Monday, January 21, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

श्री श्री रविशंकर के बयान पर एनजीटी बोला- आपको अपनी जिम्मेदारी का एहसास है

अंग्वाल न्यूज डेस्क
श्री श्री रविशंकर के बयान पर एनजीटी बोला- आपको अपनी जिम्मेदारी का एहसास है

नई दिल्ली । यमुना को नुकसान पहुंचाने के लिए केंद्र सरकार और नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) को जिम्मेदार ठहराने वाले श्रीश्री रविशंकर के बयान की एनजीटी ने निंदा की है। एनजीटी ने रविशंकर के बयान को काफी चौंकाने वाला करार देते हुए कहा कि आपको अपनी जिम्मेदारियों का कोई एहसास नहीं है। क्या आपको लगता है कि आपको वह सब कहने की आजादी है जो आप चाहते हैं। इतना ही नहीं एनजीटी ने श्री श्री रविशंकर की संस्था आर्ट ऑफ लिविंग के विश्व सांस्कृति कार्यक्रम के आयोजन के दौरान यमुना डूब क्षेत्र को हुए नुकसान को लेकर जारी रिपोर्ट पर अपना जवाब और आपत्तियां दाखिर करने के फिर से निर्देश दिए।

ये भी पढ़ें- 'पत्थरबाजों से निपटने के लिए गोली ही एकमात्र रास्ता, इनका इलाज जूते ही हैं '

बता दें कि गत वर्ष श्री श्री रविशंकर की संस्था आर्ट ऑफ लिविंग ने यमुना किनारे कार्यक्रम आयोजित किया था। एक रिपोर्ट के जरिए बाद में यह बात सामने आई कि उनके इस कार्यक्रम से इस क्षेत्र को काफी नुकसान पहुंचा था। विशेषज्ञों की रिपोर्ट में यह बात सामने आई थी कि इस नुकसान की भरपाई के लिए करीब  42 करोड़ का खर्च आएगा। इतना ही नहीं नुकसान की भरपाई होने में 10 साल का समय लग सकता है। 

ये भी पढ़ें-  पांच राज्यों में ताबड़तोड़ दबिश के बाद तीन आतंकी गिरफ्तार, बड़ी वारदात की रच रहे थे साजिश


इन विवादों के बीच श्री श्री रविशंकर ने कार्यक्रम के आयोजन के लिए सरकार और एनजीटी को ही जिम्मेदार ठहराया था। उन्होंने एक फेसबुक पोस्ट पर लिखा-अगर यमुना इतनी ही नाजुक और पवित्र है तो हमें वर्ल्ड कल्चर फेस्टिवल करने से हमें रोकना चाहिए था। इस सब के लिए सरकार और कोर्ट जिम्मेदार है। हमें कार्यक्रम करने की अनुमति ही क्यों दी।

ये भी पढ़ें- बीएसएफ ने खराब खाने का वीडियो जारी करने वाले जवान तेजबहादुर को बर्खास्त किया

 

Todays Beets: