Tuesday, October 23, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

भाजपा के नेता यशवंत सिन्हा अकोला में गिरफ्तार, केन्द्र की नीतियों का विरोध कर रहे थे

अंग्वाल न्यूज डेस्क
भाजपा के नेता यशवंत सिन्हा अकोला में गिरफ्तार, केन्द्र की नीतियों का विरोध कर रहे थे

नई दिल्ली। केन्द्र सरकार का लगातार विरोध कर रहे भाजपा के नेता यशवंत सिन्हा को विदर्भ के अकोला में गिरफ्तार कर लिया गया है। यशवंत सिन्हा सरकार की किसान विरोधी नीतियों और आर्थिक फैसलों का विरोध करते हुए कपास उत्पादकों के आंदोलन को समर्थन दे रहे थे।  अकोला के जिला पुलिस अधीक्षक राकेश कालासागर के अनुसार, ‘‘हमने बंबई पुलिस कानून की धारा 68 के प्रावधानों के तहत जिला कलेक्ट्रेट के बाहर करीब 250 किसानों के साथ सिन्हा को हिरासत में लिया है।’’

यशवंत के तीखे बोल

गौरतलब है कि हिरासत में लिये गए लोगों को अकोला जिला पुलिस मुख्यालय मैदान ले लाया गया है। भाजपा नेता यशवंत सिन्हा सैकड़ों किसानों के साथ अकोला जिला कलेक्टर के कार्यालय के बाहर कपास और सोयाबीन पैदा करने वाले किसानों के प्रति सरकार की कथित बेरूखी का विरोध कर रहे थे। बता दें कि इससे पहले भी यशवंत सिन्हा मोदी सरकार के खिलाफ तीखे बयान देकर सुर्खियां बटोर चुके हैं। उन्होंने मोदी सरकार के खिलाफ लेख भी लिखा था। 

ये भी पढ़ें - मध्य प्रदेश में बलात्कारियों को मिलेगी फांसी की सजा, विधेयक को मिली मंजूरी


राजनीतिक कीमत क्यों चुकानी पड़ी

आपको बता दें कि उन्होंने सवाल उठाया था कि अगर मोदी सरकार का आर्थिक मोर्च पर सभी कुछ अच्छा है तो प्रधानमंत्री को राजनीतिक कीमत क्यों चुकानी पड़ेगी? क्या यह गुजरात विधानसभा चुनावों में खुद के लिए निजी सहानुभूति पाने की कोशिश तो नहीं है?

 

Todays Beets: