविशंकर के बयान की एनजीटी ने निंदा की है। एनजीटी ने रविशंकर के बयान को काफी चौंकाने वाला करार देते हुए कहा कि आपको अपनी जिम्मेदारियों का कोई एहसास नहीं है। क्या आपको लगता है कि आपको वह सब कहने की आजादी है जो आप चाहते हैं। इतना ही नहीं एनजीटी ने श्री श्री रविशंकर की संस्था आर्ट ऑफ लिविंग के विश्व सांस्कृति कार्यक्रम के आयोजन के दौरान यमुना डूब क्षेत्र को हुए नुकसान को लेकर जारी रिपोर्ट पर अपना जवाब और आपत्तियां दाखिर करने के फिर से निर्देश दिए।

ये भी पढ़ें- 'पत्थरबाजों से निपटने के लिए गोली ही एकमात्र रास्ता, इनका इलाज जूते ही हैं '

बता दें कि गत वर्ष श्री श्री रविशंकर की संस्था आर्ट ऑफ लिविंग ने यमुना किनारे कार्यक्रम आयोजित किया था। एक रिपोर्ट के जरिए बाद में यह बात सामने आई कि उनके इस कार्यक्रम से इस क्षेत्र को काफी नुकसान पहुंचा था। विशेषज्ञों की रिपोर्ट में यह बात सामने आई थी कि इस नुकसान की भरपाई के लिए करीब  42 करोड़ का खर्च आएगा। इतना ही नहीं नुकसान की भरपाई होने में 10 साल का समय लग सकता है। 

ये भी पढ़ें-  पांच राज्यों में ताबड़तोड़ दबिश के बाद तीन आतंकी गिरफ्तार, बड़ी वारदात की रच रहे थे साजिश


इन विवादों के बीच श्री श्री रविशंकर ने कार्यक्रम के आयोजन के लिए सरकार और एनजीटी को ही जिम्मेदार ठहराया था। उन्होंने एक फेसबुक पोस्ट पर लिखा-अगर यमुना इतनी ही नाजुक और पवित्र है तो हमें वर्ल्ड कल्चर फेस्टिवल करने से हमें रोकना चाहिए था। इस सब के लिए सरकार और कोर्ट जिम्मेदार है। हमें कार्यक्रम करने की अनुमति ही क्यों दी।

ये भी पढ़ें- बीएसएफ ने खराब खाने का वीडियो जारी करने वाले जवान तेजबहादुर को बर्खास्त किया

 

Todays Beets: