Sunday, January 21, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

आपके मोबाईल फोन से पैसे चुरा रहा है नया मालवेयर वायरस 

अंग्वाल संवाददाता
आपके मोबाईल फोन से पैसे चुरा रहा है नया मालवेयर वायरस 

नई दिल्ली। देश में एक नए मालवेयर कैफेकॉपी ट्रोजन का पता लग है। यह मालवेयर बिना  यूजर की जानकारी के उसके फौन से पैसे चुरा रहा है। साइबर सुरक्षा कंपनी कैस्परस्काई ने अपनी रिपोर्ट में इस बात का खुलासा किया है। रिपोर्ट के अनुसार, इस मालवेयर के करीब 40 फीसदी शिकार हुए लोग भारत के हैं। कैस्परस्काई लैब विशेषज्ञों ने पर्दाफाश किया है कि यह मोबाईल मालवेयर वैप बिलिंग भुगतान प्रणाली को निशाना बना रहा है। यह मालवेयर फोन के खाते से पैसे गायब कर रहा है। कैफेकॉपी ट्रोजन मालवेयर बैटरीमास्टर जैसे उपयोगी एप में छिपा होता है। ट्रोजन डिवाइसमें गोपनीय रूप से डाटा चुराने वाला कोड लोड कर देता है। 

यह भी पढ़े-  जियो के आने से एक साल में 98 फीसदी सस्ता हुआ है Internet Data pack

 

रिपोर्ट के अनुसार, एप के एक बार सक्रिय हो जाने पर कैफेकॉपी मालवेयर वायरलेस एप्लीकेशन प्रोटोकॉल बिलिंग के साथ वेब पेज पर क्लिक करता है। 


यह भी पढ़े- आपके फेसबुक प्रोफाइल को कौन देखता है चुपके-चुपके, जानने के लिए फोलो करें ये दो स्टेप

4800 से अधिक लोग शिकार 

एक महीने में कैफेकॉपी ट्रोजन ने 47 देशों में 4800 से अधिक उपभोक्ताओं को निशाना बनाया गया है। इन देशों में भारत, रूस, तुर्की और मैक्सिको आदि भी शामिल है। कैस्परस्काई लैब प्रोडक्ट ने 37.5 हमलों का पता लगाकर ब्लाॉक किया।  

Todays Beets: