Tuesday, January 23, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

BSNL के ब्रॉडबैंड यूजर्स का एक बड़ा हिस्सा हुए साइबर अटैक का शिकार, कंपनी ने तुरंत पासवर्ड बदलने की दी सलाह

अंग्वाल संवाददाता
BSNL के ब्रॉडबैंड यूजर्स का एक बड़ा हिस्सा हुए साइबर अटैक का शिकार, कंपनी ने तुरंत पासवर्ड बदलने की दी सलाह

नई दिल्ली। बीएसएनल ने अपने ब्रॉडबैंड यूजर्स के लिए पासवर्ड बदलने की सूचना जारी की है। सरकारी दूरसंचार कंपनी बीएसएनल ने शुक्रवार को यह सूचना जारी करने का कारण इस हफ्ते कंपनी के एक भाग की ब्रॉडबैंड प्रणाली पर मैलवेयर वारयस का हमला बताया गया है। अमूनन लोग अपने ब्रॉडबैंड का पासवर्ड डिफॉल्ट ही छोड़ देते है, उसमें कोई बदलाव नहीं करते हैं। ऐसे में कंपनी ने बताया कि इसके चलते 2000 ब्रॉडबैंड यूजर्स को इस मैलवेयर वायलस हमले का शिकार होना पड़ा, जिन्होंने अपना पासवर्ड डिफॉल्ट रखा हुआ था। बीएसएनल के चैयरमेन ने कहा ‘ इस हमले से निपटा जा रहा है। हम ग्राहकों को सूचना जारी करके पासवर्ड को तुंरत बदलने की सलाह दे रहें। पासवर्ड बदलने के बाद वह बिना किसी चिंता के ब्रॉडबैंड का इस्तेमाल कर सकते हैं। मैलवेयर हमले के शिकार हुए यूजर्स के पासवर्ड को बदल दिया गया है, लेकिन वह अभी लॉगइन नहीं कर पा रहे हैं।

 

 


आपको बता दें कि इस वर्ष भारत में मैलवेयर वारयस के हमले तेजी से बढ़े हैं। इसमें रैंस्मवेयर से लेकर ट्रॉजन तक शामिल हैं जो, कंप्यूटर, इंटरनेट, नेटवर्किंग और स्मार्टफोन को प्रभावित करते हैं। इतना ही नहीं भविष्य में भी इन हमलों के बढ़ने की आशंका जताई जा रही है। इस मामले में सरकार और बैंकों को भी साइबर सिक्योरिटी विशेषज्ञों ने हमलों से बचने की सलाह दी है और डाटा को संरक्षित करने के लिए कहा है।  

 

Todays Beets: