Sunday, July 22, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

सपा-बसपा की बढ़ती नजदीकियों को कम करने के लिए योगी सरकार ने चला महादलित कार्ड, नौकरी में आरक्षण पर हो सकता है विचार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सपा-बसपा की बढ़ती नजदीकियों को कम करने के लिए योगी सरकार ने चला महादलित कार्ड, नौकरी में आरक्षण पर हो सकता है विचार

नई दिल्ली। देश के सबसे बड़े सूबे उत्तरप्रदेश में सियासी घमासान तेज हो गया है। उपचुनावों में मिली हार के बाद सपा-बसपा के बीच बढ़ती दोस्ती को सियासी मात देने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बिहार की तर्ज पर महादलित का मास्टर कार्ड खेला है। योगी ने विधानसभा के बजट सत्र में कहा कि जरूरत पड़ने पर महादलित और अति पिछड़ों को आरक्षण देने पर विचार किया जा सकता है। बताया जा रहा है कि ऐसा कहकर योगी ने बसपा के वोट बैंक में सेंध लगाने की कोशिश की है। 

गौरतलब है कि गोरखपुर और फूलपुर में हुए उपचुनाव में भाजपा को भारी हार का सामना करना पड़ा है। अब अपने इस कदम से योगी ने गैर यादव ओबीसी और गैर जाटव दलित को साधने की कवायद तेज कर दी है। प्रदेश भाजपा सरकार का मकसद सपा-बसपा की बढ़ती नजदीकियों को तोड़ना चाहती है। गुरुवार को विधानसभा के बजट अभिभाषण में योगी आदित्यनाथ ने सूबे के अतिपिछड़ों और महादलितों को अलग से आरक्षण देने पर विचार करने की बात कही है।


ये भी पढ़ें - सुपरसोनिक मिसाइल ब्रह्मोस का सफल परीक्षण, दुश्मनों के छुड़ा देगी छक्के

बता दें कि बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने लालू यादव के दलित वोटबैंक में इसी फॉर्मूले से सेंध लगाई थी और अपना वोट बैंक तैयार किया था। इसी का नतीजा है कि वे मौजूदा दौर में बिहार की सत्ता पर बैठे हुए हैं।

Todays Beets: