Friday, August 17, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

भाजपा के नेता यशवंत सिन्हा अकोला में गिरफ्तार, केन्द्र की नीतियों का विरोध कर रहे थे

अंग्वाल न्यूज डेस्क
भाजपा के नेता यशवंत सिन्हा अकोला में गिरफ्तार, केन्द्र की नीतियों का विरोध कर रहे थे

नई दिल्ली। केन्द्र सरकार का लगातार विरोध कर रहे भाजपा के नेता यशवंत सिन्हा को विदर्भ के अकोला में गिरफ्तार कर लिया गया है। यशवंत सिन्हा सरकार की किसान विरोधी नीतियों और आर्थिक फैसलों का विरोध करते हुए कपास उत्पादकों के आंदोलन को समर्थन दे रहे थे।  अकोला के जिला पुलिस अधीक्षक राकेश कालासागर के अनुसार, ‘‘हमने बंबई पुलिस कानून की धारा 68 के प्रावधानों के तहत जिला कलेक्ट्रेट के बाहर करीब 250 किसानों के साथ सिन्हा को हिरासत में लिया है।’’

यशवंत के तीखे बोल

गौरतलब है कि हिरासत में लिये गए लोगों को अकोला जिला पुलिस मुख्यालय मैदान ले लाया गया है। भाजपा नेता यशवंत सिन्हा सैकड़ों किसानों के साथ अकोला जिला कलेक्टर के कार्यालय के बाहर कपास और सोयाबीन पैदा करने वाले किसानों के प्रति सरकार की कथित बेरूखी का विरोध कर रहे थे। बता दें कि इससे पहले भी यशवंत सिन्हा मोदी सरकार के खिलाफ तीखे बयान देकर सुर्खियां बटोर चुके हैं। उन्होंने मोदी सरकार के खिलाफ लेख भी लिखा था। 

ये भी पढ़ें - मध्य प्रदेश में बलात्कारियों को मिलेगी फांसी की सजा, विधेयक को मिली मंजूरी


राजनीतिक कीमत क्यों चुकानी पड़ी

आपको बता दें कि उन्होंने सवाल उठाया था कि अगर मोदी सरकार का आर्थिक मोर्च पर सभी कुछ अच्छा है तो प्रधानमंत्री को राजनीतिक कीमत क्यों चुकानी पड़ेगी? क्या यह गुजरात विधानसभा चुनावों में खुद के लिए निजी सहानुभूति पाने की कोशिश तो नहीं है?

 

Todays Beets: