Monday, October 23, 2017

Breaking News

   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||

पत्थरबाजों ने फिर की जाकिर मूसा की मदद, सुरक्षाबलों को चकमा देकर भागने में रहा कामयाब

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पत्थरबाजों ने फिर की जाकिर मूसा की मदद, सुरक्षाबलों को चकमा देकर भागने में रहा कामयाब

श्रीनगर।

पूर्व हिज्बुल मुजाहिदीन कमांडर और इस समय जम्मू—कश्मीर में अलकायदा यूनिट का प्रमुख आतंकी जाकिर मूसा एक बार फिर सुरक्षाबलों को चकमा देकर भागने में कामयाब रहा है। इस काम में उसकी मदद स्थानीय पत्थरबाजों ने की। उसके साथ एक आतंकी और था। हालांकि अभी तक जाकिर मूसा के भागने की अधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है।

ये भी पढ़ें— कश्मीर में अलकायदा ने खोली अपनी ​शाखा, जाकिर मूसा को बनाया कमांडर

जानकारी के अनुसार, शुक्रवार शाम सुरक्षाबलों को खबर मिली थी कि जाकिर मूसा त्राल के नूरपुरा स्थित अपने पैतृक घर में छुपा हुआ है। इस जानकारी के बाद सुरक्षाबलों ने पूरे इलाके की घेराबंदी की। लेकिन स्थानीय लोगों ने सड़कें जाम कर दी और सुरक्षाबलों पर पत्थर फेंकने लगे। ऐसी सूचना है कि स्थानीय प्रदर्शनकारियों ने आतंकवादियों को भगाने में मदद के लिए पत्थरबाजी की। इस पत्थरबाजी का फायदा उठाकर मूसा और उसका साथी वहां से भागने में सफल रहे। कुछ देर बाद पत्थरबाजी रुक गई। सुरक्षा बलों ने सूर्यास्त के बाद अपना ऑपरेशन बंद कर दिया।

ये भी पढ़ें— सावधान...आतंकियों के निशाने पर है अब आम जनता, दिल्ली से आतंकी गिरफ्तार तो ट्रेन के एसी कोच मे...

बता दें कि मूसा पहले हिजबुल मुजाहिदीन में शामिल था। उसके बाद वह अल कायदा से जुड़ गया। अल-कायदा की मदद से उसे अंसार गजवा-उल-हिंद नाम का संगठन बनाया था। अलकायदा ने जाकिर मूसा को घाटी में अपना पहला कमांडर नियुक्त किया था।

ये भी पढ़ें— हिज्बुल मुजाहिदीन के मॉड्यूल का पर्दाफाश, पुलिस ने तीन आतंकियों का किया गिरफ्तार


 

 

 

 

 

 

Todays Beets: