Sunday, April 22, 2018

Breaking News

   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||   बिहार: शराब और मुर्गे के साथ गश्त करने वाली पुलिस टीम निलंबित     ||   रेलवे की 90 हजार नौकरियों के आवेदन की आज लास्ट डेट, दो करोड़ 80 लाख कर चुके हैं अप्लाई     ||   कांग्रेस में बड़ा बदलाव: जनार्दन द्विवेदी की छुट्टी, गहलोत बने नए AICC महासचिव     ||   भारत ने चीन की तिब्बत सीमा पर भेजे और सैनिक, गश्त भी बढ़ाई     ||   अब कॉल सेंटर की नौकरियों पर नजर, अमेरिकी सांसद ने पेश किया बिल     ||   ब्लूमबर्ग मीडिया का दावा, 2019 छोड़िए 2029 तक पीएम रहेंगे नरेंद्र मोदी     ||   फेसबुक को डेटा लीक मामले से लगा तगड़ा झटका, 35 अरब डॉलर का नुकसान     ||

कैशलेस अर्थव्यवस्था भारत को पड़ सकती है भारी, लगातार बढ़ रहे हैं साइबर हमले

अंग्वाल संवाददाता
कैशलेस अर्थव्यवस्था भारत को पड़ सकती है भारी, लगातार बढ़ रहे हैं साइबर हमले

नई दिल्ली। देश में जैसे-जैसे कैशलेस अर्थव्यवस्था को बढ़ावा दिया जा रहा है, वैसे ही धीरे-धीरे साइबर खतरे भी बढ़ते जा रहे हैं। पिछले पांच सालों में बैंकिंग सिस्टम में साइबर हमलों की घटनाओं की संख्या उच्चस्तर पर पहुंच गई है। एसोचैम और पीडब्ल्यूसी द्वारा किए गए एक अध्ययन से प्राप्त जानकारी में बताया गया है कि पिछले साल हैकर्स ने अक्टूबर में भारतीय बैंकों के एटीएम कार्ड को निशाना बनाया था, जिससे करीब 32 लाख डेबिट कार्ड प्रभावित हुए थे।रिसर्च में बताया है कि व्यवसायों और व्यक्तियों द्वारा साइबर सुरक्षा को मजबूत करने की जरूरत बढ़ गई है।'

यह भी पढ़ेसामाजिक कार्यकर्ता तृप्ति देसाई पर मारपीट—लूटपाट का मामला दर्ज, महिलाओं को हक ​दिलाने के लिए जानी जाती हैं तृप्ति

रिसर्च रिपोर्ट के मुताबिक पिछले चार सालों में भारतीय वेबसाइटों पर हमला पांच गुना बढ़ा है। हालांकि साइबर सुरक्षा के लिए देश का बजटीय आवंटन वित्त वर्ष 2012-13 में करीब 42.2 करोड़ रुपये था। आंकड़ों के अनुसार  साइबर हमलों के खतरों के बावजूद वित्त वर्ष 2012-13 में साइबर सुरक्षा पर 42.2 करोड़ रुपये आवंटित किए गए थे। जो कि वित्त वर्ष 2010-11 की तुलना में 19 फीसदी अधिक है। जबकि अमेरिका इस मामले में 65.8 करोड़ डॉलर और यूएस-सीईआरटी 9.3 करोड़ डॉलर खर्च करता है।'


यह भी पढ़े-  सुखोई—30 विमान हादसे में शहीद पायलट के पिता ने प्रधानमंत्री को चिट्ठी लिखकर की हादसे की जांच की मांग

 आपको बता दें कि अध्ययन में यह भी बताया गया कि नोटबंदी के प्रभाव के कारण ई-वॉलेट सेवाएं और मोबाइल वॉलेट एप डाउनलोड में भारी वृद्धि हुई है। एसोचैम के महासचिव डी. एस. रावत ने कहा, 'भारत जैसे-जैसे कैशलेस अर्थव्यवस्था की तरफ बढ़ रहा है, वैसै-वैसे साइबर हमलों का खतरा भी बढ़ता जा रहा है। इसलिए हमें इसे निपटने के लिए तत्काल और बढ़े कदम उठाने पडेंगे।'

Todays Beets: