Wednesday, December 13, 2017

Breaking News

   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद     ||   अश्विन ने लगाया विकेटों का सबसे तेज 'तिहरा शतक', लिली को छोड़ा पीछे     ||   पूरा हुआ सपना चौधरी का 'सपना', बेघर होने के साथ बॉलीवुड से मिला बड़ा ऑफर    ||   PAK सरकार ने शर्तें मानीं, प्रदर्शन खत्म करने कानून मंत्री को देना पड़ा इस्तीफा    ||   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||

भाजपा के नेता यशवंत सिन्हा अकोला में गिरफ्तार, केन्द्र की नीतियों का विरोध कर रहे थे

अंग्वाल न्यूज डेस्क
भाजपा के नेता यशवंत सिन्हा अकोला में गिरफ्तार, केन्द्र की नीतियों का विरोध कर रहे थे

नई दिल्ली। केन्द्र सरकार का लगातार विरोध कर रहे भाजपा के नेता यशवंत सिन्हा को विदर्भ के अकोला में गिरफ्तार कर लिया गया है। यशवंत सिन्हा सरकार की किसान विरोधी नीतियों और आर्थिक फैसलों का विरोध करते हुए कपास उत्पादकों के आंदोलन को समर्थन दे रहे थे।  अकोला के जिला पुलिस अधीक्षक राकेश कालासागर के अनुसार, ‘‘हमने बंबई पुलिस कानून की धारा 68 के प्रावधानों के तहत जिला कलेक्ट्रेट के बाहर करीब 250 किसानों के साथ सिन्हा को हिरासत में लिया है।’’

यशवंत के तीखे बोल

गौरतलब है कि हिरासत में लिये गए लोगों को अकोला जिला पुलिस मुख्यालय मैदान ले लाया गया है। भाजपा नेता यशवंत सिन्हा सैकड़ों किसानों के साथ अकोला जिला कलेक्टर के कार्यालय के बाहर कपास और सोयाबीन पैदा करने वाले किसानों के प्रति सरकार की कथित बेरूखी का विरोध कर रहे थे। बता दें कि इससे पहले भी यशवंत सिन्हा मोदी सरकार के खिलाफ तीखे बयान देकर सुर्खियां बटोर चुके हैं। उन्होंने मोदी सरकार के खिलाफ लेख भी लिखा था। 

ये भी पढ़ें - मध्य प्रदेश में बलात्कारियों को मिलेगी फांसी की सजा, विधेयक को मिली मंजूरी


राजनीतिक कीमत क्यों चुकानी पड़ी

आपको बता दें कि उन्होंने सवाल उठाया था कि अगर मोदी सरकार का आर्थिक मोर्च पर सभी कुछ अच्छा है तो प्रधानमंत्री को राजनीतिक कीमत क्यों चुकानी पड़ेगी? क्या यह गुजरात विधानसभा चुनावों में खुद के लिए निजी सहानुभूति पाने की कोशिश तो नहीं है?

 

Todays Beets: