Saturday, October 20, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

फेसबुक पर रहें सावधान फ्रेंड लिस्ट में एड दोस्त पहुंचा न दें जेल

अंग्वाल संवाददाता
फेसबुक पर रहें सावधान फ्रेंड लिस्ट में एड दोस्त पहुंचा न दें जेल

गोरखपुर। अगर आप सोशल मीडिया पर एक्टिव रहते हैं तो अब आपको पहले से भी ज्यादा सजग रहने की जरुरत है। सोशल मीडिया के जरिए शहर में तनाव फैलाने वालों पर पुलिस शिकंजा कसने की तैयारी में है। पुलिस अब आपकी फ्रेंड लिस्ट की भी जांच पड़ताल कर रही है। गलत लोगों को बिना सोचे समझे अपनी फ्रेंड लिस्ट में एड करना आपको भारी पड़ सकता है। पुलिस ने हाल ही में ऐसे सात लोगों को चिन्हित किया है जो लगातार सोशल मीडिया के जरिए समाज में तनाव फैलाने की साजिश रच रहे हैं। उन तक पहुंचने के लिए पुलिस उनके करीबियों को तलाश रही है। एसएसपी से बातचीत में उन्होंने बताया कि सोशल मीडिया पर धर्म, जाति और संप्रदाय को लेकर भड़काऊ टिप्पणी करने वालो के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं। इन सभी के दोस्तों को भी कार्रवाई के दायरे में लाया जाएगा।

ये भी पढ़ें - जम्मू—कश्मीर में दिखा सेना को फ्री हैंड देने का फायदा, इस साल अब तक 92 आतंकियों को किया ढेर

आपको बता दें कि हाल ही में सोशल मीडिया पर धर्म विशेष के साथ ही सीएम योगी को लेकर अभद्र टिप्पणी की जा रही थी। एक विशेष समुदाय के लोग देवी-देवताओं की तस्वीरों को सोशल मीडिया पर वायरल करके अफवाहें फैलाने में लगे थे। उनके साथ इन फोटो को शेयर करके एक- दूसरे तक पहुंचा रहे थे। करीब आधा दर्जन से ज्यादा ऐसे मामले एक माह के भीतर पुलिस के सामने आए हैं। आरोप के घेरे में आए लोगों के साथ उनकी फ्रेंड लिस्ट में जुड़े लोगों पर भी पुलिस कड़ी निगरानी बनाए हुए है। फेसबुक पर इन पोस्ट को लाइक, कमेंट्स और टैग करने वालों लोगों को भी जांच के दायरे में लाया जाएगा। 


ये भी पढ़ें - ड्रैगन की चालबाजी पर भारत की 'रुक्मणी' की निगाहें, हिंद महासागर में चीनी नौसेना की हर हरकत पर नजर

ऐसी स्थिति में बेहतर होगा कि सोशल मीडिया किसी भी गतिविधि को लेकर काफी सजग रहना चाहिए। हिंसा फैलाने वालों से जुड़े लोगों को भी जांच के दायरे में लाकर कार्रवाई होगी। आपत्तिजनक चीजें वायरल करने वालों के फ्रेंडस पर भी पुलिस शिकंजा कस सकती है।

Todays Beets: