Friday, October 20, 2017

Breaking News

   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||

फेसबुक पर रहें सावधान फ्रेंड लिस्ट में एड दोस्त पहुंचा न दें जेल

अंग्वाल संवाददाता
फेसबुक पर रहें सावधान फ्रेंड लिस्ट में एड दोस्त पहुंचा न दें जेल

गोरखपुर। अगर आप सोशल मीडिया पर एक्टिव रहते हैं तो अब आपको पहले से भी ज्यादा सजग रहने की जरुरत है। सोशल मीडिया के जरिए शहर में तनाव फैलाने वालों पर पुलिस शिकंजा कसने की तैयारी में है। पुलिस अब आपकी फ्रेंड लिस्ट की भी जांच पड़ताल कर रही है। गलत लोगों को बिना सोचे समझे अपनी फ्रेंड लिस्ट में एड करना आपको भारी पड़ सकता है। पुलिस ने हाल ही में ऐसे सात लोगों को चिन्हित किया है जो लगातार सोशल मीडिया के जरिए समाज में तनाव फैलाने की साजिश रच रहे हैं। उन तक पहुंचने के लिए पुलिस उनके करीबियों को तलाश रही है। एसएसपी से बातचीत में उन्होंने बताया कि सोशल मीडिया पर धर्म, जाति और संप्रदाय को लेकर भड़काऊ टिप्पणी करने वालो के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं। इन सभी के दोस्तों को भी कार्रवाई के दायरे में लाया जाएगा।

ये भी पढ़ें - जम्मू—कश्मीर में दिखा सेना को फ्री हैंड देने का फायदा, इस साल अब तक 92 आतंकियों को किया ढेर

आपको बता दें कि हाल ही में सोशल मीडिया पर धर्म विशेष के साथ ही सीएम योगी को लेकर अभद्र टिप्पणी की जा रही थी। एक विशेष समुदाय के लोग देवी-देवताओं की तस्वीरों को सोशल मीडिया पर वायरल करके अफवाहें फैलाने में लगे थे। उनके साथ इन फोटो को शेयर करके एक- दूसरे तक पहुंचा रहे थे। करीब आधा दर्जन से ज्यादा ऐसे मामले एक माह के भीतर पुलिस के सामने आए हैं। आरोप के घेरे में आए लोगों के साथ उनकी फ्रेंड लिस्ट में जुड़े लोगों पर भी पुलिस कड़ी निगरानी बनाए हुए है। फेसबुक पर इन पोस्ट को लाइक, कमेंट्स और टैग करने वालों लोगों को भी जांच के दायरे में लाया जाएगा। 


ये भी पढ़ें - ड्रैगन की चालबाजी पर भारत की 'रुक्मणी' की निगाहें, हिंद महासागर में चीनी नौसेना की हर हरकत पर नजर

ऐसी स्थिति में बेहतर होगा कि सोशल मीडिया किसी भी गतिविधि को लेकर काफी सजग रहना चाहिए। हिंसा फैलाने वालों से जुड़े लोगों को भी जांच के दायरे में लाकर कार्रवाई होगी। आपत्तिजनक चीजें वायरल करने वालों के फ्रेंडस पर भी पुलिस शिकंजा कस सकती है।

Todays Beets: