Monday, May 28, 2018

Breaking News

   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||

आपके मोबाईल फोन से पैसे चुरा रहा है नया मालवेयर वायरस 

अंग्वाल संवाददाता
आपके मोबाईल फोन से पैसे चुरा रहा है नया मालवेयर वायरस 

नई दिल्ली। देश में एक नए मालवेयर कैफेकॉपी ट्रोजन का पता लग है। यह मालवेयर बिना  यूजर की जानकारी के उसके फौन से पैसे चुरा रहा है। साइबर सुरक्षा कंपनी कैस्परस्काई ने अपनी रिपोर्ट में इस बात का खुलासा किया है। रिपोर्ट के अनुसार, इस मालवेयर के करीब 40 फीसदी शिकार हुए लोग भारत के हैं। कैस्परस्काई लैब विशेषज्ञों ने पर्दाफाश किया है कि यह मोबाईल मालवेयर वैप बिलिंग भुगतान प्रणाली को निशाना बना रहा है। यह मालवेयर फोन के खाते से पैसे गायब कर रहा है। कैफेकॉपी ट्रोजन मालवेयर बैटरीमास्टर जैसे उपयोगी एप में छिपा होता है। ट्रोजन डिवाइसमें गोपनीय रूप से डाटा चुराने वाला कोड लोड कर देता है। 

यह भी पढ़े-  जियो के आने से एक साल में 98 फीसदी सस्ता हुआ है Internet Data pack

 

रिपोर्ट के अनुसार, एप के एक बार सक्रिय हो जाने पर कैफेकॉपी मालवेयर वायरलेस एप्लीकेशन प्रोटोकॉल बिलिंग के साथ वेब पेज पर क्लिक करता है। 


यह भी पढ़े- आपके फेसबुक प्रोफाइल को कौन देखता है चुपके-चुपके, जानने के लिए फोलो करें ये दो स्टेप

4800 से अधिक लोग शिकार 

एक महीने में कैफेकॉपी ट्रोजन ने 47 देशों में 4800 से अधिक उपभोक्ताओं को निशाना बनाया गया है। इन देशों में भारत, रूस, तुर्की और मैक्सिको आदि भी शामिल है। कैस्परस्काई लैब प्रोडक्ट ने 37.5 हमलों का पता लगाकर ब्लाॉक किया।  

Todays Beets: