Monday, January 22, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

बड़ा खुलासा : सरकारें करती हैं गलत जानकारी फैलाने के लिए सोशल मीडिया का उपयोग 

अंग्वाल संवाददाता
बड़ा खुलासा : सरकारें करती हैं गलत जानकारी फैलाने के लिए सोशल मीडिया का उपयोग 

नई दिल्ली। सरकारी विभाग से जुड़ी हुई एक ऐसी रिपोर्ट सामने आई है, जिसे पढ़कर आप भी हैरान रह जाएंगे । रिपोर्ट में खुलासा किया गया है कि दुनिया भर की सभी सरकारें अपने पास साइबर ग्रुप रखती हैं, जो सोशल मीडिया वेबसाइट जैसे फेसबुक,ट्विटर आदि का इस्तेमाल करके पब्लिक का ओपिनियन बनाने और गलत जानकारी फैलाने का काम करती हैं। ये रिपोर्ट यूनिवर्सिटी ऑफ ऑक्सफोर्ड की तरफ से तैयार की गई है। रिपोर्ट के अनुसार, सरकारें यह सब राजनीति को प्रभावित करने के लिए ऑनलाइन प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल करती हैं। शोधकर्ताओं ने पाया कि 29 देश, घरेलू स्तर पर या बाहरी देश के लोगों के बीच ओपिनियन को तैयार करने के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल करती हैं। ऐसा माना जा रहा है कि ये रणनीति तानाशाही सरकारों  के साथ-साथ लोकतांत्रिक ढंग से चुनी गई सरकारों के द्वारा भी इस्तेमाल किया जाता है।

ऑक्सफोर्ड के कम्प्यूटेशनल प्रोपेगेंडा रिसर्च प्रोजेक्ट की लीडर ऑथर और शोधकर्ता सामन्था ब्रेडशॉ का मानना है कि सोशल मीडिया प्रोपेगेंडा कैंपेन को पहले की तुलना में ज्यादा मजबूत और संभव बनाती हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि मुझे नहीं लगता कि लोग ये जानते होंगे कि कितनी सरकारें उन तक पहुंचने के लिए इन साधनों का उपयोग करती हैं। इसे बहुत हद तक छिपाया जाता है।

सरकारों के सहयोग वाले ऑनलाइन ग्रुप की आदतें भिन्न-भिन्न होती हैं, जो फेसबुक में कमेंट करने और ट्विटर पर पोस्ट करने से लेकर व्यक्तिगत रूप  से एक-एक व्यक्ति को टारगेट करने जैसी होती है। इतना ही नहीं यह सरकारों के ग्रुप मैक्सिको और रूस में पत्रकारों तक का शोषण कर चुके हैं।


सरकारें ओरिजनल कंटेंट कहां से बन रही हैं, इसे सामने ना आने देने के लिए फेक अकाउंट्स का सहारा लेती हैं। बता दें सर्बिया में भी फेक अकाउंट बनाकर सरकारों के एजेंडे को प्रमोट करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। वहीं वियतनाम में भी ऐसे ही ब्लॉगर्स अपनी तरह से खबरों को फैलाने का काम करते हैं।

प्रोपेगेंडा सरकारों द्वारा उपयोग मे लाया जाने वाली यह एक गहरी कला है, जिसे टूल्स और ज्यादा एंडवास बनाते हैं। इन कामों को विशेषज्ञों की मदद से सरकारें पिछले कई सालों से करती आ रही हैं। 

इस रिपोर्ट से आशंका जताई जा रही है कि भारत में भी राजनीतिक पार्टियां सोशल मीडिया के द्वारा लोगों को गुमराह करने के इस सभी तरीकों का इस्तेमाल कर रही हैं।

Todays Beets: