Sunday, May 27, 2018

Breaking News

   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||

चुनाव में डाटा लीक से सुरक्षा के लिए शुरू की हाॅट लाइन सर्विस, नेताओं को सिखाया जाएगा अकाउंट सुरक्षित रखने के गुर

अंग्वाल न्यूज डेस्क
चुनाव में डाटा लीक से सुरक्षा के लिए शुरू की हाॅट लाइन सर्विस, नेताओं को सिखाया जाएगा अकाउंट सुरक्षित रखने के गुर

नई दिल्ली। डाटा लीक होने के मामले के बीच फेसबुक ने भारतीय नेताओं को बड़ी राहत दी है। फेसबुक ने भारतीय नेताओं के लिए ई-मेल आधारित खास फीचर ‘साइबर थ्रेट क्राइसिस’ का ऐलान किया है। इस फीचर की मदद से भारत के नेताओं और राजनीतिक पार्टियों को डाटा सिक्योरिटी के लिए हॉटलाइन सर्विस दी जाएगी। इसके अलावा एक अंग्रेजी अखबार की खबरों के अनुसार फेसबुक भारत में होने वाले चुनावों के लिए एक इलेक्शन इंटिग्रिटी माइक्रोसाइट भी शुरू करने जा रहा है। 

गौरतलब है कि फेसबुक से डाटा लीक मामले में कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद से कंपनी को चेतावनी दी थी। फेसबुक ने कहा है कि इस हॉटलाइन सर्विस के तहत किसी भी तरह का डाटा लीक होने पर भारत सरकार के इलेक्ट्रॉनिक और आईटी मंत्रालय के अंतर्गत काम करने वाली कंप्यूटर इमर्जेंसी रिस्पॉन्स टीम indiacyberthreats@fb.com पर शिकायत कर सकती है।


ये भी पढ़ें - इंदौर कोर्ट का बड़ा फैसला, दुधमुंही बच्ची से दुष्कर्म करने वाले को दी सजा-ए-मौत

यहां बता दें कि सुरक्षा की दृष्टि से साइबर सिक्योरिटी गाइड भी जारी की है। इसके तहत साइबर सिक्योरिटी गाइड के जरिए राजनीतिक पार्टियों को फेसबुक पेज और अकाउंट को सुरक्षित रखने का गुर सिखाया जाएगा। इसमें टू फैक्टर ऑथेंटिकेशन और संदिग्ध लिंक्स पर क्लिक ना करने की सलाह दी गई है। बता दें कि अभी हाल ही में केंद्र सरकार ने फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग पर प्राईवेसी पर सवाल उठाए थे जिसके बाद फेसबुक ने यह फैसला लिया है।

Todays Beets: