Friday, August 17, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

आपके मोबाईल फोन से पैसे चुरा रहा है नया मालवेयर वायरस 

अंग्वाल संवाददाता
आपके मोबाईल फोन से पैसे चुरा रहा है नया मालवेयर वायरस 

नई दिल्ली। देश में एक नए मालवेयर कैफेकॉपी ट्रोजन का पता लग है। यह मालवेयर बिना  यूजर की जानकारी के उसके फौन से पैसे चुरा रहा है। साइबर सुरक्षा कंपनी कैस्परस्काई ने अपनी रिपोर्ट में इस बात का खुलासा किया है। रिपोर्ट के अनुसार, इस मालवेयर के करीब 40 फीसदी शिकार हुए लोग भारत के हैं। कैस्परस्काई लैब विशेषज्ञों ने पर्दाफाश किया है कि यह मोबाईल मालवेयर वैप बिलिंग भुगतान प्रणाली को निशाना बना रहा है। यह मालवेयर फोन के खाते से पैसे गायब कर रहा है। कैफेकॉपी ट्रोजन मालवेयर बैटरीमास्टर जैसे उपयोगी एप में छिपा होता है। ट्रोजन डिवाइसमें गोपनीय रूप से डाटा चुराने वाला कोड लोड कर देता है। 

यह भी पढ़े-  जियो के आने से एक साल में 98 फीसदी सस्ता हुआ है Internet Data pack

 

रिपोर्ट के अनुसार, एप के एक बार सक्रिय हो जाने पर कैफेकॉपी मालवेयर वायरलेस एप्लीकेशन प्रोटोकॉल बिलिंग के साथ वेब पेज पर क्लिक करता है। 


यह भी पढ़े- आपके फेसबुक प्रोफाइल को कौन देखता है चुपके-चुपके, जानने के लिए फोलो करें ये दो स्टेप

4800 से अधिक लोग शिकार 

एक महीने में कैफेकॉपी ट्रोजन ने 47 देशों में 4800 से अधिक उपभोक्ताओं को निशाना बनाया गया है। इन देशों में भारत, रूस, तुर्की और मैक्सिको आदि भी शामिल है। कैस्परस्काई लैब प्रोडक्ट ने 37.5 हमलों का पता लगाकर ब्लाॉक किया।  

Todays Beets: