Monday, December 11, 2017

Breaking News

   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद     ||   अश्विन ने लगाया विकेटों का सबसे तेज 'तिहरा शतक', लिली को छोड़ा पीछे     ||   पूरा हुआ सपना चौधरी का 'सपना', बेघर होने के साथ बॉलीवुड से मिला बड़ा ऑफर    ||   PAK सरकार ने शर्तें मानीं, प्रदर्शन खत्म करने कानून मंत्री को देना पड़ा इस्तीफा    ||   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||

पत्थरबाजों ने फिर की जाकिर मूसा की मदद, सुरक्षाबलों को चकमा देकर भागने में रहा कामयाब

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पत्थरबाजों ने फिर की जाकिर मूसा की मदद, सुरक्षाबलों को चकमा देकर भागने में रहा कामयाब

श्रीनगर।

पूर्व हिज्बुल मुजाहिदीन कमांडर और इस समय जम्मू—कश्मीर में अलकायदा यूनिट का प्रमुख आतंकी जाकिर मूसा एक बार फिर सुरक्षाबलों को चकमा देकर भागने में कामयाब रहा है। इस काम में उसकी मदद स्थानीय पत्थरबाजों ने की। उसके साथ एक आतंकी और था। हालांकि अभी तक जाकिर मूसा के भागने की अधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है।

ये भी पढ़ें— कश्मीर में अलकायदा ने खोली अपनी ​शाखा, जाकिर मूसा को बनाया कमांडर

जानकारी के अनुसार, शुक्रवार शाम सुरक्षाबलों को खबर मिली थी कि जाकिर मूसा त्राल के नूरपुरा स्थित अपने पैतृक घर में छुपा हुआ है। इस जानकारी के बाद सुरक्षाबलों ने पूरे इलाके की घेराबंदी की। लेकिन स्थानीय लोगों ने सड़कें जाम कर दी और सुरक्षाबलों पर पत्थर फेंकने लगे। ऐसी सूचना है कि स्थानीय प्रदर्शनकारियों ने आतंकवादियों को भगाने में मदद के लिए पत्थरबाजी की। इस पत्थरबाजी का फायदा उठाकर मूसा और उसका साथी वहां से भागने में सफल रहे। कुछ देर बाद पत्थरबाजी रुक गई। सुरक्षा बलों ने सूर्यास्त के बाद अपना ऑपरेशन बंद कर दिया।

ये भी पढ़ें— सावधान...आतंकियों के निशाने पर है अब आम जनता, दिल्ली से आतंकी गिरफ्तार तो ट्रेन के एसी कोच मे...

बता दें कि मूसा पहले हिजबुल मुजाहिदीन में शामिल था। उसके बाद वह अल कायदा से जुड़ गया। अल-कायदा की मदद से उसे अंसार गजवा-उल-हिंद नाम का संगठन बनाया था। अलकायदा ने जाकिर मूसा को घाटी में अपना पहला कमांडर नियुक्त किया था।

ये भी पढ़ें— हिज्बुल मुजाहिदीन के मॉड्यूल का पर्दाफाश, पुलिस ने तीन आतंकियों का किया गिरफ्तार


 

 

 

 

 

 

Todays Beets: