Monday, May 21, 2018

Breaking News

   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||   बिहार: शराब और मुर्गे के साथ गश्त करने वाली पुलिस टीम निलंबित     ||

भाजपा के नेता यशवंत सिन्हा अकोला में गिरफ्तार, केन्द्र की नीतियों का विरोध कर रहे थे

अंग्वाल न्यूज डेस्क
भाजपा के नेता यशवंत सिन्हा अकोला में गिरफ्तार, केन्द्र की नीतियों का विरोध कर रहे थे

नई दिल्ली। केन्द्र सरकार का लगातार विरोध कर रहे भाजपा के नेता यशवंत सिन्हा को विदर्भ के अकोला में गिरफ्तार कर लिया गया है। यशवंत सिन्हा सरकार की किसान विरोधी नीतियों और आर्थिक फैसलों का विरोध करते हुए कपास उत्पादकों के आंदोलन को समर्थन दे रहे थे।  अकोला के जिला पुलिस अधीक्षक राकेश कालासागर के अनुसार, ‘‘हमने बंबई पुलिस कानून की धारा 68 के प्रावधानों के तहत जिला कलेक्ट्रेट के बाहर करीब 250 किसानों के साथ सिन्हा को हिरासत में लिया है।’’

यशवंत के तीखे बोल

गौरतलब है कि हिरासत में लिये गए लोगों को अकोला जिला पुलिस मुख्यालय मैदान ले लाया गया है। भाजपा नेता यशवंत सिन्हा सैकड़ों किसानों के साथ अकोला जिला कलेक्टर के कार्यालय के बाहर कपास और सोयाबीन पैदा करने वाले किसानों के प्रति सरकार की कथित बेरूखी का विरोध कर रहे थे। बता दें कि इससे पहले भी यशवंत सिन्हा मोदी सरकार के खिलाफ तीखे बयान देकर सुर्खियां बटोर चुके हैं। उन्होंने मोदी सरकार के खिलाफ लेख भी लिखा था। 

ये भी पढ़ें - मध्य प्रदेश में बलात्कारियों को मिलेगी फांसी की सजा, विधेयक को मिली मंजूरी


राजनीतिक कीमत क्यों चुकानी पड़ी

आपको बता दें कि उन्होंने सवाल उठाया था कि अगर मोदी सरकार का आर्थिक मोर्च पर सभी कुछ अच्छा है तो प्रधानमंत्री को राजनीतिक कीमत क्यों चुकानी पड़ेगी? क्या यह गुजरात विधानसभा चुनावों में खुद के लिए निजी सहानुभूति पाने की कोशिश तो नहीं है?

 

Todays Beets: